ताज़ा खबर
 

रियो ओलंपिक में खेलेंगे शरणार्थी खिलाड़ी

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष ने घोषणा की कि कुशल खिलाड़ियों, जो कि शरणार्थियों के रूप में रह रहे हैं, उन्हें पहली बार ओलंपिक खेलों में..

Author संयुक्त राष्ट्र | October 27, 2015 11:57 PM
अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आइओसी) के अध्यक्ष थॉमस बाक। (फोटो-रॉयटर्स)

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आइओसी) के अध्यक्ष ने घोषणा की कि कुशल खिलाड़ियों, जो कि शरणार्थियों के रूप में रह रहे हैं, उन्हें पहली बार ओलंपिक खेलों में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी।

आइओसी प्रमुख थॉमस बाक ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में यह घोषणा की। इसमें एक प्रस्ताव पारित किया गया है जिसमें सभी देशों से रियो डि जनेरियो में 2016 में होने वाले ओलंपिक और परालंपिक के दौरान लड़ाई बंद करने और शांति बनाए रखने की अपील की गई है। बाक ने संयुक्त राष्ट्र के सभी 193 सदस्य देशों से प्रतिभाशाली शरणार्थी खिलाड़ियों की पहचान करने में आइओसी की मदद करने की भी अपील की। उन्होंने कहा, ‘यह दुनिया भर के सभी शरणार्थियों के लिए उम्मीद की किरण होगी और इससे दुनिया को इस संकट की भयावहता से बेहतर तौर पर जागरूक किया जा सकेगा।’

बाक ने कहा कि अब तक योग्य शरणार्थी खिलाड़ी ओलंपिक में भाग नहीं ले पाते थे क्योंकि वे अपने देश और उसकी राष्ट्रीय ओलंपिक समिति का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते थे। लेकिन उन्होंने कहा कि आइओसी ने 2016 ओलंपिक खेलों में शरणार्थी खिलाड़ियों का स्वागत करने का फैसला किया है, जहां वे 206 राष्ट्रीय ओलंपिक समितियों के 11,000 खिलाड़ियों के साथ ओलंपिक गांव में रहेंगे। बाक ने कहा, ‘उनकी कोई राष्ट्रीय टीम, राष्ट्रीय ध्वज नहीं होगा। उनके लिए राष्ट्रीय गीत नहीं बजेगा। इन शरणार्थी खिलाड़ियों का ओलंपिक ध्वज तले ओलंपिक गांव में स्वागत किया जाएगा। उनके लिए ओलंपिक गान बजेगा।’

दुनिया में अभी कुल दो करोड़ शरणार्थी हैं। उनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने इस महीने के शुरू में कहा था कि इस साल अकेले यूरोप में पांच लाख शरणार्थियों और आर्थिक प्रवासियों ने शरण ली तथा हजारों उनके नक्शेकदमों पर आगे बढ़ रहे हैं। बाक ने कहा कि आइओसी ने शरणार्थियों के लिए खेलों के जरिए उम्मीद जगाने के लिए 20 लाख डालर का कोष तैयार किया है। उन्होंने कहा, ‘इसके साथ ही हम कुशल शरणार्थी खिलाड़ियों को खेल में अपना करियर जारी रखने में भी मदद कर रहे हैं। भले ही भूख और हिंसा के कारण उन्हें अपना घर छोड़ना पड़ा हो लेकिन हम खेलों के क्षेत्र में आगे बढ़ने का उनका सपना पूरा करने में मदद करेंगे।’

भ्रष्टाचार के कारण चर्चा में रही विश्व फुटबाल संस्था फीफा का जिक्र करते हुए बाक ने महासभा में कहा कि आइओसी ने सुशासन और पारदर्शिता के उच्च मानकों का पालन करना सुनिश्चित किया है। उन्होंने कहा, ‘इस संदर्भ में हम अन्य प्रमुख खेल संगठनों को अपनी खोई प्रतिष्ठा हासिल करने के लिए अनिवार्य सुधार करने के लिए कह रहे हैं।’

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App