ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 101
    BJP+ 80
    RLM+ 0
    OTH+ 15
  • मध्य प्रदेश

    Cong+ 112
    BJP+ 97
    BSP+ 4
    OTH+ 8
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 53
    BJP+ 26
    JCC+ 9
    OTH+ 1
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 82
    TDP-Cong+ 25
    BJP+ 6
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 25
    Cong+ 10
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

रोजर फेडरर हुए भावुक, खिताब जीतते ही बह निकले आंसू, नडाल के लिए बोले- टेनिस को तुम्‍हारी जरुरत है

रोजर फेडरर चोटों के चलते वे छह महीने से ज्‍यादा समय तक टेनिस कोर्ट से दूर रहे थे। इसके चलते उनकी रैंकिंग भी गिर गई थी।

ऑस्‍ट्रेलियन ओपन का खिताब जीतने के बाद रोजर फेडरर भावुक हो गए। (Photo:AP)

ऑस्‍ट्रेलियन ओपन का खिताब जीतने के बाद रोजर फेडरर भावुक हो गए। राफेल नडाल के खिलाफ चैंपियनशिप पॉइंट हासिल करते ही उनकी आंखों से आंसू बह निकले। फेडरर ने यह मुकाबला 6-4, 3-6, 6-1, 3-6, 6-3 से जीता। उनके और नडाल के बीच साढ़े तीन घंटे तक संघर्ष हुआ। फेडरर के लिए यह टूर्नामेंट भावनात्‍मक भी था। चोटों के चलते वे छह महीने से ज्‍यादा समय तक टेनिस कोर्ट से दूर रहे थे। इसके चलते उनकी रैंकिंग भी गिर गई थी। ऑस्‍ट्रेलियन ओपन में उन्‍हें 17वीं रैंक दी गई थी जो कि पिछले एक दशक में सबसे कम थी। निचली रैंकिंग के चलते फेडरर को कई बड़े खिलाडि़यों का सामना करना पड़ा। फाइनल तक आने में उन्‍होंने केई निशिकोरी, स्‍टेन वावरिंका, मिशेरेव जैसे युवा खिलाडि़यों और ऊंची रैंक के खिलाडियों को हराया।

ट्रॉफी जीतने के बाद उन्‍होंने कहा, ”इस जीत का खुमार धीरे-धीरे उतरेगा। यह जीत मेरे कॅरियर में मील का पत्‍थर है। मेरी बेटियों ने कहा कि मैं इस ट्रॉफी में सूप रख सकता हूं। इसमें काफी जगह है।” फेडरर ने नडाल के खेल की भी तारीफ की। मैच समाप्त होने के बाद दोनों ने एक दूसरे के प्रति पूरा सम्मान दिखाया। उन्‍होंने कहा, ”राफा तुम खेलते रहो। टेनिस को तुम्‍हारी जरुरत है। जो कुछ तुम करते हो वह करते रहो। मेरे पास बयां करने के लिये शब्द नहीं है, मैं शानदार वापसी के लिये राफा को बधाई देना चाहूंगा। मुझे नहीं लगता कि हम दोनों को भरोसा था कि हम फाइनल में पहुंचेंगे। मैं तुम्हारे (नडाल) लिये खुश हूं, मैं तुमसे हारकर खुश होता। टेनिस कठिन खेल है, इसमें कोई ड्रा नहीं होता, लेकिन अगर होता तो मैं आज राफा से इसे साझा करके खुश होता।’’

नडाल ने भी फेडरर की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘मैं आज जहां भी हूं, उसके लिये मैंने काफी कठिन मेहनत की है। शायद आज फेडरर मुझसे थोड़ा ज्यादा हकदार था। मैं उच्च स्तर पर वापसी के लिये कोशिश करता रहूंगा। मैं इस ट्राफी को हासिल करने के लिये कोशिश करता रहूंगा।’’ ये दोनों दिग्गज खिलाड़ी 2011 के फ्रेंच ओपन के बाद पहली बार किसी ग्रैंडस्लैम फाइनल में आमने सामने थे। साल 2009 में फेडरर को ऑस्‍ट्रेलियन ओपन के फाइनल में नडाल ने हराया था। ग्रैंडस्लैम फाइनल में नडाल का फेडरर पर 6-3 का रिकॉर्ड था जो अब 6-4 हो गया है। पैंतीस वर्षीय फेडरर का यह छठा ऑस्ट्रेलियाई ओपन फाइनल और कुल 28वां ग्रैंडस्लैम फाइनल था। इस जीत से पहले उन्‍होंने नडाल के खिलाफ आठ में से छह ग्रैंड स्‍लैम हारे थे। नडाल और फेडरर दोनों ने इस टूर्नामेंट में चोट से उबरने के बाद वापसी की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App