ताज़ा खबर
 

PICS: पति से भी ज्यादा हैं इस महिला वर्ल्ड चैंपियन बॉडीबिल्डर के डोले! जानें कौन हैं नतालिया कुजनेत्सोवा

Russian World Champion Bodybuilder, Nataliya Kuznetsova: नतालिया ने बताया कि हर किसी की तरह मैने भी जिम बिना किसी खास उद्देश्य के ज्वाइन किया था लेकिन तीन महीने बाद मेरे ट्रेनर ने मुझे बॉडीबिल्डिंग के लिए प्रेरित किया और मैने इस ओर मेहनत करनी शुरू कर दी।

Author Published on: December 10, 2019 2:59 PM
नतालिया कुजनेत्सोवा के डोले देख आप रह जाएंगे हैरान

अगर दो दिलों में प्यार,सम्मान और एक-दूसरे के लिए इज्जत है तो फिर रूप, रंग और शरीर की बनावट का कोई मोल नहीं है। ऐसी ही कहानी है वर्ल्ड चैंपियन बॉडीबिल्डर नतालिया कुजनेत्सोवा की जिनका कहना है कि उन्हें इस बास से फर्क नहीं पड़ता है कि उनके पति के डोले उनके मुकाबले काफी छोटे हैं। उनका मानना है कि एक खुशहाल रिश्ते में आपसी प्यार और सहयोग ही सबसे जरूरी होता है।

28 वर्षीय रूस की नतालिया कुजनेत्सोवा ने 14 साल की उम्र में ही जिम जाना शुरू कर दिया था। उनके पिता ने यह सोचकर उन्हें जिम भेजा कि इससे उनकी बेटी के अंदर से डर खत्म होगा क्योंकि बचपन में वो छोटे चूहे से भी डरती थी। लेकिन, 15 साल की उम्र में ही नतालिया Zabaykalsky Krai क्षेत्र की चैंपियन बन गईं।

गोल्डर न्यूज एंड स्पोर्ट को दिए गए एक साक्षात्कार के दौरान नतालिया ने बताया कि वो करीब एक दशक पहले 42 वर्षीय Yusif Eyvazov से मिली थीं। धीरे-धीरे उनके बीच प्यार बढ़ता गया। उन्होंने बताया कि मैने कभी सोचा नहीं था कि मैं स्पोर्ट में अपना करियर बनाउंगी लेकिन मेरे स्कूल के कोच ने बॉडीबिल्डिंग की तरफ मेरा ध्यान खींचा। इसके बाद मैने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

उन्होंने बताया कि हर किसी की तरह मैने भी जिम बिना किसी खास उद्देश्य के ज्वाइन किया था लेकिन तीन महीने बाद मेरे ट्रेनर ने मुझे बॉडीबिल्डिंग के लिए प्रेरित किया और मैने इस ओर मेहनत करनी शुरू कर दी। नतालिया ने कई सारे रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं। उन्होंने 2014 में आर्मलिफ्टिंग वर्ल्ड चैंपियनशिप और बेंच प्रेस में वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 South Asian Games: कबाड़ बेचने वाले की बेटी नसरीन शेख ने विदेश में बढ़ाया तिरंगे का मान, खो-खो में जीता गोल्ड
ये पढ़ा क्या?
X