ताज़ा खबर
 

सचिन को नहीं पता था कि दोहरे, तिहरे शतक कैसे बनाते हैं: कपिल देव

कपिल देव ने कहा कि सचिन तेंदुलकर को पता नहीं था कि दोहरे , तिहरे शतक या 400 रन कैसे बनाते हैं हालांकि उनमें इन बुलंदियों को छूने की क्षमता थी लेकिन वह ‘मुंबई स्कूल ऑफ क्रिकेट’ में फंसे थे..

Author दुबई | October 30, 2015 12:54 AM
भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव।

भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव ने कहा कि सचिन तेंदुलकर को पता नहीं था कि दोहरे , तिहरे शतक या 400 रन कैसे बनाते हैं हालांकि उनमें इन बुलंदियों को छूने की क्षमता थी लेकिन वह ‘मुंबई स्कूल ऑफ क्रिकेट’ में फंसे थे। कपिल ने ‘खलीज टाइम्स’ से कहा,‘‘मुझे गलत मत समझिये लेकिन मेरा मानना है कि सचिन ने अपनी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं किया। मेरा हमेशा से मानना रहा है कि उसने जो किया, वह इससे कहीं ज्यादा कर सकता था।’’

उन्होंने कहा,‘‘वह बांबे क्रिकेट से चिपका रहा। उसे साफ सुथरा क्रिकेट खेलने वाले बंबई के खिलाड़ियों की बजाय विवियन रिचर्ड्स के साथ ज्यादा समय बिताना चाहिये था।’’

भारत को 1983 विश्व कप दिलाने वाले कप्तान ने कहा,‘‘सचिन कहीं बेहतर खिलाड़ी था लेकिन उसे सिर्फ शतक बनाना आता था। उसे नहीं पता था कि दोहरे, तिहरे शतक या 400 रन कैसे बनाते हैं।’’

कपिल ने कहा कि वह सचिन को वीरेंद्र सहवाग की तरह खेलने की सलाह देते। उन्होंने कहा,‘‘सचिन में क्षमता थी। वह तकनीकी रूप से मजबूत था लेकिन मुझे लगता है कि वह सिर्फ शतक बनाने उतरता था। रिचर्ड्स की तरह वह बेरहम नहीं था बल्कि परफेक्ट क्रिकेटर था। यदि मैं उसके साथ ज्यादा समय बिता पाता तो मैं उससे जरूर कहता कि वीरेंद्र सहवाग की तरह खेलो। तुम कहीं बेहतर क्रिकेटर बनोगे।’’

कपिल ने यहां शेन वॉर्न, वसीम अकरम और इयान बॉथम की मौजूदगी में जुमेइरा होटल के कोव बीच क्लब पर आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही। वॉर्न ने कहा कि तेंदुलकर खास थे। उन्होंने कहा,‘‘वह बेहतरीन खिलाड़ी है और मैने अपने 20 साल के कैरियर में उसके जैसा बल्लेबाज नहीं देखा। वह तेज गेंदबाजों और स्पिन का बखूबी सामना करता था और गेंद को भांपने की उसकी क्षमता गजब की थी। वह शानदार खिलाड़ी था और नब्बे के दशक में गेंदबाजों पर उसका आतंक रहा। उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेहतरीन खेला।’’

तेज गेंदबाज वसीम अकरम ने खेद जताया कि उन्हें तेंदुलकर के खिलाफ ज्यादा खेलने का मौका नहीं मिला। उन्होंने कहा,‘‘वकार युनूस और मुझे यह मलाल रहेगा कि हम करीब 10 साल तक तेंदुलकर के खिलाफ टेस्ट नहीं खेल सके।’’

उन्होंने कहा,‘‘हमने उसके खिलाफ खेला जब 1989 में उसने टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया। वह उस समय 16 साल का था। हमने 1999 में सचिन के खिलाफ टेस्ट खेला। वह सर्वश्रेष्ठ था और 100 अंतरराष्ट्रीय शतक उसकी प्रतिभा की बानगी देते हैं।’’

बाथम ने कहा,‘‘मेरी नजर में विव रिचर्ड्स सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रहे। उनसे बेहतर कोई नहीं था। जब मैने शुरुआत की तब रिचर्ड्स और सुनील गावस्कर थे। उनके बाद ब्रायन लारा और तेंदुलकर आये।’’

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App