scorecardresearch

‘भारतीय कारोबारी ने कोकीन देने के बाद किया था स्पॉट फिक्सिंग के लिए ब्लैकमेल,’ जिम्बाब्वे के पूर्व कप्तान ब्रेंडन टेलर का खुलासा

Spot Fixing, Match Fixing Plot, Zimbabwe Cricketer Blackmailed: ब्रेंडन टेलर ने ट्विटर पोस्ट पर अपने साथ भारत में स्पॉन्सरशिप के बहाने हुई स्पॉट फिक्सिंग की साजिश को लेकर खुलासा किया है। उन्होंने भारतीय कारोबारी का जिक्र किया है

Spot Fixing, Match Fixing, Cocaine Blackmailing, Brendan Taylor, Former Zimbabwe Captain
ब्रेंडन टेलर ने पिछले साल ही अपने 17 साल लंबे इंटरनेशनल करियर को अलविदा कह दिया था (सोर्स- ट्विटर)

जिम्बाब्वे के पूर्व कप्तान ब्रेंडन टेलर ने खुलासा किया है कि उनको भारत में बुकीज के द्वारा स्पॉट फिक्सिंग के लिए फोर्स किया गया था। उनके मुताबिक, स्पॉन्सरशिप के बहाने उन्हें धोखा दिया गया और ब्लैकमेल किया गया था। टेलर ने ऑफिशियल ट्विटर पर 4 पेज का लेटर शेयर किया। उन्होंने इस लेटर को अपना आधिकारिक बयान बताया। लेटर में उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह कभी मैच फिक्सिंग का हिस्सा नहीं रहे।

ब्रेंडन टेलर ने अपने चार पन्ने के स्टेटमेंट में ट्विटर पर लिखा:-

“मेरा यह स्टेटमेंट आईसीसी द्वारा पाए गए आरोपों के लिए है। अक्टूबर 2019 में मुझसे एक भारतीय कारोबारी ने संपर्क किया। मुझे स्पॉन्सरशिप और जिम्बाब्वे में टी20 प्रतियोगिता शुरू करने के लिए 15000 अमेरिकी डॉलर ऑफर किए गए। उस वक्त जिम्बाब्वे क्रिकेट द्वारा 6 महीने से हमारा भुगतान नहीं किया गया था और हमें यह भी नहीं पता था जिम्बाब्वे इंटरनेशनल क्रिकेट खेलेगा भी या नहीं। इसलिए मैंने ऑफर स्वीकार कर लिया।”

“इसके बाव वह कारोबारी मुझे अपने साथी के साथ सेलिब्रेट करने के लिए डिनर पर ले गया। वहां ड्रिंक्स के बाद उन्होंने मुझे कोकीन भी ऑफर किया। मैंने उसे ले लिया और उन्होंने मेरा वीडियो बना लिया। अगली सुबह मुझे वह वीडियो दिखाकर उन लोगों ने मुझे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर मैंने उनके लिए इंटरनेशनल लेवल पर मैच स्पॉट फिक्स नहीं किए तो वह मेरा वीडियो पब्लिक कर देंगे।”

“होटल के कमरे में मैं अकेला था और वह 6 लोग वहां पर थे। मुझे डर लग रहा था। मुझे 15000 अमेरिकी डॉलर मिले थे और 20000 हजार अमेरिकी डॉलर बाद में देने का वादा किया था। मैंने पैसे ले लिए थे क्योंकि मुझे भारत छोड़कर जाना था और फ्लाइट लेनी थी। उसके बाद घर पहुंचकर मैं काफी तनाव में था। मुझे परिवार की चिंता भी सता रही थी। वह लोग मुझसे पैसे वापस मांग रहे थे जिसे मैं नहीं लौटा पाया।”

“मुझे सभी की सुरक्षा के कारण आईसीसी को इसकी जानकारी देने में 4 महीने का वक्त लग गया। आशा करता हूं इस देरी को समझा जाएगा और मैंने अपनी इच्छा से आईसीसी को इस बात की जानकारी दी थी। मैंने कई एंटी-करप्शन सेमीनार ज्वाइन की हैं और मुझे पता है कि यह सब क्या होता है।”

आईसीसी (ICC) की एंटी करप्शन यूनिट ब्रेंडन टेलर के खिलाफ कार्रवाई करने और उन पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि पूर्व क्रिकेटर ने आईसीसी को 4 महीने बाद यह जानकारी दी थी।

35 वर्षीय टेलर ने बताया कि वह यह बोझ पिछले 2 साल से लेकर घूम रहे थे। वह कुछ भी हो सकते हैं लेकिन एक चीटर (फिक्सर) नहीं। उन्होंने बताया कि वह डरे हुए थे। उन्हें अपने परिवार की सुरक्षा की चिंता थी। आईसीसी जो भी फैसला करेगी मैं उसको खुशी-खुशी स्वीकार करने के लिए तैयार हूं।

ब्रेंडन टेलर के करियर पर एक नजर

ब्रेंडन टेलर ने पिछले साल ही अपने 17 साल लंबे इंटरनेशनल क्रिकेट करियर को अलविदा कहा था। 2004 में उन्होंने जिम्बाब्वे के लिए वनडे डेब्यू श्रीलंका के खिलाफ किया था। उन्होंने अपने देश के लिए 205 वनडे मैच में 6684 रन बनाए हैं। वहीं 34 टेस्ट में 2320 और 45 टी20 में उनके नाम 934 रन दर्ज हैं।

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.