ताज़ा खबर
 

…तो इसलिए चैम्पियंस ट्रॉफी में एशियाई देशों के लिए खास है बर्मिंघम का एजबेस्टन क्रिकेट स्टेडियम

बर्मिंघम ब्रिटेन का दूसरा सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला शहर है, जहां करीब 27 फीसद एशियाई व एशियाई ब्रिटिश रहते हैं।

एजबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड की तस्वीर। फोटो-रॉयटर्स।

चैम्पियंस ट्रॉफी-2017 खत्म होने में सिर्फ 3 मैच शेष रह गए हैं। पहला सेमीफाइनल इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच आज (14 जून) खेला जाएगा। वहीं आखिरी सेमीफाइनल मैच भारत और बांग्लादेश के बीच कल यानी 15 जून को खेला जाएगा। मेजबान टीम इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच होने वाला मैच कार्डिफ में खेला जाएगा और दूसरा सेमी फाइनल भारत और बांग्लादेश के बीच बर्मिंघम में होगा। दूसरे सेमी फाइनल को लेकर दोनों ही देशों के फैंस के भी काफी उत्साहित है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दूसरा सेमीफाइनल मैच बर्मिंघम में ही क्यों खेला जाएगा?

यह है वजह: एक हिंदी अखबार में छपी खबर के मुताबिक बर्मिंघम ब्रिटेन का दूसरा सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला शहर है, जहां करीब 27 फीसद एशियाई व एशियाई ब्रिटिश रहते हैं। इस वजह से एशियाई टीमों को समर्थन देने के लिए लोग काफी तादाद में आते हैं। इसके अलावा एक और खास वजह है, जिसकी वजह से एशियाई टीमें बर्मिंघम में आना काफी ज्यादा पसंद करती हैं। दरअसल भारतीय खाने में काफी मिर्च- मसाले इस्तेमाल किए जाते हैं, लेकिन विदेशों में ऐसा खाना ज्यादा नहीं मिलता। बर्मिंघम में एशियाई लोगों की संख्या ज्यादा होने की वजह से यहां कई भारतीय, पाकिस्तानी और बांग्लादेशी रेस्तरां हैं। ऐसे में विदेश में जाकर अपने घर जैसा खाना किसी को भी खूब रास आएगा।

3 जून को भारत और पाकिस्तान के बीच हुआ मुकाबला भी इसी वजह से बर्मिंघम में रखा गया था, जहां भारत ने शानदार खेल दिखाते हुए मैच में पाकिस्तान पर 124 रनों से जीत दर्ज की थी। इसके बाद 7 जून को पाकिस्तान और साउथ अफ्रीका के बीच हुआ मुकाबला भी इसी शहर में खेला गया था, जिसमें पाकिस्तान ने 19 रन से साउथ अफ्रीका टीम पर जीत हासिल की थी। ऐसे में 15 जून को भारत-बांग्लादेश के बीच होने वाले मैच से भी अटकलें यही लगाई जा रही हैं कि इस मैच में भी दोनों टीमों को समर्थन देने के लिए काफी भीड़ उमड़ेगी और मुकाबला काफी रोमांचक रहेगा।

चैंपियंस ट्रॉफी: भारत ने पाकिस्तान को दी करारी मात, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App