ताज़ा खबर
 

महंगे होटल ने स्टार क्रिकेटर्स को परोसा घटिया खाना, रोटी मांगने पर चावल मिला; खिलाड़ियों ने BCCI से शिकायत की

मुंबई के इस महंगे होटल में दिल्ली, मुंबई, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, केरल और पुदुचेरी की टीमें ठहरी हैं। दिल्ली की टीम में शिखर धवन और इशांत शर्मा जैसे स्टार खिलाड़ी हैं। मुंबई की टीम में भी सूर्यकुमार यादव, शिवम दुबे और धवल कुलकर्णी जैसे आईपीएल सितारे हैं।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: January 4, 2021 2:20 PM
Players complain of poor quality of foodस्टार खिलाड़ियों ने मुंबई के होटल में क्वारंटीन होने के दौरान घटिया खाना परोसे जाने की शिकायत की है। (सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

सैयद मुश्ताक अली क्रिकेट टूर्नामेंट में हिस्सा लेने गए स्टार क्रिकेटर्स को घटिया खाना मिलने की खबर है, वह भी तब जब उन्हें शानदार और महंगे होटल में ठहराया गया है। मुंबई के एक पॉश होटल में तीन घरेलू टीमों के खिलाड़ी ठहरे हुए हैं। इन्हें 6 दिनों का क्वारंटीन पीरियड पूरा करना है। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, खिलाड़ियों ने घटिया खाने मिलने की शिकायत भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से भी की है। सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी टी20 टूर्नामेंट 10 जनवरी से शुरू होना है।

दिल्ली, मुंबई, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, केरल और पुदुचेरी की टीमें मुंबई में ठहरी हैं। इनके मैच मुंबई में होने हैं। दिल्ली की टीम में शिखर धवन और इशांत शर्मा जैसे स्टार खिलाड़ी हैं। वहीं, केरल की टीम में एस श्रीसंत, रॉबिन उथप्पा और संजू सैमसन जैसे क्रिकेटर्स हैं। मुंबई की टीम में भी सूर्यकुमार यादव, शिवम दुबे और धवल कुलकर्णी जैसे आईपीएल सितारे हैं। मुंबई टीम के मैनेजर अरमान मलिक ने इस बात की पुष्टि की है कि पिछले दो दिन खिलाड़ियों ने भोजन की गुणवत्ता को लेकर शिकायत की थी। मलिक ने बताया, खिलाड़ियों ने हमसे शिकायत की कि भोजन की मात्रा और गुणवत्ता मानक से नीचे है। भोजन खिलाड़ियों की फिटनेस के लिहाज से पर्याप्त नहीं है। ये खिलाड़ी छह दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा होने के बाद खेल रहे होंगे। ऐसे में यह भोजन किसी भी तरह से अच्छा नहीं होगा।

इंडियन एक्सप्रेस ने भी तीनों टीमों के 10 खिलाड़ियों से बात की। सभी के विचार समान थे। कई क्रिकेटर्स ने कहा कि भोजन बहुत ठंडा था। यहां तक कि नाश्ता भी मानक से कम था। संबंधित टीम के प्रबंधकों ने होटल के शेफ से बात की है। उन्हें बेहतर गुणवत्ता का आश्वासन दिया गया था लेकिन ऐसा नहीं हुआ। टीमों ने भोजन देर से दिए जाने के बारे में भी शिकायत की है। यह तब था जब इस मामले को देखने के लिए टीमें पहले ही बीसीसीआई से संपर्क कर चुकी थीं।

एक खिलाड़ी ने बताया, रोटी पापड़ की तरह होती है। वे चावल परोस रहे हैं, जो कई खिलाड़ी खासतौर पर तेज गेंदबाज नहीं खाते। उन्हें डर है कि इस भोजन से उनका वजन बढ़ सकता है। हमें कम से कम एक अंडा या एक ग्रिल्ड चिकन चाहिए। कई खिलाड़ियों ने बाहर का खाना खाने की मंजूरी देने का भी अनुरोध किया है, लेकिन क्वारंटीन अवधि पूरी होने तक इसे अस्वीकार कर दिया गया था। क्रिकेटर्स का कहना है कि रोजाना रूम सर्विस से ऑर्डर देना बहुत महंगा है। एक खिलाड़ी ने कहा कि कमरे के मेनू के अनुसार ग्रिल्ड चिकन की कीमत 2,000 रुपए है।

बता दें कि बीसीसीआई ने टूर्नामेंट के लिए लगभग 90 कमरे लिए हैं। पदाधिकारियों ने टीम प्रबंधन से कहा है कि वे इस मुद्दे पर गौर करेंगे। टूर्नामेंट के लिए टीमों को बायो-बबल में सुरक्षित प्रवेश सुनिश्चित करने के लिए बीसीसीआई ने इस सीजन आवास प्रदान करने की जिम्मेदारी संभाली है।

Next Stories
1 NZ vs PAK: केन विलियमसन ने जड़ा शानदार शतक, तोड़ा सुनील गावस्कर का रिकॉर्ड; मैच में कराई टीम की वापसी
2 घर में गिरा कंगारु गेंदबाज, ‘टूट’ गईं पसलियां, सिडनी टेस्ट से पहले लगा ऑस्ट्रेलिया को झटका
3 ‘हमारे संग चिड़ियाघर के जानवरों जैसा व्यवहार नहीं हो,’ टीम इंडिया ने कोरोना नियमों पर उठाए सवाल
ये पढ़ा क्या?
X