ताज़ा खबर
 

सौरव गांगुली ने कहा- टी20 के बिना क्रिकेट चल नहीं सकता

सौरव गांगुली ने पत्रकारों से कहा, ‘‘हमारी टीम में मनीष पांडे, हार्दिक पंड्या और अन्य युवा खिलाड़ी हैं। हमें उन्हें वीरेंद्र सहवाग और हरभजन सिंह जैसा बनने के लिए समय देना होगा।’’

Author कोयंबटूर | February 23, 2018 7:40 PM
इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और पूर्व खिलाड़ी सौरव गांगुली (एक्सप्रेस फोटो)

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने शुक्रवार को ट्वेंटी20 टूर्नामेंट का पक्ष लेते हुए कहा कि इसके बिना क्रिकेट का खेल चल नहीं सकता। गांगुली से क्रिकेटरों के बिना किसी विश्राम के विभिन्न प्रारूपों में लगातार खेलने के बारे में पूछा गया, उन्होंने कहा, ‘‘ट्वेंटी20 क्रिकेट के लिए बहुत जरूरी है। टी20 के बिना क्रिकेट चल नहीं सकता।’’ दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम के प्रदर्शन के बारे में गांगुली ने कहा कि उनके लिए यह अब तक अच्छा दौरा रहा है और उन्होंने एकदिवसीय श्रृंखला में बेहतरीन प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि वे शनिवार का मैच (टी20) भी जीतने में सफल रहेंगे।’’

चयन नीति के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि यह पहले भी पारदर्शी थी और अब भी वैसी ही है तथा कई युवा भारतीय खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। एक कार्यक्रम के सिलसिले में कोयंबटूरपहुंचे गांगुली ने पत्रकारों से कहा, ‘‘हमारी टीम में मनीष पांडे, हार्दिक पंड्या और अन्य युवा खिलाड़ी हैं। हमें उन्हें वीरेंद्र सहवाग और हरभजन सिंह जैसा बनने के लिए समय देना होगा।’’ पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘धोनी एकदिवसीय और टी20 मैचों में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। उन्होंने जो योगदान दिया है आपको उसका सम्मान करना चाहिए और अन्य को भी चमकने का मौका मिलेगा।’’

भारतीय क्रिकेटरों की फिटनेस को अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के समान बताने वाले गांगुली ने महिला टीम की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय महिला क्रिकेट बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही है। क्या आपने हरमनप्रीत कौर से लंबा छक्का लगाते हुए किसी को देखा है। हालांकि पुरुष टीम बेहतर है।’’

वहीं दूसरी तरफ, बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) अध्यक्ष सौरव गांगुली और सौराष्ट्र क्रिकेट संघ के अध्यक्ष मधुकर वोरा ने बीसीसीआई को शुक्रवार को पत्र लिखकर राज्य संघों के संविधान में संशोधन में और लोढ़ा समिति की सभी सिफारिशें लागू करने में कुछ व्यावहारिक मुश्किलों के बारे में जानकारी दी। बीसीसीआई सचिव अमिताभ चौधरी ने हाल में सभी राज्य संघों को ईमेल भेजकर संविधान में बदलाव की जानकारी मांगी थी और सूचित किया कि 13 इकाईयों ने पालन करने का और इस संबंध में हलफनामा पेश करने का फैसला किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App