ताज़ा खबर
 

क्या सचिन तेंदुलकर ने की थी बॉल टैंपरिंग? जब सौरव गांगुली समेत 6 खिलाड़ियों पर लगा था प्रतिबंध

क्रिकेट के नियमों के मुताबिक, कोई भी खिलाड़ी गेंद की सीम को सिर्फ अंपायर के सामने ही साफ कर सकता है। सचिन अंपायर को इसके बारे में बताना भूल गए और डेनिस ने उन पर बॉल टैंपरिंग का आरोप लगा दिया।

सचिन तेंदुलकर पर 2001 में बॉल टैंपरिंग का आरोप लगा था। (सोर्स- सोशल मीडिया)

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन टेस्ट की सीरीज 2001 में खेली जा रही थी। पोर्ट एलिजाबेथ में 16 से 20 नवंबर तक सीरीज का दूसरा टेस्ट होना था। इस मैच में भारतीय क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा विवाद हुआ था। मैच के तीसरे दिन भारतीय टीम फील्डिंग कर रही थी। सचिन तेंदुलकर गेंद को हाथ से साफ कर रहे थे। इस फुटेज के आधार पर मैच रेफरी माइक डेनिस ने सचिन पर बॉल टैंपरिंग के आरोप लगा दिए और एक मैच के लिए प्रतिबंधित कर दिया। इसके अलावा डेनिस ने 5 अन्य भारतीय खिलाड़ियों पर भी एक मैच का प्रतिबंध लगा दिया।

सचिन के अलावा वीरेंद्र सहवाग, हरभजन सिंह, दीपदास गुप्ता, शिव सुंदर दास और सौरव गांगुली पर प्रतिबंध लगा दिया गया। सभी खिलाड़ियों पर मैच फीस का 75% जुर्माना भी लगाया गया। सचिन गेंद की सीम को साफ कर रहे थे। क्रिकेट के नियमों के मुताबिक, कोई भी खिलाड़ी गेंद की सीम को सिर्फ अंपायर के सामने ही साफ कर सकता है। सचिन अंपायर को इसके बारे में बताना भूल गए और डेनिस ने उन पर बॉल टैंपरिंग का आरोप लगा दिया। आश्चर्य की बात है कि मैदान पर खड़े अंपायर लगातार गेंद को देख रहे थे। उन्होंने सचिन के खिलाफ कोई भी शिकायत नहीं की थी।

इसके बावजूद डेनिस ने उन पर एक मैच का प्रतिबंध लगा दिया। सचिन ने स्वीकार किया कि उन्होंने गेंद की सीम को साफ किया था और वे अंपायर को बताना भूल गए थे। साथ ही तेंदुलकर ने यह भी कहा कि उन्होंने गेंद के साथ छेड़छाड़ नहीं की है। उन्होंने रेफरी को इसके बारे में अंपायर से पूछने के लिए कहा। सचिन ने प्रतिबंध को स्वीकार नहीं किया और मामला बीसीसीआई के सामने उठाया। सहवाग को आक्रामक अपील, हरभजन, शिवसुंदर और दीपदास को ज्यादा अपील और गांगुली को सही से टीम को नहीं संभालने के कारण प्रतिबंधित किया गया।

इस विवाद के बाद भारत में खिलाड़ियों के पुतले जलाए गए थे। बीसीसीआई ने इस मामले को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के सामने उठाया। आईसीसी ने डेनिस का समर्थन किया, लेकिन दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड ने भारत का पक्ष लिया। डेनिस को तीसरे मैच में रेफरी की भूमिका से हटा दिया गया था। आईसीसी ने तीसरे टेस्ट को अनॉफिशियल करार दे दिया। हालांकि, बाद में सहवाग को छोड़कर सभी खिलाड़ियों के ऊपर से प्रतिबंध को हटा दिया गया था। सचिन के खिलाफ आरोप सिद्ध नहीं हुए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Game Online: विराट कोहली और केएल राहुल भी हैं LUDO KING के फैन, यहां जानिए कैसे खेलें
2 विराट कोहली के ओवर में 28 रन जड़ने वाले एल्बी मोर्केल बोले- पता नहीं क्यों वे बॉलिंग करने आए थे
3 शाहिद अफरीदी की ऑलटाइम वर्ल्ड कप-11 में सिर्फ एक भारतीय, सचिन-द्रविड़ और धोनी को नहीं दी जगह
ये पढ़ा क्या?
X