ताज़ा खबर
 

जानिए कौन हैं क्रिकेट के मैदान पर बिहु डांस करने वाले रियान पराग? MS DHONI से भी है गहरा कनेक्शन

18 साल के रियान पराग असम के रहने वाले हैं। उन्होंने अपने राज्य का पारंपरिक नृत्य लोगों के सामने पेश किया। पराग को पिछले साल राजस्थान की टीम ने 20 लाख रुपए में खरीदा था। वे इससे पहले अंतराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं।

Riyan Parag, Rajsathan royals, all rounder, bihu danceरियान पराग ने खलील अहमद की गेंद पर छक्का मारकर टीम को जीत दिलाई। (सोर्स – सोशल मीडिया)

राजस्थान रॉयल्स ने आईपीएल के 26वें मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को पांच विकेट से हरा दिया। दुबई में राजस्थान की इस जीत में राहुल तेवतिया और रियान पराग हीरो बनकर सामने आए। आखिरी ओवर में उसे जीत के लिए 8 रन बनाने थे। पराग ने छक्का मारकर टीम को जीत दिला दी। छक्का मारने के बाद वो मैदान में ही डांस करने लगे। पराग बिहु डांस कर रहे थे। उनके इस डांस ने लोगों का दिल जीत लिया और वे सोशल मीडिया पर ट्रेंड होने लगे।

18 साल के रियान पराग असम के रहने वाले हैं। उन्होंने अपने राज्य का पारंपरिक नृत्य लोगों के सामने पेश किया। पराग को पिछले साल राजस्थान की टीम ने 20 लाख रुपए में खरीदा था। वे इससे पहले अंतराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं। पराग 2018 में राहुल द्रविड़ की कोचिंग में अंडर-19 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य थे। तब वे 16 साल के थे। वर्ल्ड कप में खेलने से पहले उन्होंने भारतीय जूनियर टीम के लिए इंग्लैंड में दो टेस्ट (अनाधिकृत) की सीरीज में तीन अर्धशतक लगाए थे।

असम के इस युवा बल्लेबाज के नाम आईपीएल में सबसे कम उम्र में अर्धशतक लगाने का रिकॉर्ड हैं। उन्होंने पिछले साल 17 साल 175 दिन की आयु में अर्धशतक लगाया था। पराग एक उपयोगी लेगब्रेक गेंदबाज हैं। उन्होंने अब तक दो विकेट लिए हैं। रियान कहते हैं कि उनके आदर्श पिता पराग दास हैं। वे असम के लिए खेल चुके हैं। उनकी मां मिठू बरुआ नेशनल चैंपियन तैराक हैं। संयोग की बात है कि पराग के साथ इस आईपीएल में महेंद्र सिंह धोनी भी खेलते हैं। हालांकि, दोनों अलग-अलग टीमों में हैं। उनके पिता और धोनी में एक खास कनेक्शन है।

पराग दास असम के अलावा रेलवे के लिए भी घरेलू टूर्नामेंट में खेले हैं। उस टीम में धोनी भी हुआ करते थे। पिता भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान के साथ खेल चुके हैं और बेटा उनके खिलाफ खेल चुका है। रियान की मां उन्हें तैराक बनाना चाहती थी, लेकिन वे पांच साल की उम्र से क्रिकेट खेलने लगे। रियान के पिता ही उनके प्रारंभिक कोच थे और उन्हें कठिन ट्रेनिंग से गुजरना होता था। रियान ने अपने पिता को फॉलो किया। रियान को अंडर-19 वर्ल्ड कप के दौरान बांए हाथ में चोट लग गई थी और पहले दो सप्ताह तक वह नहीं खेल पाए थे। राहुल द्रविड़ ने उनपर भरोसा जताया और टीम के साथ रखा। आज रियान राजस्थान की टीम के अहम सदस्य बन चुके हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली कैपिटल्स को नहीं मिलेगा तीन मैचों तक ऋषभ पंत का साथ, स्टार क्रिकेटर की इंजरी को लेकर श्रेयस अय्यर ने दिया अपडेट
2 मुंबई ने दिल्ली से छीनी टॉप पॉजिशन, जानिए पर्पल और ऑरेंज कैप की रेस में कौन है आगे
3 आरसीबी और केकेआर की टीम में एक-एक बदलाव, सुनील नरेन बाहर; जानिए दोनों टीमों की प्लेइंग-11
IPL 2020
X