ताज़ा खबर
 

केशव महाराज ने टेस्ट मैच की एक पारी में चटकाए 9 विकेट, ये गेंदबाज भी कर चुके हैं कारनामा

महाराज ने पहले दिन का अंत आठ विकेट के साथ किया था। दूसरे दिन शनिवार को उन्होंने रंगना हेराथ (35) को आउट कर अपने नौ विकेट पूरो किए।

केशव महाराज। (Photo Courtesy: ICC)

दक्षिण अफ्रीका के बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज केशव महाराज ने शनिवार को श्रीलंका के खिलाफ अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। उन्होंने श्रीलंकाई बल्लेबाजों को सिंहली स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन 338 रनों पर रोक दिया। महाराज ने इस मैच की पहली पारी में 129 रन देकर नौ विकेट लिए। वह ऐसा करने वाले कुल 19वें और हग टेफील्ड के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका के दूसरे गेंदबाज बन गए हैं। टेफील्ड ने 1957 में इंग्लैंड के खिलाफ जोहान्सबर्ग में 113 रन देकर नौ विकेट लिए थे। अभी तक सिर्फ जिम लेकर (10/53) और पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले (10/74) ने टेस्ट मैच की एक पारी में 10 विकेट लिए हैं।

महाराज ने पहले दिन का अंत आठ विकेट के साथ किया था। दूसरे दिन शनिवार को उन्होंने रंगना हेराथ (35) को आउट कर अपने नौ विकेट पूरो किए। एक विकेट कागिसो रबादा के हिस्से आया। महाराज के प्रदर्शन को हालांकि उनकी टीम के बल्लेबाजों का साथ नहीं मिला और दक्षिण अफ्रीका पहली पारी में 124 रनों पर ढेर हो गई।

केशव महाराज से पहले जॉर्ज लोहमैन, जिम लेकर, मुथैया मुरलीधरन, रिचर्ड हेडली, अब्दुल कादिर, डेवोन मैल्कॉम, जसुभाई पटेल, कपिल देव, सरफराज नवाज, जैक नॉर्जिया, सुभाष गुप्ते, सिडनी बार्न्स, हग टायफील्ड, ऑर्थर मिली और रंगना हेराथ ऐसा कारनामा कर चुके हैं। मुरलीधरन 2 बार एक पारी में 9 विकेट चटका चुके हैं। अनिल कुंबले और जिम लेकर एक पारी में 10-10 शिकार कर चुके हैं, जिस रिकॉर्ड की बराबरी तो हो सकती है लेकिन उसे कभी तोड़ा नहीं जा सकता।

virat kohli

बता दें कि मैच में श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए शानदार शुरुआत की सलामी बल्लेबाज धनुष्का गुणाथिलिका और दिमुथ करुणारत्ने के बीच 116 रन की साझेदारी हुई, जिसने टीम को मजबूती दी। धनुष्का ने 57, जबकि करुणारत्ने ने 53 रन की शानदार पारी खेली। श्रीलंका को पहला झटका 116 रन पर लगा। अभी महज 1 रन ही बना था कि दूसरा झटका भी लग गया। इसके बाद धनंजय डी सिल्वा ने पारी को संभालने की कोशिश की। सामने छोर पर कुशल मेंडिस कुछ देर तक डटे रहे लेकिन 21 रन से ज्यादा ना बना सके।

डी सिल्वा को दूसरे छोर पर मजबूत साथ नहीं मिला और छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आए रोशन सिल्वा भी 22 रन का योगदान देकर चलते बने। यहां से श्रीलंका की टीम उबर नहीं सकी और केशव महाराज एक के बाद एक झटके देते गए। हालांकि अकीला धनंजय ने नाबाद 43 रन जरूर बनाए लेकिन श्रीलंका 338 रन पर ही सिमट गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App