Syed Mushtaq Ali Trophy: तमिलनाडु की नजर लगातार तीसरा फाइनल खेलने पर, दोनों हाथ से बॉलिंग करने वाले अक्षय बन सकते हैं कर्नाटक की राह में रोड़ा

हैदराबाद के लिए कप्तान तन्मय अग्रवाल 6 मैच में 333 और तिलक वर्मा 207 रन बना चुके हैं, लेकिन दूसरे बल्लेबाजों से भी सहयोग अपेक्षित है। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज चामा मिलिंद ने 6 मैच में 18 विकेट लिए हैं।

Vijay Shankar Akshay Karnewar Syed Mushtaq Ali Trophy Semi Final 1 Semi Final 2
इस सीजन तमिलनाडु की कमान विजय शंकर के हाथों में है। विदर्भ के अक्षय कर्णवार (दाएं) अब तक 7 मैच में सिर्फ 168 रन देकर 13 विकेट अपने नाम कर चुके हैं। (सोर्स- ट्विटर)

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (Syed Mushtaq Ali Trophy) 2021-22 का पहला सेमीफाइनल तमिलनाडु और हैदराबाद (Tamil Nadu vs Hyderabad) के बीच दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में सुबह 8:30 बजे से होना है, जबकि इसी मैदान पर दोपहर 1:00 बजे से होने वाले दूसरे सेमीफाइनल में कर्नाटक और विदर्भ (Karnataka vs Vidarbha) की टीमें आमने-सामने होंगी।

हैदराबाद और विदर्भ की टीमें इस टूर्नामेंट में अब तक एक भी मैच नहीं हारी हैं। तमिलनाडु की टीम गत चैंपियन हैं। मनीष पांडे की अगुआई वाली कर्नाटक के लिए अच्छी बात यह है कि उसके कप्तान की फॉर्म वापसी हो गई है। तमिलनाडु 2019 में भी फाइनल खेल चुका है। ऐसे में उसकी नजरें लगातार तीसरी बार फाइनल में जगह बनाने पर होंगी। खास यह है कि उसे 2019 फाइनल में कर्नाटक के हाथों हार मिली थी।

तमिलनाडु ने सेमीफाइनल में केरल पर शानदार जीत दर्ज करके सेमीफाइनल में जगह बनाई है। जगदीशन, सी हरि निशांत, बी साइ सुदर्शन सभी ने रन बनाए हैं। कप्तान विजय शंकर ने क्वार्टर फाइनल में अहम पारी खेली थी। एम शाहरुख खान आक्रामक बल्लेबाजी से किसी भी गेंदबाजी आक्रमण की बखिया उधेड़ सकते हैं। हालांकि, इस सत्र में तमिलनाडु के सिर्फ 3 बल्लेबाजों ने ही अर्धशतक लगाए हैं, लेकिन एक ईकाई के रूप में टीम सफल रही है और सामूहिक प्रयासों से यह सफलता मिली है।

स्पिन गेंदबाज हरफनमौला आर संजय यादव ने केरल के खिलाफ 30 से अधिक रन बनाने के अलावा दो विकेट भी लिए। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज टी नटराजन चोट के कारण क्वार्टर फाइनल नहीं खेल सके थे जिन्होंने टीम में वापसी की है।

दूसरी ओर हैदराबाद के लिए कप्तान तन्मय अग्रवाल 6 मैच में 333 और तिलक वर्मा 207 रन बना चुके हैं, लेकिन दूसरे बल्लेबाजों से भी सहयोग अपेक्षित है। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज चामा मिलिंद ने 6 मैच में 18 विकेट लिए हैं। वह इस प्रदर्शन को दोहराना चाहेंगे।

दूसरे सेमीफाइनल में विदर्भ को कर्नाटक के रूप में अब तक की सबसे कठिन चुनौती का सामना करना है। अक्षय वखारे की अगुआई वाली विदर्भ, राजस्थान को नौ विकेट से हराकर अंतिम 4 में पहुंची है, जबकि कर्नाटक ने क्वार्टर फाइनल में सुपर ओवर में बंगाल को हराया और जीत के सूत्रधार मनीष पांडे रहे।

विदर्भ के बल्लेबाज अथर्व तायडे, गणेश सतीश और कप्तान वखारे को अपना बेहतरीन फॉर्म जारी रखना होगा। सिद्धेश वाठ के नाकाम रहने पर विदर्भ ने क्वार्टर फाइनल में सतीश से पारी की शुरुआत कराई थी और यह फैसला सही साबित हुआ।

विदर्भ को अगर बड़ा स्कोर बनाना है तो शीर्ष 3 के साथ जितेश शर्मा, शुभम दुबे और अपूर्व वानखेड़े को भी अच्छा प्रदर्शन करना होगा। अब तक विदर्भ की सफलता में उसके गेंदबाजों की भूमिका अहम रही है।

ऐसे में दोनों हाथ से बॉलिंग करने में सक्षम और मिस्ट्री स्पिनर के रूप में चर्चित अक्षय कर्णवार और वखारे के आठ ओवर निर्णायक साबित हो सकते हैं। युवा तेज गेंदबाज यश ठाकुर ने भी अब तक अच्छा प्रदर्शन किया है।

कर्नाटक के लिए अच्छी बात मनीष पांडे का फॉर्म में लौटना है। सलामी बल्लेबाज रोहन कदम, बी आर शरत और मध्यक्रम में करूण नायर, अनिरूद्ध जोशी और अभिनव मनोहर से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी। गेंदबाजों में स्पिनर जगदीश सुचित और के सी करियप्पा जिम्मा संभालेंगे। विजय कुमार की अगुआई में तेज गेंदबाजों को भी अच्छा प्रदर्शन करना होगा।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
जानिए विराट कोहली के लिए आज का दिन क्यों है स्पेशल मोमेंट?