ताज़ा खबर
 

हैरान और नाराज अदालत ने पूछा- ओलंपिक देखने रियो कैसे चले गए अभय चौटाला

विशेष अदालत ने इस बात पर आश्चर्य जताया है कि इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला के पुत्र अभय चौटाला बिना इसकी अनुमति के रियो ओलंपिक में शामिल होने कैसे चले गए।
Author नई दिल्ली | August 15, 2016 05:35 am
नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला

विशेष अदालत ने इस बात पर आश्चर्य जताया है कि इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला के पुत्र अभय चौटाला बिना इसकी अनुमति के रियो ओलंपिक में शामिल होने कैसे चले गए। अभय आय से अधिक संपत्ति के मामले में मुकदमे का सामना कर रहे हैं। मामला हाल में एक सुनवाई के दौरान तब आया जब विशेष सीबीआइ न्यायाधीश संजय गर्ग को सूचित किया गया कि अभय चौटाला इसलिए अनुपस्थित हैं क्योंकि खेल प्रशासक और भारतीय ओलंपिक संघ के पूर्व अध्यक्ष होने के नाते वह दो से 25 अगस्त तक के लिए रियो ओलंपिक में शामिल होने गए हैं।

उनके वकील ने आवेदन दायर कर अभय के लिए व्यक्तिगत पेशी से छूट की मांग की और कहा कि अदालत ने जमानत आदेश में उनके देश से बाहर जाने के लिए अनुमति मांगने संबंधी कोई विशिष्ट शर्त नहीं लगाई है। अदालत ने कहा, ‘इस आरोपी ने विदेश जाने के लिए इस अदालत से कोई विशेष अनुमति नहीं मांगी है।’ सीबीआइ के अभियोजक अजय कुमार गुप्ता ने इस पहलू पर दलील के लिए समय मांगा जिसके बाद अदालत ने मामले में अगली कार्यवाही के लिए 17 अगस्त की तारीख निर्धारित कर दी। सीबीआइ ने कांग्रेस नेता शमशेर सिंह सुरजेवाला की शिकायत पर इनेलो प्रमुख एवं हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला तथा उनके पुत्रों अजय और अभय चौटाला के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया था। ओमप्रकाश चौटाला और अजय चौटाला को 1999-2000 के जूनियर शिक्षक भर्ती घोटाले में 10 साल कैद की सजा सुनाई गई थी।

सीबीआइ ने 26 मार्च, 2010 को चौटाला के खिलाफ 1993 से 2006 के बीच उनकी कानूनी आय से कहीं अधिक 6.09 करोड़ रुपए मूल्य की संपत्ति होने के आरोप में आरोपपत्र दायर किया था। इसी तरह के दो मामले उनके पुत्रों अजय और अभय के खिलाफ चल रहे हैं। केंद्रीय जांच एजंंसी ने अपने आरोपपत्र में आरोप लगाया था कि चौटाला की संपत्ति संबंधित अवधि के दौरान उनकी वास्तविक आय 3.22 करोड़ से 189 प्रतिशत अधिक थी। अभय के पास आयकर रिकॉर्ड के अनुसार 2000-2005 की अवधि के दौरान उनकी आय 22.89 करोड़ रुपए से कथित तौर पर पांच गुना अधिक संपत्ति थी। एजंसी ने 119.69 करोड़ रुपए की संपत्ति ढूंढ़ निकालने का दावा किया। सीबीआई ने यह भी कहा था कि अजय के पास उनकी कानूनी आय से कई गुना अधिक संपत्ति थी। मई 1993 से मई 2006 के बीच उनकी कानूनी आय 8.17 करोड़ रुपए थी, लेकिन उन्होंने 27.7 करोड़ रुपए की संपत्ति अर्जित की थी। पूर्व में सभी तीनों मामलों की सुनवाई अलग-अलग अदालतों में हो रही थी, जिन्हें सीबीआई के आग्रह पर एक ही अदालत में स्थानांतरित कर दिया गया था। चौटाला और उनके पुत्रों ने इन सभी आरोपों से इनकार किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App