ताज़ा खबर
 

कभी छोटे कद के कारण जसप्रीत बुमराह का उड़ा था मजाक, पहली गेंद में ही कर दी थी सेलेक्टर्स की ‘बोलती बंद’

जसप्रीत बुमराह ने बताया था, ‘क्रिकेट के लिए मैं हमेशा मैदान जाने के लिए तैयार रहता था। जितना हो सके मैं खेलता था। मुझे मजा आता था उस वक्त। तो क्रिकेट के लिए कभी मोटिवेशन की जरूरत ही नहीं पड़ी, कि जाओ, प्रैक्टिस करो, खेलो।’

Jasprit Bumrah Childhood Memoryजसप्रीत बुमराह ने अपने पहले रणजी ट्रॉफी मैच में 7 विकेट लिए थे। (सोर्स- यूट्यूब स्क्रीनशॉट/क्रिकबज)

जसप्रीत बुमराह टीम इंडिया के यार्कर किंग कहे जाते हैं। पांच फुट साढ़े 8 इंच लंबा यह गेंदबाज डेथ ओवर्स का स्पेशलिस्ट माना जाता है। वैसे सच यह है कि बचपन में उनकी लंबाई बहुत ज्यादा नहीं थी। इसका कारण उनका मैदान पर मजाक भी उड़ा था। हालांकि, तब बुमराह ने ‘पूत के पांव पालने में…’ वाली कहावत चरितार्थ की थी। उन्होंने ऐसी गेंद फेंकी थी कि सेलेक्टर्स ने दांतों तले अंगुलियां दबा ली थीं। सेलेक्टर्स को भरोसा हुआ था कि वह अच्छे तेज गेंदबाज बन सकते हैं।

जसप्रीत बुमराह ने क्रिकबज के यूट्यूब शो ‘Spicy Pitch’ में यह बात खुद बताई थी। बुमराह ने कहा था, ‘मेरा मानना है कि यदि गेंदबाज अच्छा करते हैं तो आप मैच जीतते हैं। बैट्समैन आते जाएंगे, क्योंकि हमारी फैक्टरी है। इंडिया में आप देखोगे कि बैट्समैन तो मिल जाएंगे। प्रेजेंट जनरेशन में एक अच्छा गेंदबाज बनना मुश्किल है, इसलिए आपको कठिन मेहनत करनी पड़ती है। यदि आप कठिन मेहनत करते हैं तो आप अपना लक्ष्य हासिल कर सकते हैं।’ बुमराह ने यह भी बताया था कि वह हमेशा से क्रिकेट का लुत्फ उठाते रहे हैं। जितना हो सकता था वे क्रिकेट खेलते थे।

बुमराह ने बताया, ‘क्रिकेट के लिए मैं हमेशा मैदान जाने के लिए तैयार रहता था। जितना हो सके मैं खेलता था। मुझे मजा आता था उस वक्त। तो क्रिकेट के लिए कभी मोटिवेशन की जरूरत ही नहीं पड़ी, कि जाओ, प्रैक्टिस करो, खेलो। अपने आप से ही इतना मजा आता था तो खुद ही चले जाते थे ग्राउंड पर।’

बुमराह ने कहा था, ‘किसी भी दूसरे बच्चे की तरह मैंने भी शुरू किया था। जैसे बच्चे अपने मौज-मस्ती के लिए दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलते हैं, तो मेरा भी वही था। हालांकि, देश के लिए खेलने का सपना मैं बचपन से देखता था। आप नहीं जानते हैं कि आप वहां पहुंच सकते हैं या नहीं, क्योंकि यह देश बहुत बड़ा है। इतने सारे लोग खेलते हैं। लेकिन अंतत: आप जब मंजिल पर पहुंच जाते हैं तो सफर अच्छा हो जाता है।’

बुमराह ने बताया कि बचपन में उनकी हाइट बहुत ज्यादा नहीं थी। उन्होंन पहली बार टीम में चयन का अपना अनुभव शेयर करते हुए कहा, ‘सेलेक्टर्स ने मेरी तरफ देखा और कहा ये दुबला-पतला लड़का है। उस समय मेरी हाइट भी काफी कम थी। उन्होंने कहा कि यह क्या करेगा। यह नहीं कर पाएगा। चलो दो गेंदें फेंककर दिखाओ। हालांकि, जैसे ही मैंने पहली गेंद फेंकी, उनका रिएक्शन बदल गया। वे बोले, अरे हमने ऐसी उम्मीद नहीं की थी। हमने नहीं सोचा था कि यह इतनी जल्दी और तेज गेंद फेंक पाएगा।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी: महेंद्र सिंह धोनी के विकेटकीपर ने लगाई चौके-छक्कों की झड़ी, पॉइंट टेबल में टॉप पर पहुंची टीम
2 ‘परी हूं मैं’ गाने पर झूमकर नाचीं युजवेंद्र चहल की वाइफ धनश्री वर्मा, इंटरनेट पर धमाल मचा रहा Video
3 ऋषभ पंत का गार्ड खरोचने के मामले में स्टीव स्मिथ ने दी सफाई, ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर ने किया ‘काउंटर अटैक’
ये पढ़ा क्या?
X