रावलपिंडी एक्सप्रेस की रफ्तार पर लगेगा विराम, ऑस्ट्रेलिया में घुटने बदलवाएंगे शोएब अख्तर; सोशल मीडिया पर खुद पोस्ट कर दी जानकारी

शोएब अख्तर घुटनों की समस्या से अपने पूरे करियर के दौरान जूझते रहे। उन्होंने 2011 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने का फैसला किया। 2019 में हुई सर्जरी के बाद अख्तर ने अब अपने घुटनों को बदलवाने की जानकारी इंस्टाग्राम पर शेयर की है।

shoaib-akhtar-knee-replacement-to-take-place-in-melbourne-australia-pakistan-cricket-team-pacer-rawalpindi-express-posted-information-on-his-instagram-account
शोएब अख्तर पाकिस्तानी जर्सी में रनअप के दौरान (बाएं), रावलपिंडी एक्सप्रेस ने शेयर की फोटो (सोर्स- Geo TV, Instagram @imshoaibakhtar)

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के स्टार तेज गेंदबाज रहे शोएब अख्तर के घुटनों की समस्या कोई नई बात नहीं है। अक्सर वे अपने घुटनें के दर्द की जानकारी साझा करते आए हैं। इसी कड़ी में एक बार फिर रावलपिंडी एक्सप्रेस ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर एक जानकारी शेयर करते हुए बताया कि वे अब ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में अपने घुटनों का रिप्लेसमेंट करवाने जा रहे हैं।

शोएब अख्तर ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर रविवार रात को पोस्ट किया और लिखा कि, ‘मेरे दौड़ने के दिन अब खत्म होते हैं। क्योंकि मैं अब पूरी तरह से अपने घुटनों के रिप्लेसमेंट के लिए जल्द ही ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न जा रहा हूं।’ इससे पहले भी अख्तर अपने घुटनों की समस्या के बारे में बता चुके हैं।

आपको बता दें कि 2019 में भी उनके घुटनों की सर्जरी हुई थी। 29 अगस्त 2019 को उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया था जिसमें वे अस्पताल में लेटे दिख रहे थे और उनके घुटनों पर पट्टी बंधी हुई थी। उन्होंने लिखा था कि,’सभी फैंस की दुआ से मेरे घुटनों का ऑस्ट्रेलिया में सफल ऑपरेशन हो गया है। मैं अपने दोस्तों के लिए एक शॉर्ट वीडियो बना रहा हूं।’

‘हर मैच के बाद मेरे घुटनों से खून निकालते थे डॉक्टर’

2019 अगस्त में ही शोएब अख्तर ने अपने यूट्यूब चैनल पर बताया था कि, हर मैच के बाद मेरे घुटनों से खून निकालते थे डॉक्टर। वैसे तो अख्तर अपने घुटनों की समस्या से पूरे करियर में ही जूझते रहे हैं लेकिन इस साल उनके घुटनों में समस्या ज्यादा बढ़ गई थी। उन्होंने इसी दौरान बताया था कि अपने करियर के दौरान हर मैच के बाद डॉक्टर उनके घुटनों से खून निकाला करते थे।

पाकिस्तानी पेसर ने एक वाकिये को याद करते हुए बताया था कि,’टेस्ट मैच के बाद मैं डॉक्टर के पास गया और उन्होंने बताया कि मैं केवल दो ही साल तक खेल सकता हूं। हर मैच के बाद मेरे घुटने से खून निकाला जाता था। साथी क्रिकेटर यह सोचते थे कि मैं किसी क्लब में जाता हूं पर हकीकत में मैं हॉस्पिटल में होता था। घुटनों के दर्द के साथ भी मैंने अपना अंतरराष्ट्रीय करियर 14 साल तक खींचा।’

टेस्ट मैच के बाद डॉक्टर के पास गया और उन्होंने बताया केवल दो ही साल और खेल सकता हूं। डाक्टर लोग हर मैच के बाद मेरे घुटने से खून निकाला करते थे। साथी क्रिकेटर यह सोचते थे कि मैं किसी क्लब में जाता हूं पर हकीकत में मैं हॉस्पिटल में मुझे चार सुईयां लगाई जाती थी।’ शोएब ने हालांकि हार नहीं मानी और दर्द में खेलने का फैसला किया। उनके अपना अंतरराष्ट्रीय करियर 14 साल तक खिंचा।

गौरतलब है कि शोएब अख्तर ने 2011 में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया था। उन्होंने 46 टेस्ट, 163 वनडे और 15 टी20 इंटरनेशनल मैच अपने देश के लिए खेले। उनके नाम सबसे तेज 161.3 किमी प्रति घंटे की गेंद फेंकने का भी रिकॉर्ड है।

शोएब ने टेस्ट मैचों में 25.69 की औसत से 178 विकेट चटकाए, वनडे इंटरनेशनल में उनके नाम 24.97 की औसत से 247 विकेट दर्ज हैं। इसके अलावा टी20 इंटरनेशनल में अख्तर ने 22.73 की औसत से 19 विकेट अपने नाम किए हैं। उन्होंने अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ 2011 में वनडे खेला था।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट