ताज़ा खबर
 

फेल्प्स 23 स्वर्ण पहन लें तो उनकी गर्दन की खैर नहीं

अमेरिकी तैराक माइकल फेल्प्स महामानव हैं या नहीं, यह बहस का मुद्दा हो सकता है। लेकिन यह तय है कि ऐसे खिलाड़ी कभी-कभार ही पैदा होते हैं।

Author नई दिल्ली | August 15, 2016 05:56 am
गोल्ड जीतने के बाद खुशी मनाते माइकल फेलप्स। (Photo: AP)

अमेरिकी तैराक माइकल फेल्प्स महामानव हैं या नहीं, यह बहस का मुद्दा हो सकता है। लेकिन यह तय है कि ऐसे खिलाड़ी कभी-कभार ही पैदा होते हैं। 23 स्वर्ण सहित 28 पदक जीतना कोई हंसी-खेल नहीं हैं। भारत सहित कई देशों की स्वर्ण पदकों की संख्या दहाई तक नहीं पहुंची है। ऐसे में सोने के 23 तमगे जीतना उन्हें सर्वकालिक महान खिलाड़ी बनाता है। अगर फेल्प्स अपने जीते हुए 23 स्वर्ण पदक एक साथ पहन लें तो उनकी गर्दन की स्थिति क्या होगी? विशेषज्ञ कहते हैं ऐसा करना उनकी गर्दन के लिए खतरनाक हो सकता है क्योंकि सोने के इतने पदकों का वजन 6.60 किलोग्राम है।

क्या हो सकता है फेल्प्स की गर्दन को?
’बकौल न्यूयॉर्क के डॉ एर्मिन टेहरेनी अगर फेल्प्स सभी 23 सोने के तमगे गर्दन पर लाद लें तो उनकी गर्दन में चुभन और दर्द हो सकता है।
’हाथों, कलाइयों और अंगुलियों में कुछ दिन बाद अकड़न आ सकती है। ’टेहरेनी का कहना है कि ऐसे बहुत से लोग हैं जो बिना किसी वजन के अपनी गर्दन को झुकाए हुए अपने फोन को देखते हैं और इससे गर्दन में खिंचाव महसूस करने लगते हैं।
सिडनी से आगाज, रियो में अलविदा
2000 से ओलंपिक तैराकी का सफर शुरू किया था तरणताल के जादूगर फेल्पस ने लेकिन तहलका उन्होंने 2004 एथेंस ओलंपिक में मचाया। यहां उन्होंने छह स्वर्ण पदक जीते थे।

05 स्वर्ण पदक उन्होंने अपने अंतिम ओलंपिक रियो में हासिल किए। 31 साल के फेल्प्स ने जब सिडनी ओलंपिक में शिरकत की थी तब उनकी उम्र महज 15 साल थी।

तैराकी के जादूगर की गर्दन पर पड़ेंगे भारी
’जानकार कहते हैं कि गर्दन इतना वजन नहीं उठा सकती है। 6.60 किलो वजनी 23 स्वर्ण का मतलब मध्यम आकार की बॉउलिंग की गेंदों को चेन में पिरोकर गर्दन पर पहन लेना। विशेषज्ञ कहते हैं कि फेल्प्स को ऐसा करने से बचना चाहिए क्योंकि इससे उनकी गर्दन के लिए समस्या पैदा हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App