ताज़ा खबर
 

बॉल टैंपरिंग पर बोले रिकी पोंटिंग- बात का बतंगड़ बनाया गया

रिकी पोंटिंग ने कहा, ‘‘मुझे काफी बार लगता है कि सांस्कृतिक चीजों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा सकता है जबकि ड्रेसिंग रूम के अंदर की चीज बाहर हो रही बातों से बिलकुल ही अलग होती है। ईमानदारी से कहूं तो इस मौके पर मुझे लगता है कि संस्कृति वाली बात का कुछ हद तक बतंगड़ बनाया जा रहा है।’’
Author नई दिल्ली | April 5, 2018 21:41 pm
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग। (फाइल फोटो)

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग उन दावों से सहमत नहीं हैं कि गेंद से छेड़छाड़ और छींटाकशी उनके देश की क्रिकेट संस्कृति में गहराई से रची बसी है। वह इस बात से राहत महसूस कर रहे हैं कि दक्षिण अफ्रीका में हुई शर्मनाक घटना अब समाप्त हो गई है क्योंकि इसमें शामिल तीनों खिलाड़ियों ने खुद पर लगे प्रतिबंध को चुनौती देने से इनकार कर दिया है। स्टीव स्मिथ, कैमरन बैनक्रॉफ्ट और डेविड वार्नर ने घोषणा की कि उन्होंने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया द्वारा लगाए गए प्रतिबंध स्वीकार कर लिए हैं। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया इस बात की समीक्षा कर रही है कि क्या गेंद से छेड़छाड़ और छींटाकशी देश की क्रिकेट संस्कृति का हिस्सा रही है लेकिन स्पष्ट बात करने वाले पोंटिंग इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते। पोंटिंग ने पीटीआई के एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘संस्कृति का मुद्दा मेरे लिए सचमुच दिलचस्प चीज है। अगर हम दो महीने पीछे मुड़कर देखें जब ऑस्ट्रेलिया ने शानदार तरीके से एशेज सीरीज जीती थी तो तब संस्कृति संबंधित समस्या या इस तरह के मुद्दे की कोई बात नहीं हुई थी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन मुझे काफी बार लगता है कि सांस्कृतिक चीजों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा सकता है जबकि ड्रेसिंग रूम के अंदर की चीज बाहर हो रही बातों से बिलकुल ही अलग होती है। ईमानदारी से कहूं तो इस मौके पर मुझे लगता है कि संस्कृति वाली बात का कुछ हद तक बतंगड़ बनाया जा रहा है।’’ दूसरी तरफ, पोंटिंग को दिल्ली डेयरडेविल्स के आईपीएल के 10 चरण के खराब रिकॉर्ड की चिंता नहीं है क्योंकि उनका मानना है कि खिलाड़ियों के नए ग्रुप में इस सत्र में पहला खिताब जीतने की कूव्वत है। दिल्ली की टीम अपने पहले तीन चरण में दो बार सेमीफाइनल में पहुंची थी और इसके बाद 2012 सत्र के दौरान केवल एक बार ही प्ले ऑफ तक जगह बना सकी।

मुख्य कोच नियुक्त जाने के बाद पहली बार मीडिया से बात करते हुए पोंटिंग ने अपनी टीम से मनोरंजक क्रिकेट खेलने का वादा किया। ऑस्ट्रेलिया को दो विश्व कप खिताब दिलाने वाले 43 वर्षीय खिलाड़ी ने आईपीएल में भी सफलता का स्वाद चखा जिसमें वह बतौर खिलाड़ी2013 में और कोच के तौर पर मुंबई इंडियंस की खिताबी जीत का हिस्सा थे।

पोंटिंग ने कहा, ‘‘मैंने टीम प्रबंधन को इसके बारे में बताया था। मैं बीते समय की चिंता नहीं करता। हमारे पास अब नए खिलाड़ी हैं जिनमें आईपीएल जीतने की काबिलियत है। यह मेरा प्रबंधन और खिलाड़ियों का काम है कि हम सर्वश्रेष्ठ करें। मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि लड़के पूरी तरह से तैयार होंगे और अगर वे मैदान पर योजना का कार्यान्वयन बेहतरीन ढंग से करते हैं तो खिताब नहीं जीतने का कोई कारण नहीं दिखता।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App