ताज़ा खबर
 

सुनील गावस्‍कर बोले- अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर नहीं बची बीसीसीआई की कोई साख, सौरव गांगुली को बनाना चाहिए अध्‍यक्ष

सुनील गावस्कर ने कहा कि अदालत ने जुलाई में ही फैसला सुना दिया था और अब तक वो उस पर अमल का इंतजार कर रही थी।

गांगुली ने साथ ही चयनकर्ताओं की रोटेशन नीति का भी समर्थन किया। (Express Photo by Partha Paul)

भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सेक्रेटरी अजय शिर्के को पद से हटाने जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस पूरे मामले से बीसीसीआई की अंतरराष्ट्रीय छवि तारतार हो गई है। गावस्कर ने बीसीसीआई की कमान संभालने के लिए सौरभ गांगुली को उपयुक्त उम्मीदवार भी बताया है।

सुनील गावस्कर ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि इस मामले की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बीसीसीआई की साख खत्म हो गई है। गावस्कर ने कहा कि ये भारतीय क्रिकेट के लिए नए दौर की शुरुआत है। सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई में सुधार के लिए गठित लोढ़ा समिति की सिफारिशों न मानने के लिए अनुराग ठाकुर और अजय शिर्के को पद से हटा दिया। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश टीए ठाकुर की पीठ ने  ने ठाकुर को अदालत को गुमराह करने और हलफनामा देकर झूठ बोलने पर सफाई मांगी है। अदालत ने ठाकुर से पूछा है कि उन पर इसके लिए कार्रवाई क्यों नहीं की जाए?

अदालत के फैसले पर टिप्पणी करते हुए गावस्कर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट जब एक बार फैसला दे देता है तो उसे स्वीकार करना पड़ता है। गावस्कर ने कहा कि अदालत ने जुलाई में ही फैसला सुना दिया था और अब तक वो उस पर अमल का इंतजार कर रही थी। गावस्कर ने कहा कि ऐसी कोई संस्था नहीं है जिसमें सुधार की गुंजाइश न हो और ये अच्छी बात है कि राज्य क्रिकेट संघ चुनावों में क्रिकेट खिलाड़ी शामिल हो सकते हैं।

जब गावस्कार से ये पूछा गया कि उनकी नजर में बीसीसीआई के नए अध्यक्ष के लिए सबसे उपयुक्त उम्मीदवार कौन हो सकता है तो उन्होंने पूर्व क्रिकेटर और पूर्व भारतीय कप्तान सौरभ गांगुली को नाम लिया। गावस्कर ने कहा कि बीसीसीआई के पास काफी अच्छे लोग हैं जो बड़ी भूमिका निभा सकते हैं और एक नाम जो मेरे दिमाग में आ रहा है वो सौरभ गांगुली का है। गावस्कर ने याद दिलाया कि 199-2000 में मैच फिक्सिंग का मामला जब सामने आया तो उसके बाद गांगुली को भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी सौंपी गई और वो इस पर खरे उतरे। गांगुली फिलहाल पश्चिम बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में सट्टेबाजी का मामला सामने आने के बाद देश की सर्वोच्च अदालत ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश आरएम लोढ़ा की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया था। लोढ़ा समिति ने  बीसीसीआई समेत राज्य क्रिकेट संघों में सुधार के कई सुझाव दिए थे। बीसीसीआई ने लोढ़ा समिति की सभी सिफारिशों को मानने से इनकार कर दिया था। मामले अभी अदालत में लंबित है।

वीडियोः जानिए BCCI अध्यक्ष पद से अनुराग ठाकुर के हटाए जाने के बाद क्या हो सकता है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App