T20 World Cup 2021: क्विटंन डीकॉक का घुटने टेकने से इंकार, नहीं माना दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड का फैसला; कट सकता है विश्व कप से पत्ता

इससे पहले भारतीय टीम ने भी रविवार को पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पूर्व ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ वैश्विक मुहिम के तहत घुटने के बल बैठकर नस्लवाद का विरोध किया था। मैच के बाद विराट कोहली ने कहा था कि उन्हें ऐसा करने के लिए टीम मैनेजमेंट की ओर से निर्देश मिले थे।

Quinton de Kock BLM movement Black Lives Matter SA vs WI world T20 T20 World Cup
दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट बोर्ड ने अपने सभी खिलाड़ियों के लिए मैच से पहले घुटने पर बैठना अनिवार्य कर दिया है। (सोर्स- ट्विटर/दिनेश कार्तिक)

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 में मुंबई इंडिंयस का हिस्सा रहे दक्षिण अफ्रीका के विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डीकॉक पर आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप से बाहर होने का खतरा मंडरा रहा है। दरअसल, दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट बोर्ड ने अपने सभी खिलाड़ियों के लिए मैच से पहले घुटने पर बैठना अनिवार्य कर दिया है। बोर्ड नस्लभेद के खिलाफ अपना समर्थन दिखाने के लिए ऐसा कर रहा है।

इसके बाद क्विंटन डीकॉक ने मैच खेलने से मना कर दिया। चूंकि, दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट बोर्ड ने अपने खिलाड़ियों को टी20 विश्व कप के उनके सभी मुकाबलों से पहले नस्लवाद के खिलाफ आंदोलन का घुटने के बल बैठकर समर्थन जताने का निर्देश दिया है। ऐसे में क्विंटन डिकॉक के विश्व कप के अन्य बचे मुकाबलों में भी खेलने की उम्मीद बेहद कम है।

सीएसए ने सोमवार यानी 25 अक्टूबर 2021 की शाम सर्वसम्मति से इस पर रजामंदी जताई कि दक्षिण अफ्रीका के सभी खिलाड़ी बाकी मैचों की शुरूआत से पहले घुटने के बल बैठेंगे। बोर्ड ने कहा, ‘सभी संबंधित मसलों पर गौर करने के बाद बोर्ड का यह मानना है कि दक्षिण अफ्रीका के इतिहास को देखते हुए नस्लवाद के खिलाफ एकजुट और लगातार विरोध प्रदर्शन जरूरी है।’

क्विंटन डिकॉक पहले भी नस्लभेद के खिलाफ एकजुटता दिखाने से मना कर चुके हैं। उनका कहना है कि हर इंसान की अपनी सोच होती है। किसी को भी कोई काम करने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता।

हालांकि, अब तक यह साफ नहीं हुआ है कि क्विंटन डिकॉक ने किस वजह से यह मैच खेलने से मना किया है। टॉस के बाद कप्तान टेम्बा बावुमा ने कहा कि क्विंटन डीकॉक निजी कारणों से नहीं खेल रहे हैं।

दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड ने 25 नवंबर 2020 को एक आदेश जारी किया था। उस आदेश में खिलाड़ियों को 3 विकल्प दिए गए थे, जिसके जरिए वो नस्लवाद के खिलाफ अपना समर्थन दे सकते हैं।

एक- खिलाड़ी घुटने के बल बैठ सकते थे। दूसरा- अपनी मुट्ठी ऊपर करके खड़े हो सकते थे। तीसरा- सावधान की मुद्रा में खड़े हो सकते थे। इसके बाद टेस्ट सीरीज में सभी खिलाड़ियों ने इनमें से कोई न कोई तरीका स्वीकार करके नस्लभेद का विरोध किया था। डिकॉक तब भी हाथ पीछे करके साधारण मुद्रा में खड़े नजर आए थे।

डीकॉक ने 12 जून 2021 को एक ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐसा करने की वजह बताने से इंकार कर दिया था। डीकॉक ने कहा था, ‘मेरे निजी कारण हैं। मैं इन्हें अपने तक ही सीमित रखूंगा। यह मेरी व्यक्तिगत सोच है। यह हर किसी का अपना फैसला होता है। कोई किसी को कुछ भी करने के लिए बाध्य नहीं कर सकता। मैं इसी तरीके से चीजों को देखता हूं।’

क्विंटन डीकॉक का टी20 फॉर्मेट में प्रदर्शन बेहद शानदार है। 28 साल के इस बाएं हाथ के बल्लेबाज ने 234 मैच में 34 के औसत से 7051 रन बनाए हैं। इसमें उनके 4 शतक और 44 अर्धशतक भी शामिल हैं। उनका 138 का स्ट्राइक रेट है।

इससे पहले भारतीय टीम ने भी रविवार को पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पूर्व ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ वैश्विक मुहिम के तहत घुटने के बल बैठकर नस्लवाद का विरोध किया था। मैच के बाद विराट कोहली ने कहा था कि उन्हें ऐसा करने के लिए टीम मैनेजमेंट की ओर से निर्देश मिले थे।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
चौथे टेस्‍ट की दोनों पारियों में शतक जड़कर रहाणे ने बनाया शानदार रिकॉर्ड, जानिए क्‍यों खास है उनकी सेंचुरीICC Test Rankings, ICC Test Batsmen Ranking, Ajinkya Rahane, Ravichandran Ashwin, Latest ICC Test ranking
अपडेट