ताज़ा खबर
 

Rio Olympics 2016: ओलंपिक में 36 साल बाद हॉकी सेमीफाइनल में पहुंचने उतरेगा भारत, रेड लायन्स से टक्कर

भारत ने पूल बी दो जीत, दो हार और एक ड्रा से सात अंक के साथ चौथे स्थान पर रहकर अंतिम आठ में जगह बनाई।

Author रियो डि जिनेरियो | August 13, 2016 5:50 PM
आयरलैंड के खिलाफ गोल करने के बाद खुशी मनाते भारतीय हॉकी खिलाड़ी। (PTI Photo by Atul Yadav/File)

ओलंपिक में पिछले 36 वर्षों में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से एक जीत दूर भारतीय पुरुष हॉकी टीम रियो खेलों में रविवार (14 अगस्त) को यहां मजबूत बेल्जियम के खिलाफ होने वाले क्वार्टर फाइनल में अपनी गलतियों को दूर करके वर्षों बाद नया मुकाम हासिल करने के लिए उतरेगी। भारत पहले ही ओलंपिक के नॉकआउट में पहुंचकर एक उपलब्धि हासिल कर चुका है और अब कल (रविवार, 14 अगस्त) पी आर श्रीजेश की अगुवाई वाली टीम ओलंपिक पदक की अपनी उम्मीदों को पंख लगाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

भारत ने पूल बी दो जीत, दो हार और एक ड्रा से सात अंक के साथ चौथे स्थान पर रहकर अंतिम आठ में जगह बनाई। लीग चरण में भारत ने आयरलैंड (3-2) और अर्जेंटीना (2-1) को हराया लेकिन मौजूदा ओलंपिक चैंपियन जर्मनी (1-2) और रजत पदक विजेता नीदरलैंड (1-2) से उसे हार झेलनी पड़ी। कनाडा जैसी कमजोर टीम के खिलाफ उसने मैच 2-2 से ड्रा खेला।

दूसरी तरफ से बेल्जियम पूल ए में पांच मैचों में चार जीत से शीर्ष पर रहा। उसे केवल अंतिम लीग मैच में न्यूजीलैंड (1-3) से हार का सामना करना पड़ा। विश्व रैंकिंग पर गौर करें तो इन दोनों टीमों में कोई खास अंतर नहीं है। भारत जहां पांचवें स्थान पर है वहीं बेल्जियम उससे एक पायदान नीचे छठे स्थान पर है। लेकिन ओलंपिक में बेल्जियम ने अभी तक शानदार फॉर्म दिखाई है और उसने पूल चरण में स्वर्ण पदक के दावेदार और विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को भी हराया।

इसके अलावा बेल्जियम ने स्पेन, ग्रेट ब्रिटेन और ब्राजील को पराजित किया। दूसरी तरफ भारत का अभियान उतार चढ़ाव वाला रहा है। उसने हालांकि अपने पहले चार मैचों में आक्रामक खेल का प्रदर्शन किया लेकिन अंतिम क्षणों में छोटी छोटी गलतियों का उसे खामियाजा भी भुगतना पड़ा। जर्मनी के खिलाफ भारत ने अंतिम हूटर बजने से केवल तीन सेकेंड पहले गोल गंवाया जबकि नीदरलैंड के खिलाफ भी उसने चौथे क्वार्टर के अंतिम क्षणों में पेनल्टी कॉर्नर गंवाया और डच टीम ने इसका फायदा उठाने में कोई गलती नहीं की। इन हार के बावजूद भारत का शीर्ष टीमों के खिलाफ प्रदर्शन उत्साहजनक रहा है लेकिन कनाडा के खिलाफ आखिरी मैच में उन्होंने लचर खेल दिखाया।

भारत को इस मैच में जीत का दावेदार माना जा रहा था लेकिन विश्व में 15वें नंबर के कनाडा ने उसे जीत का मौका नहीं दिया और भारतीय टीम को अंक बांटने पड़े। इस मैच भी भारतीयों ने कुछ बेवजह की गलतियां की जिससे वह दो बार बढ़त हासिल करने के बावजूद पूरे अंक हासिल नहीं कर पाया। यदि भारत को कल (रविवार, 14 अगस्त) बेल्जियम को हराना है तो उसे इन गलतियों से बचना होगा क्योंकि रेड लायन्स ऐसी किसी भी गलती का पूरा फायदा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App