scorecardresearch

सौरव गांगुली-राहुल द्रविड़ भी तो कभी वर्ल्ड कप नहीं जीते, मैं गंदी चादर Public में नहीं धोता; बोले रवि शास्त्री, देखें Video

Ravi Shastri on Virat Kohli and Sourav Ganguly Communication: विराट कोहली और सौरव गांगुली के बीच क्या बातचीत हुई के सवाल पर रवि शास्त्री ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि दोनों के बीच क्या संवाद हुआ। मैंने उनसे बात नहीं की है। जब मुझे उनसे बात करने का मौका मिलता है, तो मैं अपना दृष्टिकोण रखने के लिए बोल सकता हूं।’

Ravi Shastri | Virat Kohli | Sourav Ganguly | Rahul Dravid | Watch Video
रवि शास्त्री ने यह भी कहा कि सचिन तेंदुलकर को जीतने से पहले 6 वर्ल्ड कप खेलने पड़े। (सोर्स- एएनआई/रवि शास्त्री इंस्टाग्राम)

WATCH VIDEO: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच रवि शास्त्री ने एक बार फिर विराट कोहली (Virat Kohli) का बचाव किया है। उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, ‘मुझे बताओ कि पिछले कई वर्षों में कितनी टीमें ऐसी रहीं जो इतने लंबे समय तक लगातार अच्छा प्रदर्शन कर पाईं।’ यही नहीं, रवि शास्त्री विराट कोहली के अपनी कप्तानी में एक भी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाने के सवाल पर भी भड़क गए।

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने कहा, ‘यह कोई सवाल नहीं है कि आप किसी को वर्ल्ड कप जीतने के आधार पर जज करें। दिन के अंत में, आपको इस बात पर आंका जाता है कि आप कैसे खेलते हैं, क्या आप ईमानदारी के साथ खेल खेलते हैं। क्या आप लंबे समय तक खेले। दिन के अंत में आप इस तरह खिलाड़ियों को जज करते हैं।’

अपनी कप्तानी में विराट कोहली के वर्ल्ड कप नहीं जीतने के सवाल पर शास्त्री ने कहा, ‘वह ठीक है। वर्ल्ड कप बहुत बड़े-बड़े प्लेयर नहीं जीते। सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) कभी जीता नहीं है वर्ल्ड कप। राहुल द्रविड़ नहीं जीते हैं। अनिल कुंबले नहीं जीते। वीवीएस लक्ष्मण भी नहीं जीते। रोहित शर्मा नहीं जीते। इसका मतलब यह थोड़े ही है कि वे सब खराब प्लेयर हैं।

उन्होंने कहा, ‘एक खिलाड़ी के तौर पर आपका काम यह होना चाहिए कि आप मैदान पर जाएं और खेलें। वर्ल्ड कप जीतने वाले कप्तान कितने हैं। सिर्फ दो हैं। सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulakar) को भी जीतने से पहले 6 वर्ल्ड कप खेलने पड़े।’

सौरव गांगुली और टीम इंडिया के खिलाड़ियों से से जुड़ा सवाल पूछने पर रवि शास्त्री ने कहा, ‘एक बात साफ है कि मैं PUBLIC (सार्वजनिक स्थल पर) में गंदी चादर नहीं धोता। मैं अपने किसी खिलाड़ी के बारे में सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं करना चाहता…।’

रवि शास्त्री ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि दोनों पक्षों (सौरव गांगुली और विराट कोहली) के बीच क्या संवाद हुआ। मैंने उनसे बात नहीं की है, जब मुझे उनसे बात करने का मौका मिलता है, तो मैं अपना दृष्टिकोण रखने के लिए बोल सकता हूं। जब आपके पास आधी जानकारी हो तो चुप रहना चाहिए। जब आपको पूरा ज्ञान हो, तब बोलना चाहिए।’

यह पूछे जाने पर कि क्या रोहित शर्मा अगले टेस्ट कप्तान बनने के लिए पर्याप्त फिट हैं, शास्त्री ने कहा, ‘मैंने तीन महीने से क्रिकेट नहीं देखा है, जब मैं क्रिकेट देखता हूं तो मैं अपना फैसला दे सकता हूं। अगर मैंने नहीं देखा है तो मैं मेरा फैसला नहीं दूंगा।’

टेस्ट कप्तान के रूप में पद छोड़ने के अपने फैसले की घोषणा करते हुए अपने नोट में, विराट कोहली ने रवि शास्त्री और एमएस धोनी को उनके निरंतर समर्थन के लिए धन्यवाद दिया था। रवि शास्त्री ने टेस्ट कप्तानी छोड़ने के विराट कोहली के फैसले को लेकर भी अपनी राय रखी।

रवि शास्त्री ने कहा, ‘हर चीज का एक समय होता है, आपको विराट की पसंद का सम्मान करना होगा। अतीत में कई खिलाड़ी अपनी बल्लेबाजी या क्रिकेट पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कप्तानी छोड़ चुके हैं, चाहे वह सुनील गावस्कर हों या कोई भी। मुझे नहीं लगता कि कोहली में ज्यादा बदलाव होगा।’

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.