ताज़ा खबर
 

IND vs NZ: इन 5 कारणों से न्‍यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में टीम इंडिया को मिली जीत

टी-20 सीरीज के पहले मैच को शानदार तरीके से जीतने के बाद और दूसरे मैच में न्यूजीलैंड के क्रिकेटर्स द्वारा हारने के बाद सभी की निगाहें तीसरे और निर्णायक मुकाबले में थी।

इंडियन क्रिकेट टीम (फोटो सोर्स- पीटीआई)

न्यूजीलैंड के खिलाफ हुई वनडे सीरीज और टी-20 सीरीज दोनों पर ही भारत ने जीत हासिल करके नया कारनामा कर दिखाया। दोनों सीरीज को शानदार तरीके से जीतने के बाद भारत के क्रिकेटर्स में जहां उत्साह है तो वहीं लोगों के मन में भी खुशी की लहर दौड़ रही है। टी-20 सीरीज के पहले मैच को शानदार तरीके से जीतने के बाद और दूसरे मैच में न्यूजीलैंड के क्रिकेटर्स द्वारा हारने के बाद सभी की निगाहें तीसरे और निर्णायक मुकाबले में थी। मंगलवार को तिरुवनंतपुरम में हुए तीसरे मुकाबले में भारत की शानदार जीत तो सबने देखी, लेकिन कोई ये नहीं जानता कि इसके पीछे मुख्य कारण क्या है। महज 8-8 ओवरों के इस मुकाबले में जीत हासिल करना इंडियन क्रिकेट टीम के लिए आसान टास्क नहीं था।

तीसरे मैच में काफी कोशिश करने के बाद भी भारत की टीम किवी खिलाड़ियों के सामने महज 67 रनों का लक्ष्य ही रख सकी थी, लेकिन जसप्रीत बुमराह और युजवेंद्र चहल की गेंदबाजी के दम पर भारत ने न्यूजीलैंड को 6 रनों से हरा दिया।

टी-20 मैचों में अच्छा करने वाली न्यूजीलैंड की टीम को हराने के पीछे भारत के क्रिकेटर्स की कड़ी मेहनत तो थी ही, साथ ही कुछ ऐसे कारण भी थे, जिनके दम पर टीम इंडिया ने सीरीज पर कब्जा किया।

1. जीत के लिए ‘B’ का काम आना

टी-20 सीरीज में टीम इंडिया की बल्लेबाजों के साथ-साथ गेंदबाजों ने वो कारनामा कर दिखाया जो काफी मुश्किल था। टीम इंडिया का बी फेक्टर काफई काम आया। डेथ ओवर्स में भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह की गेंदबाजी ने भारत को संकट के क्षणों से निकाला। टी-20 सीरीज में कई ऐसे मौके आए जहां भारत के लिए मुश्किल बढ़ती हुई दिखाई दी, लेकिन बुमराह और भुवनेश्वर ने डेथ ओवर्स में कारनामा कर दिखाया। 8 ओवर वाले तीसरे टी-20 मुकाबले में बुमराह ने केवल 8 रन दिए और दो विकेट भी चटकाए। वहीं भुवनेश्वर कुमार ने दिल्ली में हुए पहले मैच में तीन ओवर में 23 रन दिए थे और 1 विकेट भी चटकाया था।

2. चहल के स्पिन के आगे सब तबाह

पूरी सीरीज में लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने बड़ा कारनामा कर दिखाया। उन्होंने पावर प्ले की स्थिति में काफी दबाव में भी बेहद सधी हुई गेंदबाजी की, जो कि किसी स्पिनर के लिए काफी मुश्किल होता है। पहले टी-20 मैच में उन्होंने दो बड़े विकेट चटकाए तो वहीं तीसरे मैच में केवल तीन रन देकर उन्होंने किवी टीम की परेशानी को दोगुना कर दिया।

3. रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी

इंडियन टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी ने गब्बर और हिटमेन की जोड़ी का काम किया। पहले टी-20 मैच में दिल्ली के कोटला स्टेडियम में रोहित शर्मा (80) और शिखर धवन (80) ने पहले विकेट के लिए 158 रनों की रिकार्ड साझेदारी की। इस मैच में भारत ने 20 ओवरों में तीन विकेट के नुकसान पर 202 रनों का विशाल स्कोर प्रदान किया था।

4. कप्तान कोहली की हिम्मत

न्यूजीलैंड को टी-20 सीरीज में 2-1 से हराकर कप्तान विराट कोहली ने इतिहास रच दिया। एक बल्लेबाज के रूप में और मैदान पर एक कप्तान के रूप में, कोहली ने हमेशा ही न्यूजीलैंड के दबाव में बेहतर किया। हालांकि पहले मैच में कोहली ने 11 गेंदों में तीन छक्के लगाकर 23 रन बनाए, वहीं दूसरे मैच में उन्होंने 65 रन बनाए भले ही राजकोट का यह मैच भारत हार गया हो, लेकिन कोहली ने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की। मंगलवार को हुए तीसरे मैच में भी कोहली ने 6 गेंदों में 13 रन बनाए, लेकिन इन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण एक कप्तान के रूप में कोहली का प्रदर्शन रहा।

5. स्टंप-माइक के विशेषज्ञ एमएस धोनी

भले ही पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने बल्ले के दम पर ज्यादा कमाल ना किया हो, लेकिन स्टंप के पीछे धोनी हमेशा से ही सफल रहे। पूरी सीरीज के दौरान धोनी ने लगभग-लगभग एक कमेंटेटर का रोल निभाया। गेंद स्टंप में लगी है या नहीं ये धोनी एक झटके में पहचान जाते हैं। वह खिलाड़ियों को डायरेक्शन भी देते हैं कि क्या करना चाहिए और क्या नहीं। ज्यादातर धोनी का कहा हुआ ही सच निकलता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App