ताज़ा खबर
 

क्रिकेट को जगव्यापी बनाने के लिए निकले सचिन और शेन

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का मानना है कि क्रिकेट भले ही दुनिया का दूसरा सबसे लोकप्रिय खेल हो। लेकिन इसे वैश्विक खेल बनाने के लिए आइसीसी विश्व कप..

Author न्यूयॉर्क | Updated: November 4, 2015 12:38 AM
सचिन तेंदुलकर, शेन वॉर्न, क्रिकेट, आइसीसी विश्व कप, Sachin Tendulkar, Shane Warne, cricket, ICC World Cup

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का मानना है कि क्रिकेट भले ही दुनिया का दूसरा सबसे लोकप्रिय खेल हो। लेकिन इसे वैश्विक खेल बनाने के लिए आइसीसी विश्व कप में अधिक देशों के खेलने की जरूरत है। भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में सुधार की जरूरत की वकालत करते हुए महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने कहा कि अगर दोनों देशों की सरकारों को लगता है कि द्विपक्षीय क्रिकेट शृंखला आगे बढ़ने का ‘आदर्श तरीका’ है तो यह होनी चाहिए।

तीन शहरों में होने वाली संन्यास ले चुके दिग्गज क्रिकेटरों की टी20 श्रृंखला ‘क्रिकेट आल स्टार्स 2015’ के लिए आस्ट्रेलिया के महान स्पिनर शेन वार्न के साथ यहां पहुंचे तेंदुलकर ने कहा कि इस सीरीज के आयोजन का इरादा अमेरिका में खेल को लोकप्रिय करना ही नहीं बल्कि इसका वैश्वीकरण करना है क्योंकि प्रतिस्पर्धी स्तर पर अधिक देशों के खेल से जुड़ने की जरूरत है।
इस महान भारतीय क्रिकेटर ने यहां कहा, लोगों का नजरिया है कि टीमें कम होनी चाहिए। लेकिन हमें हल ढूंढ़ना होगा और क्रिकेट को वैश्विक खेल बनाने के लिए मिलकर काम करना होगा और इसे हमें प्रतिस्पर्धा के लिए आठ से 12 देशों तक सीमित नहीं रखना होगा। उन्होंने कहा, 1975 में हुए पहले विश्व कप से लेकर अब तक सिर्फ नौ से 12 टीमें ही विश्व कप के लिए चुनौती पेश करती हैं। अगर हम इसकी (खेल के वैश्वीकरण) ओर कदम नहीं बढ़ाएंगे तो यह कभी नहीं होगा।

तेंदुलकर और वार्न की ‘क्रिकेट आल स्टार्स 2015’ संन्यास ले चुके खेल के 28 बड़े नामों को एक साथ लाएगी जिसमें पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली, वीरेंद्र सहवाग, श्रीलंका के महान स्पिनर मुथैया मुरलीधरन, वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज ब्रायन लारा और पाकिस्तान के तेज गेंदबाज वसीम अकरम और शोएब अख्तर शामिल हैं।

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने हाल में कहा था कि संन्यास का मतलब होता है करिअर खत्म होना और लोग न्यूयार्क, ह्यूस्टन और लास एंजिलिस में टी-20 प्रदर्शनी शृंखला में संन्यास ले चुके क्रिकेटरों को देखना नहीं चाहेंगे। चैपल को जवाब देते हुए तेंदुलकर ने कहा, क्रिकेट छोड़ने का कारण यह होता है कि आप उस स्तर पर प्रतिस्पर्धी नहीं रहे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप क्रिकेट का लुत्फ उठाना बंद कर दो। हम यही कर रहे हैं, हम क्रिकेट का लुत्फ उठा रहे हैं। आप संन्यास ले लो तो इसका मतलब यह नहीं कि आप दोबारा क्रिकेट के बल्ले को नाथ नहीं लगाओगे। तेंदुलकर ने कहा कि इस सीरीज में खिलाड़ी मजे और लुत्फ के लिए बल्ला दोबारा उठा रहे हैं और अगर इस दौरान वे हजारों लोगों को क्रिकेट देखने और खेल को सीखने के लिए प्रेरित करते हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है।

चैपल के बयान के संदर्भ में उन्होंने कहा, लोगों का अपना नजरिया होता है, इसका मतलब यह नहीं कि यह सही नजरिया है। सचिन्स ब्लास्टर्स और वार्न्स वारियर्स के बीच शृंखला का पहला मैच 45000 दर्शकों की क्षमता वाले सिटी फील्ड स्टेडियम में खेला जाएगा जो मेजर लीग बेसबाल की न्यूयार्क मेट्स का घरेलू मैदान है।

तेंदुलकर ने कहा कि लंबी शृंखला खेलना संभव नहीं था। लेकन संन्यास ले चुके खिलाड़ियों को लगा कि तीन से चार मैच खेलना व्यावहारिक होगा। भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में सुधार की जरूरत की वकालत करते हुए महान बल्लेबाज ने कहा कि अगर दोनों देशों की सरकारों को लगता है कि द्विपक्षीय क्रिकेट श्रृंखला आगे बढ़ने का ‘आदर्श तरीका’ है तो यह होनी चाहिए। तेंदुलकर ने कहा कि गेंद दोनों सरकारों के पालों में है जिन्हें द्विपक्षीय क्रिकेट संबंध दोबारा शुरू करने पर फैसला करना है।

भारत और पाकिस्तान के बीच दिसंबर में यूएई में प्रस्तावित श्रृंखला के बारे में पूछने पर तेंदुलकर ने संवाददाताओं से कहा, कुछ मसले हैं जिन पर दोनों देशों की सरकारों को फैसला करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, साथ ही मुझे लगता है कि संबंधों (भारत और पाकिस्तान के बीच) में सुधार की जरूरत है। अगर सरकारों को लगता है कि क्रिकेट के आगे बढ़ने का आदर्श तरीका है और बोर्ड को भी ऐसा ही लगता है तो मुझे ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता कि हम नहीं खेलें। तेंदुलकर ने कहा, लेकिन अगर सरकारों को लगता है कि यह उचित नहीं होगा तो हमें इसे मानना होगा।

सचिन्स ब्लास्टर्स और वार्न्स वारियर्स के बीच शृंखला का पहला मैच 45000 दर्शकों की क्षमता वाले सिटी फील्ड स्टेडियम में खेला जाएगा जो मेजर लीग बेसबाल की टीम न्यूयार्क मेट्स का घरेलू मैदान है। तेंदुलकर ने कहा कि अमेरिका की महिला क्रिकेट टीम 28 खिलाड़ियों के साथ जुड़ेगी और उनके साथ अभ्यास करेगी। इसके अलावा हजारों उभरते हुए युवा क्रिकेटर भी इन महान खिलाड़ियों को देखने के लिए स्टैंड में मौजूद रहेंगे। उन्होंने कहा, यह सब सपनों से जुड़ा है और अगर ये उभरते हुए युवा कल अमेरिका की ओर से क्रिकेट खेलेंगे तो मुझे काफी खुशी होगी।

तेंदुलकर ने कहा कि इस सीरीज का लक्ष्य अमेरिका में लोकप्रिय अन्य खेलों को चुनौती देना नहीं है। उन्होंने कहा, अमेरिका खेल प्रेमी देश है। हम उन्हें एक और खेल से रूबरू कराना चाहते हैं। तेंदुलकर ने कहा कि ट्वेंटी 20 क्रिकेट रोमांचक है और अमेरिका में पेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रारूप है। इस महान बल्लेबाज ने 1990 के दशक में अमेरिका आए अपने मित्रों का उदाहरण दिया जिन्हें बेसबाल जैसे अमेरिकी खेलों की कोई जानकारी नहीं थी। तेंदुलकर ने कहा कि उन्होंने अपने अमेरिकी मित्रों से यह खेल सीखा जो उन्हें स्टेडियम लेकर आए और उन्हें बेसबाल और अन्य अमेरिकी खेलों के बारे में बताया।

तेंदुलकर ने कहा, अब मैं अपने भारतीय मित्रों से कह रहा हूं कि वे इस प्रक्रिया को दोहराएं। अमेरिकियों को बेसबाल स्टेडियम में लाएं जहां क्रिकेट खेला जाएगा और उन्हें क्रिकेट के बारे में बताएं।

शहर में फेसबुक के मुख्यालय गए तेंदुलकर और वॉर्न ने कहा कि इंडियानापोलिस में विशेषज्ञ छह महीने से पिच तैयार कर रहे हैं और पिच तैयार करने के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। वार्न ने कहा कि दोनों टीमें सचिन्स ब्लास्टर्स और वार्न्स वारयिर्स प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलेंगी और कोई टीम मैच को हल्के में नहीं लेगी। उन्होंने कहा, यह दोस्ताना मैच नहीं होगा। हम जीतने के लिए खेलेंगे। हम इसे हल्के में नहीं लेंगे। हम यहां प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने और युवाओं को खेल को लेकर रोमांचित करने आए हैं।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जमाखोरों पर कार्रवाई से घटेंगे दालों के दाम: जेटली
2 ‘जीएसटी पर कांग्रेस में किसी से भी बात करने को तैयार’
3 जी-20 देश नए संरक्षणवादी उपायों से दूर रहें: डब्लूटीओ
ये पढ़ा क्या?
X