ताज़ा खबर
 

Rio Olympics 2016, स्टीपलचेस: 10वें स्थान पर रहीं ललिता बाबर बोलीं- अपनी टाइमिंग बेहतर कर सकती थी

पीटी उषा (1984) के बाद ओलंपिक ट्रैक स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाने वाली ललिता बाबर पहली भारतीय महिला हैं।

Author रियो डि जिनेरियो | August 16, 2016 00:11 am
भारतीय एथलीट ललिता बाबर (नीली जर्सी में) ट्रैक पर। (AP/PTI/File Photo)

रियो ओलंपिक में महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेस में फाइनल में 10वें स्थान पर रही ललिता बाबर का मानना है कि वह अपनी टाइमिंग बेहतर कर सकती थी। ललिता ने कहा ‘मैं फिनिश से संतुष्ट हूं लेकिन टाइमिंग से नहीं । कुल मिलाकर मैं शीर्ष 10 में रहकर खुश हूं लेकिन मैं अपनी टाइमिंग बेहतर कर सकती थी। मेरा लक्ष्य नौ मिनट 15 सेकंड से नीचे जाना था।’ उसने कहा,‘मैं अपने प्रदर्शन से खुश नहीं हूं और मेरा मानना है कि हीट में मेरा प्रदर्शन बेहतर हो सकता था।’ पीटी उषा (1984) के बाद ओलंपिक ट्रैक स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाने वाली पहली भारतीय महिला ललिता ने कहा कि ‘पायोली एक्सप्रेस’ ने उसे शुभकामना दी थी।

उसने कहा, ‘उषा ने शुरुआत से पहले मुझे शुभकामना दी थी और मैंने कहा था कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहती हूं। मैं हालांकि अपन टाइमिंग नहीं सुधार सकी।’ हीट के दौरान एक बाधा से टकराई ललिता के घुटने में दर्द था लेकिन उसने कहा कि इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ा। उसने कहा कि वह गर्म मौसम देखकर हैरान रह गई। उसने कहा,‘दौड़ते समय चोट लग जाती है लेकिन मेरा लक्ष्य हीट की टाइमिंग से बेहतर करना था। मौसम गर्म था लेकिन इसका असर सभी पर पड़ा। मैं इसे दोष नहीं दे सकती। लंबी दूरी की दौड़ में शीर्ष 10 में आना काफी मुश्किल है। प्रतियोगिता काफी कठिन होती है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App