ताज़ा खबर
 

‘सौरव गांगुली से करता था नफरत, उन्होंने हर बार टॉस के लिए इंतजार कराया’, बोले इंग्लैंड के पूर्व कप्तान

पूर्व इंग्लिश कप्तान ने कहा कि गांगुली ने भारतीय टीम को मजबूत और मुश्किल बनाया। गांगुली के नेतृत्व में जब टीम इंडिया नेटवेस्ट सीरीज जीती थी तब नासिर ही इंग्लैंड के कप्तान थे।

सौरव गांगुली पिछले साल बीसीसीआई के अध्यक्ष बने थे। (सोर्स – सोशल मीडिया)

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने कहा है कि वे अपने दौर में सौरव गांगुली से नफरत करते थे। गांगुली ने उन्हें हमेशा टॉस के लिए इंतजार कराया है। नासिर ने 2002 में इंग्लैंड और भारत के बीच हुए नेटवेस्ट सीरीज के फाइनल को याद कर ये बातें कहीं। उन्होंने मौजूदा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अध्यक्ष की तारीफ भी की। पूर्व इंग्लिश कप्तान ने कहा कि गांगुली ने भारतीय टीम को मजबूत और मुश्किल बनाया। गांगुली के नेतृत्व में जब टीम इंडिया नेटवेस्ट सीरीज जीती थी तब नासिर ही इंग्लैंड के कप्तान थे।

स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ में आशीष नेहरा के सामने कहा, ‘‘गांगुली ने टीम इंडिया को मजबूत बनाया। गांगुली से पहले भी टीम इंडिया टैलेंटेड साइड थी। अच्छी टीम थे। वे लोग जमीन से जुड़े थे। मिलने पर गुड मॉर्निंग विश करते थे। वह भी एक अच्छा अनुभव है। अब बात करते हैं गांगुली की टीम की। गांगुली भारतीय क्रिकेट फैंस के जुनून को जानते थे। वे आक्रामक थे। उन्हें आक्रामक खिलाड़ी भी मिले थे।’’

नासिर ने आगे कहा, ‘‘उनकी टीम में युवराज सिंह और हरभजन सिंह जैसे कई आक्रामक खिलाड़ी थे। लेकिन जब आप उनसे बाहर मिलते तो सभी अच्छे हैं। सौरव के खिलाफ खेलने के दौरान मैं उनसे नफरत करता था। उन्होंने मुझे हर बार टॉस के दौरान इंतजार कराया। मैं अब उनके साथ कमेंट्री बॉक्स में एक दशक से ज्यादा समय से काम कर रहा हूं। वहां भी वे लेट से आते हैं। वे एक शानदार आदमी है। जब उनके साथ खेलता था तो पसंद नहीं करता लेकिन अब अच्छे दोस्त हैं।’’

नेटवेस्ट ट्रॉफी फाइनल को याद करते हुए कहा, ‘‘सौरव ने बालकनी में शर्ट उतारी थी। इससे पहले मुंबई में एंड्रयू फ्लिंटॉफ ने ऐसा किया था। उन्होंने इसके जरिए पूरे विश्व में एक संदेश पहुंचाया कि हम भारतीय हैं और किसी से नहीं डरने वाले हैं। गांगुली के बाद एमएस धोनी आए। उनके सामने चुनौती थी कि उस आक्रमकता का इस्तेमाल ट्रॉफी जीतने में करें। भारत टूर्नामेंट नहीं जीत पाता था। लेकिन धोनी के आने के बाद 2007 में टी20 वर्ल्ड कप, 2011 में वर्ल्ड कप औऱ 2014 में चैंपियंस ट्रॉफी जीतने में सफल रहा।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 माता-पिता ने अपने इलाज के लिए बचाए थे 16 लाख, किशोर बेटे ने PUBG गेम खेलने में उड़ा दी सारी रकम
2 गुजरात में फर्जी बर्थ सर्टिफिकेट से क्रिकेट खेल रहे युवा, मामले में सामने आया मुनाफ पटेल का नाम
3 महेंद्र सिंह धोनी Love Story: साक्षी को पसंद नहीं था क्रिकेट, लेकिन माही के करियर के तीन मोमेंट्स को रखती हैं याद
ये पढ़ा क्या?
X