ताज़ा खबर
 

अब मुश्किल होगा टीम इंडिया में जगह बनाना, यो-यो टेस्ट का स्कोर 17 करने की तैयारी में रवि शास्त्री

मोहम्मद शमी और अंबाती रायडू यो-यो टेस्ट पास करने में असफल रह चुके हैं। युवराज सिंह और संजू सैमसन को भी इसे पास करने में परेशानी का सामना करना पड़ा था।

RAVI SHASTRI with Bharat arun and virat kohliरवि शास्त्री को हाल ही में टीम इंडिया के मुख्य कोच की दोबारा जिम्मेदारी सौंपी गई है। (फाइल फोटो)

टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री खिलाड़ियों की फिटनेस को लेकर एक बड़ा फैसला करने वाले हैं। खबर है कि दोबारा कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने यो-यो टेस्ट का क्वालिफाइंग स्कोर 16.1 की जगह 17 करने का फैसला किया है। उनके इस नए फैसले के लागू होने के बाद खिलाड़ियों के लिए टीम में जगह बनाना और मुश्किल हो जाएगा। खासकर ऐसे क्रिकेटरों के लिए जो अपनी फिटनेस को लेकर बहुत जागरूक नहीं हैं।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पहले ही साफ कर चुका है टीम में जगह बनाने के लिए हर किसी के लिए यो-यो टेस्ट पास करना जरूरी शर्त है। मौजूदा समय में यो-यो टेस्ट का बेंचमार्क 16.1 है। जो भी क्रिकेटर यो-यो टेस्ट में इतने अंक हासिल कर लेता है तो उसका टीम में चयन के लिए रास्ता साफ हो जाता है।

सूत्रों की मानें तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए फिटनेस पर काफी जोर दिया जा रहा है। अब यो-यो टेस्ट का क्वालिफिकेशन बेंचमार्क 17 होगा। किसी भी खिलाड़ी को टीम में यदि अपनी जगह बनानी है तो यह न्यूनतम स्कोर लाना ही होगा। माना जा रहा है कि रवि शास्‍त्री इस मुद्दे को लेकर इससे जुड़े हितधारकों के साथ जल्द ही बैठक करने वाले हैं।

यो-यो टेस्ट एक एरोबिक एक्सरसाइज है। इसे डेनमार्क फुटबॉल के फिजियोथेरेपिस्ट जेन्स बैंग्‍स्बो ने विकसित किया है। इसके लिए 20 मीटर की दूरी पर दो पंक्तियां बनाई जाती हैं। जिसका टेस्ट होना होता है, उसे इन लाइन के बीच दौड़ना होता है। जैसे ही बीप बजती है, उसे मुड़ना होता है। हर एक मिनट के बाद बीप बजने का अंतराल बढ़ता जाता है। तय समय पर लाइन तक नहीं पहुंचे तो बीप और जल्दी-जल्दी बजने लगती है। अब तक हर खिलाड़ी को इस टेस्ट में कम से कम 16.1 या इससे ज्यादा अंक हासिल करना जरूरी होता है।

मोहम्मद शमी और अंबाती रायडू यो-यो टेस्ट पास करने में असफल रह चुके हैं। युवराज सिंह और संजू सैमसन को भी इसे पास करने में परेशानी का सामना करना पड़ा था।

यो-यो टेस्ट में फेल होने के कारण ये हो चुके हैं टीम से बाहर

खिलाड़ी
किस दौरे से बाहर हुए
अंबाती रायुडू इंग्लैंड दौरा (2018)
मोहम्मद शमी
अफगानिस्तान के खिलाफ (2018)
संजू सैमसन
भारतीय ए टीम (2018)
युवराज सिंह
चैंपियनशिप ट्रॉफी (2017)
सुरेश रैना
चैंपियनशिप ट्रॉफी (2017)
वॉशिंगटन सुंदर
ऑस्ट्रेलिया दौरा (2017)

Next Stories
1 पसंदीदा 400 मीटर स्पर्धा को क्वालिफाई नहीं कर पाईं हिमा, लेकिन विश्व चैंपियनशिप टीम में जगह मिली
2 Track Asia Cup: भारत ने साइकिलिंग में 4 गोल्ड मेडल सहित जीते 12 पदक
3 घरेलू हिंसा मामला: मोहम्मद शमी को गिरफ्तारी से छूट, जिला जज ने एसीजेएम के आदेश पर लगाई रोक
ये पढ़ा क्या?
X