ताज़ा खबर
 

साजन, एरोन और श्रीहरि बन सकते हैं सर्वकालिक महान तैराक

आमतौर पर भारतीय तैराकों को एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में फिसड्डी मान लिया जाता है और उनके लिए ओलंपिक में क्वालीफाई करना ही किसी पदक से कम नहीं होता।
Author December 14, 2017 02:11 am
नेशनल स्वीमर साजन

मनोज जोशी
आमतौर पर भारतीय तैराकों को एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में फिसड्डी मान लिया जाता है और उनके लिए ओलंपिक में क्वालीफाई करना ही किसी पदक से कम नहीं होता। मगर पहले खजान सिंह और फिर वीरधवल खाड़े और संदीप सेजवाल ने एशियाई खेलों में पदक जीतकर इस मान्यता को कुछ हद झुठलाने का काम किया और आज साजन प्रकाश, एरोन डिसूजा और श्रीहरि ने इस साल अपने हैरतअंगेज प्रदर्शन से साबित कर दिया है कि अगर ये तीनों अपने प्रदर्शन को इसी तरह सुधारते रहे तो इन्हें भारत के सर्वकालिक महान तैराक बनने से कोई नहीं रोक सकता।

आज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तैराकी का स्तर ऊपर उठने के साथ ही इन तीनों ने भी अपने खेल के स्तर को फर्श से अर्श पर पहुंचाया है। साजन प्रकाश ने सिंगापुर में हुई विश्व कप तैराकी में पांचवां स्थान हासिल करके जहां सबको चौंकाया है तो वहीं एरोन डिसूजा ने राष्ट्रीय स्तर पर अद्भुत प्रदर्शन किया है। ये दोनों बटरफ्लाई स्पर्धा के तैराक हैं। वहीं श्रीहरि नटराज ने सीनियर वर्ग के तीन राष्ट्रीय रेकॉर्ड अपने नाम करके बैक स्ट्रोक में खुद को अब तक का सर्वश्रेष्ठ तैराक साबित कर दिया है।  साजन प्रकाश ने सिंगापुर में विश्व कप तैराकी के दौरान एक मिनट 54.49 सेकंड का प्रदर्शन किया। यह किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भारत का इस स्पर्धा में सबसे बढ़िया प्रदर्शन है। अगर इस टाइमिंग को साजन जकार्ता में होने वाले एशियाई खेलों में दोहरा देते हैं तो उन्हें पदक जीतने से कोई नहीं रोक सकता।

उनका यह प्रदर्शन पिछले राष्ट्रमंडल के विजेता से भी बेहतर है और इस प्रदर्शन से वे ओलंपिक के फाइनल में स्थान बनाने वाले भारतीय होने का भी गौरव हासिल कर सकते हैं। उनके आलोचकों का कहना है कि सिंगापुर में उन्होंने यह प्रदर्शन शॉर्टकोर्स यानी छोटे पूल में किया है, जहां बेहतर टाइमिंग निकालने का अवसर रहता है क्योंकि टर्निंग पर दीवार का पुश आपको कम से कम एक सेकंड कम करने में सहायक होता है। यदि 200 मीटर की दूरी में तीन टर्न अधिक मिलते हैं तो तीन सेकंड तो ऐसे ही कम हो जाते हैं लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि साजन लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। साजन ने पिछले साल केरल में राष्ट्रीय खेलों में छह स्वर्ण और तीन रजत पदक जीतकर तहलका मचाया था। पूर्व राष्ट्रीय कोच केवी शर्मा का कहना है कि शॉर्टकोर्स से हम उनके प्रदर्शन को कम करके नहीं आंक सकते क्योंकि वह बड़े पूल में भी अपने टाइमिंग में तेज़ी से सुधार कर रहे हैं। उनमें विश्वस्तर का तैराक बनने की सारी खूबिया हैं।

साजन की ही इवेंट में ऐरोन डिसूजा भी राष्ट्रीय स्तर पर एक मिनट 51 सेकंड का प्रदर्शन राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में कर चुके हैं। यह प्रदर्शन वास्तव में चौंकाने वाला है क्योंकि इसे 50 मीटर के पूल में अंजाम दिया गया है और यह माइकल फेल्प्स के रेकॉडर्तोड़ प्रदर्शन (एक मिनट 51.51 सेकंड) के बहुत करीब है। यहां आलोचना का विषय केवल इतना है कि भारतीय तैराक ऐसा प्रदर्शन अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में क्यों नहीं कर पाते। वैसे भारत के बटरफ्लाई के अब तक के आला दर्जे के तैराक – अरुण शाह (बंगाल), नारायण कुंडू (बंगाल), इयाना चेनचिन, विश्वनाथ टाकले और टिंगू खटाऊ (तीनों महाराष्ट्र), सेना के थिन्ना सिंह और सीआरपीएफ के खजान सिंह रहे लेकिन एरोन डिसूजा और साजन प्रकाश ने टाइमिंग के लिहाज से इन सबको पीछे छोड़ दिया है।

इसी कड़ी में तीसरे तैराक श्रीहरि हैं जिन्होंने जूनियर वर्ग में ही अच्छे-अच्छे सीनियर तैराकों की छुट्टी कर दी। बैकस्ट्रोक में 50, 100 और 200 मीटर के राष्ट्रीय रेकॉर्ड उनके नाम हैं। उनमें भी ओलंपिक स्तर का तैराक बनने के सारे गुण हैं। राष्ट्रीय स्तर के जाने माने कोच कमलेश नानावती का कहना है कि श्रीहरि ने युवा ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करके साबित किया है कि उनमें काफी संभावनाएं हैं। हमें एशियाई खेलों को ध्यान में रखते हुए उनकी तैयारियों को अंजाम देना चाहिए। सरकार को चाहिए कि इन तीनों तैराकों को प्रशिक्षण के लिए अमेरिका या आॅस्ट्रेलिया भेज दें जिससे इनकी टाइमिंग में और सुधार आ सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
Indian Super League 2017 Points Table

Indian Super League 2017 Schedule