ताज़ा खबर
 

जनसत्ता विशेष- दूरगामी योजना के तहत हो तैयारी

मुझे आज तक इस बात का जवाब नहीं मिल पाया कि हम ओलंपिक की युद्ध स्तर पर तैयारी इसके आयोजन से कुछ समय पहले ही शुरू क्यों करते हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: August 4, 2016 10:50 PM
जसपाल राणा

जसपाल राणा

भारतीय दल के सभी 12 खिलाड़ी पदक जीतने में सक्षम हैं। इनकी पहली कोशिश फाइनल में पहुंचने की होनी चाहिए। इसके बाद वे पदक के बारे में सोचें। सभी मानसिक तौर पर मज़बूत हैं। इनका आत्मविश्वास भी बढ़ा है। मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि फाइनल में पहुंचने के बाद वे यादगार प्रदर्शन करें क्योंकि ये सब जानते हैं कि ओलंपिक पदक जीतने के लिए क्या किया जाता है। हमें एक दूरगामी योजना के तहत ओलंपिक की तैयारी करनी चाहिए, जिससे खिलाड़ियों पर किसी तरह का दबाव भी न आए और वे अपना स्वाभाविक प्रदर्शन कर सकें। 

मुझे आज तक इस बात का जवाब नहीं मिल पाया कि हम ओलंपिक की युद्ध स्तर पर तैयारी इसके आयोजन से कुछ समय पहले ही शुरू क्यों करते हैं। इस रुख से ऐसा लगता है कि हम अपने खिलाड़ियों को पदक के लिए तैयार नहीं कर रहे, बल्कि सरकार के ओलंपिक तैयारियों पर किए जा रहे भारी खर्च पर पदक खरीदने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसी तैयारियों से खिलाड़ियों पर मानसिक दबाव बन जाता है जबकि होना यह चाहिए कि खिलाड़ी अपनी तैयारियों का लुत्फ उठाएं। साथ ही मैं यह भी कहूंगा कि खिलाड़ियों के अलावा फेडरेशन, भारतीय खेल प्राधिकरण और कोच आदि की जवाबदेही तय होनी चाहिए। इन सबको टीम के हर तरह के प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेनी होगी और अपेक्षित परिणाम न देने की स्थिति में इनसे कारण जानने की कोशिश भी की जानी चाहिए, जिससे ऐसी गलती भविष्य में न दोहराई जाए। हमें एक दूरगामी योजना के तहत ओलंपिक की तैयारी करनी चाहिए, जिससे खिलाड़ियों पर किसी तरह का दबाव भी न आए और वे अपना स्वाभाविक प्रदर्शन कर सकें।

भारतीय दल के सभी 12 खिलाड़ी पदक जीतने में सक्षम हैं। इनकी पहली कोशिश फाइनल में पहुंचने की होनी चाहिए। इसके बाद वे पदक के बारे में सोचें। सभी मानसिक तौर पर मज़बूत हैं। इनका आत्मविश्वास भी बढ़ा है। मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि फाइनल में पहुंचने के बाद वे यादगार प्रदर्शन करें क्योंकि ये सब जानते हैं कि ओलंपिक पदक जीतने के लिए क्या किया जाता है। अभिनव बिंद्रा दस मीटर एअर राइफल में चुनौती रखेंगे। वे अपनी क्षमताओं को बेजिंग ओलंपिक में दिखा चुके हैं। वे अनुभवी होने के साथ-साथ मानसिक तौर पर काफी मज़बूत हैं, लेकिन उन पर इस बार पदक जीतने का दबाव रहेगा। गगन नारंग भी पदक जीत चुके हैं। अनुभवी होने के साथ वे भी पदक जीतने की क्षमता रखते हैं। तीनों स्पर्धाओं (दस मीटर एअर राइफल, 50 मीटर राइफल प्रोन और 50 मीटर राइफल थ्री पोज़ीशन) में उनका दावा मज़बूत है। यह उस दिन पर निर्भर रहेगा कि गगन सहित बाकी निशानेबाज़ कैसा प्रदर्शन करते हैं। दबाव में अच्छा प्रदर्शन करना उनकी सबसे बड़ी खासियत है।

ट्रैप शूटर मानवजीत सिंह संधू भी बिंद्रा की तरह काफी अनुभवी हैं। विश्व स्तर की कई प्रतियोगिताओं के वे फाइनल में खेल चुके हैं। उन्हें पूरी तरह से अपनी स्पर्धा पर केंद्रित रहना होगा क्योंकि यहां थोड़ी सी चूक भी खासी महंगी साबित होती है। वहीं इसी ट्रैप स्पर्धा में केनन चेन्ने और रैपिड फायर पिस्टल में गुरप्रीत सिंह के पास अनुभव की कमी है, लेकिन इन दोनों ने अपने दम पर कोटा हासिल किया है, इससे उनकी चुनौती को हल्के से नहीं लिया जा सकता। स्कीट शूटर मैराज अहमद खान लंबे समय से इस खेल से जुड़े हैं। उनका प्रदर्शन काफी कुछ किस्मत पर निर्भर है। 50 मीटर पिस्टल इवेंट के शूटर प्रकाश नांजप्पा को मंत्रालय और भारतीय खेल प्राधिकरण से फंड को लेकर कई विवादों में उलझना पड़ा था, जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्हें पदक जीतने के साथ पूरे सिस्टम से भी लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी है। दस मीटर एअर पिस्टल और 50 मीटर पिस्टल में चुनौती रखने वाले जीतू राय पदक के मज़बूत दावेदार हैं, लेकिन साथ ही उन पर पदक का काफी दबाव भी है। वैसे उनमें काफी आत्मविश्वास है। उन्हें भी अपना सारा ध्यान अपनी इवेंट पर केंद्रित करना होगा।

50 मीटर की दूरी की दो स्पर्धाओं में उतरने वाले चैन सिंह का ओलंपिक से पहले अस्वस्थ होना चिंता की बात है क्योंकि इसका असर तैयारियों पर पड़ता है। हमारे सभी निशानेबाज़ जानते हैं कि अगले कुछ दिनों में उनका पाला कई विश्व रेकार्डधारियों और ओलंपिक चैम्पियनों से पड़ने वाला है। इनकी तैयारियों का सही मायने में इम्तिहान इन दिग्गजों के बीच होगा और सारा दारोमदार फाइनल में पहुंचने के बाद उनकी एकाग्रता पर निर्भर है। (जैसा कि उन्होंने मनोज जोशी को बताया)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Rio 2016: हॉकी के गोल पोस्ट से भारतीय निकालेंगे स्वर्ण!
2 रियो ओलंपिक उद्घाटन समारोह 2016 में ये खिलाड़ी उठाएंगे अपने-अपने देश का ध्वज 
3 Rio Olympics 2016: कहां व कब देख सकेंगे भारतीय समय पर लाइव स्‍ट्रीमिंग ऑनलाइन व लाइव टीवी कवरेज, जानिए
जस्‍ट नाउ
X