ताज़ा खबर
 

जब सचिन तेंदुलकर ने सौरव गांगुली पर निकाला था मैच हारने का गुस्सा, दादा को दी थी सुबह में दौड़ने की सजा

गांगुली ने 2008 और सचिन ने 2013 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया था। गांगुली ने 113 टेस्ट मैचों की 188 पारियों में 42.17 की औसत से 7212 रन बनाए हैं। तेंदुलकर की बात करें तो उन्होंने 200 टेस्ट मैचों में 53.79 की औसत से 15921 रन बनाए।

Sachin Tendulkar, Sourav Gangulyसचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली एक-दूसरे की कप्तानी में खेल चुके हैं। (फाइल)

सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली को दुनिया के महानतम खिलाड़ियो में शामिल किया जाता है। दोनों एक-दूसरे की कप्तानी में खेल चुके हैं। तेंदुलकर ने गांगुली से काफी पहले डेब्यू किया था, लेकिन दोनों लंबे समय दोस्त थे। सचिन को हार या जीत पर उत्तेजित होकर प्रतिक्रिया देते हुए कम ही मौकों पर देखा गया है। गांगुली ने एक बार उन्हें मैच के हारने के बाद गुस्सा होते देखा था। उस समय तेंदुलकर मैच हारने पर रोने लगे थे।

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने स्पोर्ट्स एंकर गौरव कपूर को ‘ऑकट्री स्पोर्ट्स’ यूट्यूब चैनल के लिए दिए इंटरव्यू में सचिन के बारे में कई बातें कही थीं। गांगुली ने बताया था, ‘‘1996-97 में बारबाडोस में हम वेस्टइंडीज के खिलाफ हार गए थे। 120 रन चेज नहीं कर पाए थे। हारने के बाद वह गुस्से में था। मैं पहली बार सचिन को ड्रेसिंग रूम में रोते हुए देखा था। गुस्सा मेरे ऊपर उतरा। मुझसे कहा कि अगर रन बनाना है तो कल से सुबह मेरे साथ दौड़ना। मेरे साथ टीम में रहना है तो यह करना होगा। कप्तान को गुस्सा आना सही है।’’

गांगुली ने कहा था, ‘‘पहली बार सचिन को तब देखा था। लंबे-लंबे बाल थे। मुंबई से वह था तो उसका नाम ज्यादा लिया जाता था, क्योंकि उस दौर में मुंबई के खिलाड़ियों को लेकर शोर ज्यादा मचता था। सचिन को नेट से निकालना पड़ता था। वह सिर्फ बल्लेबाजी करते रहता था। वासु सर जबरदस्ती उसे नेट से निकालते थे। तब से ही मुझे पता था कि इस लड़के में कुछ अलग है। उसके पूरे करियर को नजदीक से देखा हैं। उसे अंदर से जानता हूं। वह क्रीज पर क्या करना चाहता है और क्यों गुस्सा है। सब जानता हूं।’’

गांगुली ने 2008 और सचिन ने 2013 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया था। गांगुली ने 113 टेस्ट मैचों की 188 पारियों में 42.17 की औसत से 7212 रन बनाए हैं। उन्होंने 16 शतक और 35 अर्धशतक जड़े थे। गांगुली ने अपने टेस्ट करियर में 71 कैच लिए थे। 311 वनडे मं उन्होंने 41.02 की औसत से 11363 रन बनाए। दूसरी ओर, तेंदुलकर की बात करें तो उन्होंने 200 टेस्ट मैचों में 53.79 की औसत से 15921 रन बनाए। इस दौरान 51 शतक और 68 अर्धशतक ठोके। इनमं 6 दोहरे शतक शामिल हैं। वनडे में उन्होंने 463 मैचों में 44.83 की औसत से 18426 रन बनाए। इस दौरान 49 शतक और 96 अर्धशतक लगाए। इसमें एक दोहरा शतक है।

Next Stories
1 क्रिस मॉरिस और संजू सैमसन ने दिलाई राजस्थान रॉयल्स को दूसरी जीत, कोलकाता नाइटराइडर्स की लगातार चौथी हार
2 ‘आईपीएल में ड्वेन ब्रावो हर साल आते हैं नई गर्लफ्रेंड के साथ’, दीपक चाहर ने कपिल शर्मा के शो पर किया था खुलासा
3 राजस्थान रॉयल्स ने कोलकाता नाइटराइडर्स को 6 विकेट से रौंदा, पिछले सीजन में मिली हार का लिया बदला
यह पढ़ा क्या?
X