ताज़ा खबर
 

दादा को आंखों के सामने मारी गई थी गोली, 7 साल शरणार्थी कैंप में रह चुके हैं क्रोएशियाई कप्तान लुका मोड्रिक

युद्ध के माहौल में भी लुका का फुटबॉल के प्रति प्रेम कम नहीं हुआ। वह रिफ्यूजी कैंप के बाहर ही घंटों फुटबॉल खेलते रहते। प्राइमरी स्कूल में दाखिला लिया और वहां से फुटबॉल कि स्किल को निखारना शुरू कर दिया।

लुका मोड्रिक। (Photo Courtesy: FIFA)

फीफा विश्व कप इतिहास में क्रोएशिया को पहली बार फाइनल में पहुंचाने वाले कप्तान लुका मोड्रिक का जन्म 9 सितंबर 1985 में जदा शहर में हुआ था। उस वक्त क्रोएशिया युगोस्लोवाकिया का हिस्सा था। स्वतंत्रता के लिए कई वर्षों तक युद्ध चलता रहा, जिसका प्रभाव मोड्रिक पर भी पड़ा। 6 भाई-बहनों में सबसे बड़े मोड्रिक ने युद्ध के हालात के बीच अपना बचपन गुजारा।

क्रोएशिया सन् 1990 में स्वंतत्र देश बन चुका था। साल 1991 में लुका मोड्रिक की उम्र 6 वर्ष थी। बाल्कन युद्ध में सर्बिया आर्मी ने उनके गांव जेटोन ओवरोवाकी पर हमला किया। इस हमले में लुका के घर को जला दिया गया। लुका के दादा को उनकी ही आंखों के सामने गोली मार दी गई। लुका की मां टेक्सटाइल वर्कर थीं और पिता कार मैकेनिक। इस हमले के बाद परिवार ने रिफ्यूजी कैंप में शरण ली।

लुका मोड्रिक। (Photo Courtesy: Twitter)

युद्ध के माहौल में भी लुका का फुटबॉल के प्रति प्रेम कम नहीं हुआ। वह रिफ्यूजी कैंप के बाहर ही घंटों फुटबॉल खेलते रहते। प्राइमरी स्कूल में दाखिला लिया और वहां से फुटबॉल कि स्किल को निखारना शुरू कर दिया। कद में छोटे और शरीर में पतले बेहद शर्मीले स्वभाव के लुका को कोच ने कई बार खारिज भी किया। टीम में अक्सर जगह ना मिलती लेकिन लुका ने हार नहीं मानी और खुद को साबित किया।

पत्नी और बेटे के साथ लुका मोड्रिक। (Photo Courtesy: Twitter)

रियाल मैड्रिड की ओर से खेलने वाले 32 वर्षीय लुका 2003-8 तक डायनेमो जेग्रेब के लिए भी खेल चुके हैं। 2001 में उन्हें क्रोएशिया अंडर-15 टीम में मौका मिला और 2006 में वह सीनियर टीम का भी हिस्सा बने।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App