ताज़ा खबर
 

Pro Kabaddi 2017, बंगाल वॉरियर्स vs पटना पाइरेट्स: PTP ने 47-44 से मुकाबला जीत तीसरी बार बनाई फाइनल में जगह

Pro Kabaddi 2017: अंतिम पांच मिनट का खेल बाकी था और पटना की टीम 41-27 से आगे थी। यहां से बंगाल ने अपने प्रयास तेज किए और पटना को रोकने के साथ-साथ लगातार अंक लेती रही और...

Pro Kabaddi 2017: बंगाल को प्रदीप नरवाल से संभल कर रहना होगा।

मौजूदा विजेता पटना पाइरेट्स ने गुरुवार को प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के सीजन-5 में क्वालीफायर-2 में बंगाल वॉरियर्स को मात देते हुए लगातार तीसरी बार फाइनल में जगह बना ली। जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में खेले गए मैच में पटना ने कप्तान प्रदीप नरवाल के बेहतरीन प्रदर्शन की मदद से बंगाल को 47-44 से मात दी। फाइनल में पटना का सामना लीग की नई टीम गुजरात फॉर्च्यूनजाएंट्स से होगा जिसने पहले क्वालीफायर में बंगाल को ही हराकर सीधे फाइनल में प्रवेश किया था।

इस सीजन में नए आयाम स्थापित करने वाले प्रदीप ने 23 अंक जुटाए। उन्होंने अकेले अपने दम पर बंगाल को पूरे मैच में दबा कर रखा। शुरुआत से ही पीछे चल रही बंगाल ने हालांकि अंतिम पांच मिनट में अच्छी वापसी की लेकिन वह जीत हासिल नहीं कर सकी। बंगाल की टीम शुरू से ही पटना के दबाव में दिखी। दो बार की विजेता पटना ने पहले मिनट में 4-1 की बढ़त ले ली थी। दूसरे मिनट में प्रदीप ने स्कोर 9-1 कर दिया।

यहां से बंगाल पर दबाव बन गया था जिसके तले वो दबती चली गई। उसने अंकों के अंतर को कम करने की कोशिशें तो बहुत की, लेकिन प्रदीप दीवार की तरह उसके हर प्रयास के सामने खड़े रहे। पटना ने पहले हाफ का अंत 21-12 के स्कोर के साथ किया। दूसरे हाफ में बंगाल ने बेहतर खेल दिखाया। उसने दूसरे हाफ के दो मिनट में ही अपने खाते में चार अंकों का इजाफा किया। लेकिन, पटना ने उसे ज्यादा आगे नहीं जाने दिया और 24वें मिनट तक स्कोर 28-17 कर लिया।

अंतिम पांच मिनट का खेल बाकी था और पटना की टीम 41-27 से आगे थी। यहां से बंगाल ने अपने प्रयास तेज किए और पटना को रोकने के साथ-साथ लगातार अंक लेती रही। मनिंदर सिंह ने दो अंक लेकर स्कोर 30-42 कर दिया। 37वें मिनट में ही मनिंदर ने सफल रेड मारते हुए बंगाल को तीन अंक दिलाए और स्कोर 35-44 कर दिया। आखिरी दो मिनट के खेल में बंगाल के डिफेंस ने प्रदीप के रेड को असफल कर स्कोर 41-46 कर मौजूदा विजेता के चेहरे पर परेशानी ला दी। लेकिन, पटना ने अंकों के अंतर को बनाए रखा और जीत हासिल करते हुए फाइनल में प्रवेश किया।

बंगाल ने लीग स्तर पर जोन-ए में पहला स्थान हासिल किया था। उसने जोन-बी में टॉप पर रही गुजरात के साथ पहला क्वालीफायर खेला, लेकिन उसे बुरी तरह हार मिली। उस मैच में जीत हासिल करने के साथ गुजरात की टीम सीधे फाइनल में पहुंचीं जबकि बंगाल को दूसरे क्वालीफायर का रुख करना पड़ा।

दूसरी ओर, पटना पाइरेट्स का यहां तक का सफर काफी रोमांचक रहा। यह टीम जोन-बी में दूसरे स्थान पर रही। ऐसे में उसे दूसरे एलिमिनेटर में जोन-ए में तीसरे स्थान पर हरियाणा स्टीलर्स से भिड़ना पड़ा। इस मैच में में दो बार की चैम्पियन पटना ने 34 रेड प्वाइंट हासिल करने वाले अपने कप्तान प्रदीप के दम पर हरियाणा को 69-30 से हराया। प्रदीप ने इस मैच में लीग के पांचवें सीजन में 300 रेड अंक हासिल कर एक नया कीर्तिमान बनाया। यही नहीं, प्रदीप ने एक मैच में सबसे अधिक 34 रेड अंक हासिल करने का भी रिकार्ड बनाया। प्रदीप ने एक रेड में सबसे अधिक आठ अंक हासिल करने का भी रिकार्ड अपने नाम किया।

इस मैच को जीतकर पटना की टीम तीसरे एलिमिनेटर के लिए क्वालीफाई करने में सफल रही। अब उसका सामना एलिमिनेटर-1 में यूपी योद्वाज को हराने वाली पुनेरी पल्टन से होना था। लगा था कि प्रदीप की टीम यह मैच भी आसानी से जीत लेगी लेकिन दीपक निवास हुड्डा के नेतृत्व में पुणे की टीम ने उसे नाको चने चबवा दिया। एक समय पुणे को 10 अंकों की बढ़त प्राप्त थी और मैच पटना के हाथों से फिसल चुका था लेकिन प्रदीप ने एक बार फिर साबित किया कि वह आधुनिक कबड्डी के नायक हैं और उनके साहसिक प्रयासों के दम पर पटना ने पुणे को 42-32 के अंतर से पराजित कर खिताब बचाने की ओर एक बड़ा कदम बढ़ाया। इस मैच में भी प्रदीप ने 19 रेड अंक बटोरे थे।

मैच के 39वें मिनट पटना पहली बार ऑलआउट। प्रदीप नरवाल ने अपनी रेड में कोई अंक नहीं लिया। इसी बीच विशाल माने आउट। मैच खत्म होने में 30 सेकेंड बाकी। पटना के पास 3 अंक की लीड। इसी बीच सुरजीत आउट। पटना ने मुकाबला 47-44 से जीता।

-बंगाल की ओर से रेड में दीपक नरवाल ने 2 अंक लिए। बंगाल के खेमे में उम्मीद की किरण दिखने लगी है। पटना ऑलआउट के करीब। कोर्ट में सिर्फ प्रदीप नरवाल ही बाकी रह गए हैं। बंगाल 38, पटना 45

-दीपक नरवाल को टैकल की कोशिश में पटना के विजय आउट। इसी बीच प्रदीप ने अपना 20वां अंक ले लिया है। मनिंदर सिंह ने बोनस के साथ 3 शिकार किए। बंगाल को इस सुपर रेड में 4 प्वाइंट्स मिल। बंगाल 35, पटना 44

-प्रदीप नरवाल ने चौथी बार इस मैच में सुरजीत सिंह को आउट किया। टो-टच के जरिए मनिंदर कोर्ट से बाहर। इसी बीच दीपक नरवाल ने बोनस लिया। पटना के पास 36वें मिनट 12 अंक की लीड है। बंगाल 29, पटना 42

-मैच खत्म होने में 5 मिनट बाकी। बंगाल तीसरी बार ऑलआउट। इसी के साथ बंगाल की वापसी पर पानी फिरता दिख रहा है। पटना के पास 13 अंक की विशाल बढ़त है। प्रदीप इस सीजन 343 अंक बना चुके हैं। बंगाल 27, पटना 40

प्रदीप नरवाल ने अपनी 22वीं रेड में सुरजीत को तीसरी बार आउट किया। बंगाल के कप्तान कोर्ट से बाहर। इसी बीच पटना के डिफेंडर्स ने मनिंदर को डैश आउट किया। पटना के पास 11 अंक की लीड। बंगाल 22, पटना 33

-विकास ने मोनू गोयत को टैकल किया। ये उनका टैकल में दूसरा प्वाइंट है। बंगाल तेजी से पटना की रेड को कम करता हुआ। इसी बीच प्रदीप नरवाल रेड में आए। मगर अंक लेने में नाकाम। मनिंदर सिंह 11वीं रेड में नाकाम। बंगाल 21, पटना 30

-प्रदीप नरवाल रेड में आउट। वहीं डू ऑर डाई रेड में मनिंदर सिंह ने अंक लिया। पटना के पास लगातार तीसरी बार फाइनल खेलने का मौका है। इसी बीच विजय ने जबरदस्त एंकल होल्ड कर मनिंदर को आउट किया। बंगाल 19, पटना 29

प्रदीप नरवाल ने रेड में बंगाल के शेष दोनों डिफेंडर्स को आउट किया। बंगाल मैच के 24वें मिनट ऑलआउट। इसी के साथ प्रदीप सुपर-10 लगा चुके हैं। पटना मैच में काफी आगे निकल चुका है। बंगाल 17, पटना 28

-डू ऑर डाई रेड में मोनू गोयत ने दो प्वाइंट्स लिए। बंगाल ऑलआउट के बेहद करीब है। पटना के पास मैच के 23वें मिनट 8 अंक की लीड है। वहीं मनिंदर सिंह रेड में कोई प्वाइंट नहीं ले सके। बंगाल 17, पटना 24

-श्रीकांत तेवतिया ने बोनस प्लस टू टच प्वाइंट्स लिए। इस सुपर रेड के जरिए बंगाल ने पटना की लीड को कुछ कम कर दिया है। प्रदीप नरवाल सुपर-10 के करीब। बंगाल के पास सुपर टैकल का मौका। बंगाल 15, पटना 22

-दूसरा हाफ शुरू हो चुका है। पटना के पास 9 प्वाइंट्स की लीड है। मैच 20 मिनट का शेष रह गया है। ये अंक मुकाबले में निर्णायक साबित हो सकते हैं। पटना को ऑलआउट के 2 अंक मिले हैं। प्रदीप नरवाल को पहले हाफ में कोई नहीं रोक सका और उन्होंने इसमें 8 अंक लिए हैं।

पहले हाफ तक पटना पाइरेट्स ने 21-12 से लीड बना रखी है। बंगाल का डिफेंस और उनके रेडर्स कुछ खास नहीं कर सके हैं। इसी बीच प्रदीप नरवाल ने एक और अंक ले लिया है। पटना के पास 9 अंक की लीड है।

-डू ऑर डाई रेड में सुरजीत सिंह के नीचे से प्रदीप नरवाल ने डुबकी लगाकर प्वाइंट लिया। इसी बीच मनिंदर सिंह ने जवाहर पर रनिंग हैंड टच किया। इसी बीच प्रदीप ने सातवां अंक लिया। पटना के पास 10 अंक की लीड कायम। बंगाल 10, पटना 20

-जैंग कुन ली अपनी पहली ही रेड में आउट। पटना को एक अंक मिला। सचिन ने उन्हें आउट किया। बंगाल के लिए सुपर टैकल ऑन है। बंगाल मुकाबले में 10 अंक से पिछड़ रहा है। पटना के पास 6 का डिफेंस। बंगाल 8, पटना 18

सुरजीत ने रेड की औपचारिकता पूरी की। डू ऑर डाई रेड में मोनू गोयत को सुरजीत ने जबरदस्त टैकल किया। बंगाल डिफेंस शानदार सपोर्ट करता हुआ। वहीं बंगाल की ओर से डू ऑर डाई में जयदीप आउट। बंगाल 7, पटना 15

-मोनू गोयत रेड में आउट। विनोद ने ये टैकल किया। मनिंदर सिंह पिछली 5 रेड में 2 अंक ही ले सके हैं। इसी बीच रेड में वो आउट हुए। हालांकि इससे पहले वो बंगाल के लिए बोनस ले चुके थे। बंगाल 6, पटना 14

-पटना ने मनिंदर सिंह को दबोचा। जवाहर डागर को ये सफलता हासिल हुई है। पटना के रेडर और उनका डिफेंस चल रहा है। पहले हाफ में 12 मिनट का खेल बाकी। पटना के पास 8 अंक की जबरदस्त लीड।

-डू ऑर डाई रेड में मनिंदर सिंह ने जयदीप को आउट किया। वहीं पटना की ओर से डू ऑर डाई रेड में प्रदीप नरवाल को रण सिंह ने ब्लॉक किया। बंगाल को बड़ी सफलता मिली है। पटना के पास फिलहाल 6 अंक की लीड है। पटना 10, बंगाल 4

जयदीप ने टैकल में 65वां अंक लिया। वहीं मोनू गोयत ने अपनी पहली रेड में श्रीकांत का शिकार किया। पटना के पास 8 अंक की लीड है। मनिंदर अपनी दूसरी रेड में डैश आउट। पटना के पास यहां से मजबूत बढ़त है। पटना के प्रदीप नरवाल ने 5 अंक लिए। बंगाल मैच के तीसरे मिनट ऑलआउट। बंगाल 1, पटना 9

-सीजन-5 में पटना एक भी बार बंगाल वॉरियर्स को नहीं हरा सका है। मैच की पहली ही रेड में मनिंदर सिंह ने बोनस ले लिया है। वहीं दूसरी ओर प्रदीप ने पहली ही रेड में योंग चैंग को टच किया। पटना 1, बंगाल 1

दोनों टीमें कोर्ट पर आ चुकी हैं। पटना ने टॉस जीतकर कोर्ट चुना है। प्रदीप नरवाल जबरदस्त उत्साह में दिख रहे हैं। फैंस को उम्मीद है कि आज के मैच में भी वो कुछ कारनामा जरूर करेंगे। मैच शुरू।

-बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू राष्ट्रगान के साथ आज के खेल की शुरुआत करती हुई। सभी दर्शक अपनी-अपनी सीटों से खड़े हैं। पूरा माहौल राष्ट्रभक्ति का हो चुका है। सभी को मैच शुरू होने का बेसब्री से इंतजार है।

-इस साल लीग में चार नई टीमों ने कदम रखा, जिसमें से एक गुजरात फार्च्यून जायंट्स भी है। गुजरात लीग में अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर फाइनल में पहुंच चुकी है। गुजरात के कोच मनप्रीत सिंह का कहना है कि पटना के किसी भी मैच में प्रदीप को सुपर-10 नहीं मारने देंगे।

-प्रदीप का कहना है कि “मेरी टीम में रेडिंग की जिम्मेदारी मैं और मोनू गोयत मुख्य रूप से संभालेंगे, लेकिन हमें अपनी कमजोर डिफेंस को बेहतर करना होगा। फाइनल में पहुंचना है, तो बंगाल के खिलाफ डिफेंस का मजबूत होना बहुत जरूरी है।”

-पुणेरी पलटन के खिलाफ खेले गए एलिमिनेटर-3 के मैच में प्रदीप के शानदार प्रदर्शन की मदद से पटना ने हारी हुई बाजी को जीता और तीसरी बार खिताबी जीत हासिल करने की अपनी उम्मीद को बरकरार रखा।

-पटना पाइरेट्स के कप्तान प्रदीप नरवाल का कहना है कि गुरुवार को बंगाल के खिलाफ प्रो-कबड्डी सीजन-5 के क्वालीफायर-2 के मैच के लिए उनकी टीम को अपना डिफेंस मजबूत करना होगा। उनका मानना है कि पटना की रेडिंग अच्छी है, लेकिन अगर फाइनल में प्रवेश करना है तो कमजोर डिफेंस को मजबूत करने की जरूरत है।

-पटना ने सीजन-3 और सीजन-4 में कबड्डी लीग का खिताब अपने नाम किया था और इसके तहत अगर वह इस बार फाइनल में जीत हासिल करती है, तो वह जीत की हैट्रिक बनाएगी। वहीं बंगाल को एक बार भी खिताबी जीत हासिल नहीं हुई है। इस लीग में पटना से तीन बार उसकी भिड़ंत हुई है, जिसमें दो मुकाबले ड्रॉ रहे और एक मैच में उसने पटना को मात दी।

-प्रदीप नरवाल ने इस सीजन 17 सुपर रेड की है। एक मैच में सबसे अधिक रेड अंक का रिकॉर्ड भी इन्हीं के नाम है। प्रदीप ने एक रेड में 8 अंक जुटाए थे, जिसमें 6 टच प्वाइंट वहीं 2 ऑल आउट करने के चलते अंक मिले।

मैच अब से 30 मिनट में शुरू होने जा रहा है। फैंस के बीच इस मैच को लेकर गजब का उत्साह है। दोनों ही कप्तान काफी आत्मविश्वास में नजर आ रहे हैं। रण सिंह बंगाल के लिए 50 रेड अंक ले चुके हैं।

-पटना पाइरेट्स ने मंगलवार (24 अक्टूबर) को ही एलिमिनेटर-3 में पुणेरी पलटन को मात देकर क्वालीफायर-2 में प्रवेश किया था। वह इस सीजन में खिताबी जीत हासिल कर हैट्रिक मारना चाहेगी।

-पटना पाइरेट्स की ओर से प्रदीप नरवाल शानदार फॉर्म में हैं। पिछले दो मैचों में उनके ही दम पर पटना इस मुकाम तक पहुंच सका है। वहीं मोनू गोयत भी उनका बखूबी साथ निभा रहे हैं। बंगाल को इन खिलाड़ियों से संभलकर रहने की जरूरत है।

-बंगाल के पास मनिंदर, दीपक नरवाल और जांग कुन ली के रूप अच्छे रेडर भी हैं, जो पटना के डिफेंस पर भारी पड़ सकते हैं। ऐसे में बंगाल की टीम अपनी पहली खिताबी जीत की ओर बढ़ने के लिए पटना के कमजोर डिफेंस से फायदा उठाने की पूरी कोशिश करेगी।

-बंगाल की टीम पर नजर डाली जाए, तो इसका नेतृत्व एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल करने वाली कबड्डी टीम का हिस्सा रहे डिफेंडर सुरजीत सिंह कर रहे हैं। ऐसे में बंगाल के डिफेंस को भेदना प्रदीप की टीम के लिए थोड़ा मुश्किल होगा।

-पटना पाइरेट्स और बंगाल वॉरियर्स में से जो टीम इस मैच को जीतेगी उसका सामना फाइनल में गुजरात से होगा। फाइनल मुकाबला 28 अक्टूबर को खेला जाना है। दोनों के लिए ही यह मैच फाइनल में पहुंचने का आखिरी मौका है।

बंगाल वॉरियर्स :

रेडर – दीपक नरवाल, मनिंदर सिंह, विनोद कुमार, विजेंदर वजीर सिंह, आमेर मंडोल, राहुल कुमार

डिफेंडर – संदीप मलिक, शशांक वानखेड़े, सुरजीत सिंह, योंग चैंग कू, भूपेंदर सिंह

ऑलराउंडर – रन सिंह, रविंदर, रमेश कुमावत, श्रीकांत तेवतिया, विकाश, जैन कुन ली

पटना पाइरेट्स :

रेडर – मोहम्मद जाकिर हुसैन, मोनू गोयत, विजय, विकास जागलान, विनोद कुमार, विष्णु उथमन

डिफेंडर – जयदीप, मनीष कुमार, सचिन शिंगड़े, संदीप, सतीश कुमार, वीरेंद्र सिंह, विशाल माने

ऑलराउंडर – अरविंद कुमार, जवाहर, मोहम्मद मगशोडलू, प्रवीण बीरवाल, प्रदीप नरवाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App