Shikhar Dhawan Not Lose Temperance Bad Time Against South Africa - Jansatta
ताज़ा खबर
 

ख़राब दौर में संयम नहीं खोने से मिली सफलता: शिखर धवन

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एमसीजी में 137 रन की धमाकेदार पारी खेलने वाले भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने कहा कि खराब दौर में संयम बनाये रखना विश्व कप के पहले दो मैचों में उनकी सफलता का सूत्र रहा। विश्व कप से पहले वनडे त्रिकोणीय श्रृंखला में धवन अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाये थे लेकिन […]

Author February 23, 2015 5:05 PM
चैंपियन्स ट्रॉफी 2013 के दौरान भी धवन ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 114 रन की मैच विजेता पारी खेली थी लेकिन उन्होंने हाल की पारी को बेहतर करार दिया। (फ़ोटो-एपी)

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एमसीजी में 137 रन की धमाकेदार पारी खेलने वाले भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने कहा कि खराब दौर में संयम बनाये रखना विश्व कप के पहले दो मैचों में उनकी सफलता का सूत्र रहा।

विश्व कप से पहले वनडे त्रिकोणीय श्रृंखला में धवन अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाये थे लेकिन टूर्नामेंट में वह शानदार फॉर्म में लौट आये। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ भारत की जीत में 73 रन बनाये और फिर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना सातवां वनडे शतक जड़ा। बायें हाथ का यह बल्लेबाज इस चोटी की टीम के खिलाफ शतक जड़ने से बेहद खुश है।

धवन ने बीसीसीआई.टीवी से कहा, ‘‘अपने पहले विश्व कप में ही शतक जड़ना शानदार अहसास है। लेकिन मुझे सबसे बड़ी खुशी इससे मिली कि हम विश्व कप में पहली बार दक्षिण अफ्रीका को हराने में सफल रहे। वह दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक है और प्रतियोगिता में बड़ी टीमों को हराने से संतुष्टि मिलती है। बड़ी टीमों के खिलाफ रन बनाने से और अच्छा लगता है।’’

धवन को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे और अंतिम टेस्ट मैच से हटा दिया गया था। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ त्रिकोणीय श्रृंखला में भी उनका बल्ला नहीं चल पाया था। वह अब फॉर्म में लौटकर खुश हैं। उन्होंने कहा, ‘‘फॉर्म में वापसी करके बहुत अच्छा लग रहा है। मैं पिछले तीन महीने से इस पल का इंतजार कर रहा था। मैंने इस दौर में धैर्य से काम लेने की पूरी कोशिश की। जब मैं रन नहीं बना पा रहा था तब परेशान नहीं रहा। मेरा विश्वास था कि बुरे दिनों के बाद अच्छे दिन भी आएंगे। उस समय मेरे लिये शांतचित रहना महत्वपूर्ण था।’’

धवन ने कहा, ‘‘संयम बनाये रखने और शांतचित बने रहने से मुझे अच्छे परिणाम हासिल करने में मदद मिली। मुझे उस दौर में कभी नहीं लगा कि मैं अच्छी बल्लेबाजी नहीं कर पा रहा हूं। मैं 20 या 30 रन पार करने के बाद आउट हो रहा था। अब मैं उस अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदल रहा हूं। मुझे खुशी है कि मैं विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में ऐसा कर रहा हूं।’’

चैंपियन्स ट्रॉफी 2013 के दौरान भी धवन ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 114 रन की मैच विजेता पारी खेली थी लेकिन उन्होंने हाल की पारी को बेहतर करार दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने कार्डिफ में जो शतक बनाया था उसकी तुलना में मैं इस शतक को बेहतर करार दूंगा। आज मैंने काफी समझ बूझ के साथ बल्लेबाजी की। उस पारी के बाद मैं काफी परिपक्व बन गया हूं। अब मैं खेल को बेहतर तरीके से समझ रहा हूं और मैंने समय के साथ सबक सीखे हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि यहां से मेरा खेल और बेहतर होगा।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App