ताज़ा खबर
 

सौरव गांगुली ड्रेसिंग रूम से दिखा रहे थे अंगुली, मोहम्मद कैफ ने छक्का जड़ की थी बोलती बंद; युवी संग चैट में हुआ था खुलासा

युवराज सिंह ने कैफ से कहा था, ‘तुम जब बैटिंग करने आए तो तुमने ग्लव मारा और बोला खेलेंगे। तो मैंने कहा- हां खेलेंगे। वह एक शब्द था। उसके बाद हमारी पार्टनरशिप हुई। हम अच्छा कर रहे थे। ‘दादा’ ने जब अंगुली दिखाकर चिल्लाया था, तो उसके बाद क्या हुआ था बताओ अगली गेंद पर?’

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: January 4, 2021 6:00 PM
Yuvraj Singh Sourav Ganguly Mohammad Kaif NatWest Seriesमोहम्मद कैफ ने यह तस्वीर 13 जुलाई 2020 को अपने ट्विटर पर शेयर की थी। साल 2002 में इसी दिन टीम इंडिया ने इंग्लैंड को हरा नेटवेस्ट ट्रॉफी अपने नाम की थी। (सोर्स- ट्विटर/मोहम्मद कैफ)

साल 2002 में भारत ने नेटवेस्ट सीरीज (NatWest Series) के फाइनल में इंग्लैंड को हराया था। उसके बाद सौरव गांगुली ने लार्ड्स की बॉलकनी से अपनी टीशर्ट लहराकर एंड्रयू फ्लिंटॉफ को जवाब दिया था। भारत की उस जीत में मोहम्मद कैफ का बड़ा हाथ था। उन्होंने उस मैच में 75 गेंद में नाबाद 87 रन की पारी खेली थी। इसमें 9 चौके और एक छक्का शामिल था। हालांकि, उस मैच से पहले शायद सौरव गांगुली को कैफ पर बहुत ज्यादा भरोसा नहीं था। वह मैच के दौरान कैफ को बार-बार अंगुली दिखाकर युवराज सिंह को स्ट्राइक देने का इशारा कर रहे थे। हालांकि, कैफ ने छक्का लगाकर अपने कप्तान को जवाब दिया था। छक्के वाले शॉट के बाद से सौरव गांगुली ने कैफ को अंगुली दिखानी बंद कर दी थी।

इस बात का खुलासा मोहम्मद कैफ और युवराज सिंह की इंस्टाग्राम पर लाइव चैट के दौरान हुआ था। बता दें कि उस मैच में इंग्लैंड ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी थी। उसने 50 ओवर में 5 विकेट पर 325 रन का विशाल स्कोर खड़ा कर दिया था। लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी हुई थी। वीरेंद्र सहवाग और सौरव गांगुली ने पहले विकेट के लिए 106 रन की साझेदारी की थी। सौरव 60 रन के निजी स्कोर पर पवेलियन लौट गए। टीम का स्कोर जब 114 रन था, तब वीरेंद्र सहवाग (45 रन) भी आउट हो गए। इन दोनों की जगह आए दिनेश मोंगिया और सचिन तेंदुलकर भी ज्यादा नहीं खेल पाए। राहुल द्रविड़ भी 5 रन के स्कोर पर पवेलियन लौट गए। भारत 24 ओवर में सिर्फ 146 रन के स्कोर पर 5 विकेट गंवा चुका था। इसके बाद युवराज और कैफ ने पारी को आगे बढ़ाया। दोनों ने छठे विकेट के लिए 17.4 ओवर में 121 रन की साझेदारी की थी।

इंस्टाग्राम लाइव चैट के दौरान युवराज सिंह ने कैफ से कहा था, ‘तुम जब बैटिंग करने आए तो तुमने ग्लव मारा। तुमने बोला खेलेंगे। तो मैंने कहा- हां खेलेंगे। बस वह एक शब्द था। उसके बाद हमारी पार्टनरशिप हुई। हम अच्छा कर रहे थे। हम विकेट के बीच भी अच्छा भागे। बीच में मैं थोड़ा चौका-वौका मार रहा था। तो ‘दादा’ ने जब अंगुली दिखाकर चिल्लाया उधर से कि युवी को एक दे एक। उसके बाद क्या हुआ था बताओ अगली गेंद पर?’

इस पर कैफ ने कहा, ‘अगली गेंद तो शॉर्ट बॉल थी। मुझे तो पुल मारने का उस टाइम कीड़ा था। जहां बॉल शॉर्ट दिखी मैं पुल मारता था। वह गेंद बैट में कनेक्ट हो गई, छह रन चला गया।’ युवराज ने कहा, ‘फिर आपने आकर क्या बोला मुझे?’ कैफ ने कहा, ‘मैंने बोला होगा कि यार सिंगल-सिंगल बोल रहा है, खराब बॉल पर शॉट तो लगाऊंगा भाई।’ युवराज ने कहा, ‘नहीं नहीं नहीं…। आपने छक्का मारकर मुझे मुक्का मारा और बोला हम भी खेलने आए हैं। उसके बाद दादा चुप हो गया। दादा को समझ आ गई थी कि भई ये खिलाड़ी भी छक्का मार सकता है।’

मोहम्मद कैफ ने कहा, ‘हां, उस शॉट से उनको थोड़ा लगा हां भई यह युवराज सिंह का साथ देगा। उस शॉट से पहले मुझे याद है कि कोई न कोई पानी लेकर मैदान में आने के लिए तैयार था। मेरे ख्याल से यह मैसेज भेजना था कि भई कैफ को बोलो कि सिंगल ले, युवराज सिंह को स्ट्राइक दे। जब वह शॉट छक्का लग गया तो दादा ने बोला अब कोई नहीं हिलेगा, जहां हो वहीं बैठे रहो।’

Next Stories
1 सिडनी में विराट कोहली और हार्दिक पंड्या ने भी तोड़ा था प्रोटोकॉल, ऑस्ट्रेलियाई मीडिया की रिपोर्ट में दावा
2 टीम इंडिया को ‘छोटा सा बलिदान’ देना होगा, ‘सौतेले व्यवहार’ की शिकायत पर भारतीय क्रिकेटर्स से बोले ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर
3 महंगे होटल ने स्टार क्रिकेटर्स को परोसा घटिया खाना, रोटी मांगने पर चावल मिला; खिलाड़ियों ने BCCI से शिकायत की
ये पढ़ा क्या?
X