ताज़ा खबर
 

शाहरुख ने बताया, मैं चाहता हूं अबराम बड़ा होकर भारत के लिए हॉकी खेले

हॉकी पर आधारित 2007 में आई सुपरहिट फिल्म ‘चक दे! इंडिया’ में मुख्य भूमिका निभाने वाले शाहरुख खान का हॉकी से लगाव किसी से छुपा नहीं है। बालीवुड में खेल पर बनी सबसे अधिक प्रेरक फिल्मों में शामिल ‘चक दे! इंडिया’ में शाहरुख ने भारतीय महिला हॉकी टीम के कोच कबीर खान की भूमिका निभाई थी।

Author कोलकाता | April 9, 2018 20:57 pm
शाहरुख खान अपने बेटे अबराम के साथ। (Source: BCCI)

बॉलीवुड सुपरस्टार और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) टीम कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के सह मालिक शाहरुख खान चाहते हैं कि उनका छोटा बेटा अबराम बड़ा होकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हॉकी में भारत का प्रतिनिधित्व करे। हॉकी पर आधारित 2007 में आई सुपरहिट फिल्म ‘चक दे! इंडिया’ में मुख्य भूमिका निभाने वाले शाहरुख का हॉकी से लगाव किसी से छुपा नहीं है। बालीवुड में खेल पर बनी सबसे अधिक प्रेरक फिल्मों में शामिल ‘चक दे! इंडिया’ में शाहरुख ने भारतीय महिला हॉकी टीम के कोच कबीर खान की भूमिका निभाई थी। अपनी टीम केकेआर के समर्थन के लिए अबराम और बेटी सुहाना के साथ यहां पहुंचे शाहरुख ने कहा, ‘‘अबराम ने अभी क्रिकेट खेलना शुरू नहीं किया है। अभी वह थोड़ा फुटबाल खेलते हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं चाहूंगा कि वह भारत के लिए हॉकी खेले।’’ आईपीएल के मौजूदा सत्र के अपने पहले मैच में केकेआर ने नए कप्तान दिनेश कार्तिक के नेतृत्व में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलूर को चार विकेट से शिकस्त दी जिसके बाद शाहरुख और सुहाना को मैदान का चक्कर लगाते देखा गया। बैंगलूर ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में सात विकेट पर 176 रन बनाए थे। सुनील नारायण की आतिशी अर्धशतकीय पारी के बूते केकेआर ने इस लक्ष्य को 19वें ओवर में छह विकेट खोकर हासिल कर लिया।

शाहरुख ने केकेआर के समर्थकों से पूर्व कप्तान गौतम गंभीर की जगह टीम के नए कप्तान कार्तिक का दिल से समर्थन करने की अपील की। दूसरी तरफ, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलूर के बल्लेबाज मनदीप सिंह ने कहा कि सुनील नारायण के आक्रामक अर्धशतक ने उनकी टीम को कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ आईपीएल के पहले मैच में जीत से वंचित कर दिया। नारायण ने 19 गेंद में 50 रन बनाकर केकेआर को जीत दिलाई। मनदीप ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर टर्निंग प्वाइंट नारायण की पारी थी। पहले छह ओवर में इस तरह की शुरुआत मिलने के बाद मैच 50 प्रतिशत कब्जे में आ जाता है। इसके बाद बाकी बल्लेबाजों के लिए करने को कुछ नहीं बचता।’’ 18 गेंद में 37 रन बनाने वाले इस बल्लेबाज ने कहा, ‘‘हम 10 . 15 रन पीछे रह गए। हमारा लक्ष्य 175 . 180 रन था। हम यदि उतने रन बना लेते तो बेहतर दबाव बना सकते थे।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App