ताज़ा खबर
 

वीडियो: शांताकुमारन श्रीसंत ने चार साल में पहली बार की गेंदबाजी, कहा-मैं कभी हार नहीं मानूंगा

श्रीसंत बीसीसीआई द्वारा सहायता प्राप्त किसी भी एसोसिएशन में मैच प्रैक्टिस नहीं कर सकते ना ही बीसीसीआई से संबद्ध किसी संस्था के लिए क्रिकेट खेल सकते हैं।

Author नई दिल्ली | January 25, 2017 1:30 PM
आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में बीसीसीआई का प्रतिबंध झेल रहे पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज शांताकुमारन श्रीसंत।(Photo: Twitter)

अब वह भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के चहेते नहीं रहे ना ही बन सकते हैं। हालांकि, चार साल पहले तक ऐसा नहीं था। वह भारत की दो विश्व कप विजेता टीमों का हिस्सा रहे और एक विश्व कप में जीत दिलाने में उनका योगदान बहुमूल्य रहा। लेकिन, उन्होंने खुद ही अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली। अब उनकी छवि इतनी खराब हो चुकी है कि उसे दोबार ठीक नहीं किया जा सकता। भले ही कोर्ट से उन्हें सबूतों के आभाव में बरी कर दिया गया हो, लेकिन बीसीसीआई उन्हें माफी देने के मूड में नहीं है। जी हां, हम बात कर रहे हैं आईपीएल मैच फिक्सिंग के केंद्र में रहे शांताकुमारन श्रीसंत के बारे में। उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वो चार सालों के बाद बॉलिंग करते हुए नज़र आ रहे हैं।

गौरतलब है कि बीसीसीआई ने श्रीसंत को आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग विवाद के बाद अपने किसी भी मैच या टूर्नामेंट में खेलने से प्रतिबंधित कर दिया था। श्रीसंत बीसीसीआई द्वारा सहायता प्राप्त किसी भी एसोसिएशन में मैच प्रैक्टिस नहीं कर सकते ना ही बीसीसीआई से संबद्ध किसी संस्था के लिए क्रिकेट खेल सकते हैं। शांताकुमारन श्रीसंत ने हाल ही में स्कॉटलैंड में जाकर एसोसिएट्स टीमों के लिए क्रिकेट खेलने की इच्छा जाहिर की थी और बीसीसीआई से इसके लिए नॉन आॅब्जेक्शन सर्टिफिकेट देने की मांग की थी। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताकिब उनकी इस मांग को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने ठुकरा दिया है और इस तरह श्रीसंत अब भारत से बाहर जाकर भी कहीं क्रिकेट नहीं खेल सकते।

श्रीसंत ने जो वीडियो शेयर किया है उसमें वो पुराने दिनों की तरह दूर से रनअप लेते हुए दिख रहे हैं। उनके सामने दाहिने हाथ का बल्लेबाज है। श्रीसंत गेंद डालते हैं और वो पिच होने के बाद बल्लेबाज को छोड़ती हुई आॅफ स्टंप से बाहर निकल जाती है। इस बारे में श्रीसंत ने कहा, ‘पिछले चार सालों में पहली बार गेंदबाजी करना सुखद है और इससे कभी भी हार ना मानने की प्रेरणा मिलती है।’ गौरतलब है कि शांताकुमारन श्रीसंत जब भारत के लिए प्रतिस्पर्धात्मक क्रिकेट में खेलते थे तब वो गेंद सीम पोजिशन का बेहतरीन इस्तेमाल करने के लिए विख्यात थे। हलांकि, वीडियो में दिख रहा है कि 33 वर्षीय श्रीसंत की गेंद में उतनी तेजी नहीं है और बल्लेबाज के पर्याप्त मौका रहता है कि वो उस गेंद को थर्डमैन बाउंड्री की तरफ खेल सके।

विकेटकीपर ने किया धोनी के अंदाज में रनआउट, अब नियम पर उठ रहे हैं सवाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App