ताज़ा खबर
 

इतिहास: एशियाई खेलों की ‘सोंधी’ खुशबू

एशियाई खेल ओलंपिक के बाद खेलों की दुनिया का यह सबसे बड़ा आयोजन है। जहां तक एशियाई देशों के बीच खेलों के आयोजन की बात है तो 1912 में ही जापान, चीन और फिलीपिंस के बीच कई प्रतियोगिताएं खेली गर्इं।

Author Published on: August 9, 2018 5:43 AM
1982 एशियाई खेलों की शुरुआत से पहले जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम का एक दृश्य (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

आत्माराम भाटी

एशियाई खेल ओलंपिक के बाद खेलों की दुनिया का यह सबसे बड़ा आयोजन है। जहां तक एशियाई देशों के बीच खेलों के आयोजन की बात है तो 1912 में ही जापान, चीन और फिलीपिंस के बीच कई प्रतियोगिताएं खेली गर्इं। इन खेलों का पहला आयोजन 1913 में मनीला में हुआ। इन्हें सुदूर पूर्व खेलों के नाम से जाना जाता था और यह 1934 तक चला। इसी तरह भारत, श्रीलंका (सिलोन) और अफगानिस्तान ने 1934 में दिल्ली में पश्चिमी एशियाई खेलों का आयोजन किया था। हालांकि दूसरे विश्व युद्ध के कारण यह आगे नहीं हो पाया। विश्व युद्ध के बाद 1948 में जब ओलंपिक का आयोजन किया गया तो चीन और फिलीपिंस ने एक बार फिर सुदूर पूर्व खेलों के आयोजन पर मनन शुरू कर दिया। उसी समय भारत के खेल प्रशासक व शिक्षाविद् गुरुदत्त सोंधी ने ओलंपिक खेलों की तरह एशिया के देशों के लिए भी बड़े खेल आयोजन की सोची और एशियाई देशों के सामने इसका प्रस्ताव रखा।

लाहौर सरकारी महाविद्यालय में प्राचार्य रहे सोंधी की कोशिशों का नतिजा रहा कि दिल्ली के पटियाला हाउस में 12-13 फरवरी 1949 को एशिया के छह देशों के प्रतिनिधियों की बैठक हुई। इसमें एशियाई एथलेटिक महासंघ का गठन किया गया। इसे बाद में एशियाई खेल महासंघ नाम दिया गया। 1982 में दिल्ली तक के सभी खेल इसी महासंघ ने आयोजित किए। इसके बाद आयोजन का जिम्मा एशियाई ओलंपिक परिषद ने संभाला। इस बैठक में 1950 से एशियाई खेल आयोजित करने की योजना को भी मूर्त रूप दिया गया। दिल्ली को मेजबानी मिली लेकिन तैयारियों में देरी के कारण इन्हें टाल दिया गया। गुरुदत्त सोंधी की हर हाल में खेल आयोजन की जिद से आखिर में पहले एशियाई खेलों का आयोजन 4 से 11 मार्च 1951 को हुआ। इसमें 11 देशों के 489 खिलाड़ियों ने छह खेलों की 57 स्पर्धाओं में भाग लिया। भारत ने 15 स्वर्ण सहित कुल 51 पदक जीतकर पदक तालिका में दूसरा स्थान हासिल किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आकलनः कबड्डी में स्वर्ण पदक के लिए नहीं करनी पड़ेगी ‘कुश्ती’
2 दिलचस्पः पहली बार दो शहरों में आयोजित हो रहा एशियाई खेल
3 एशियाई खेल 2018: पदक तालिका में ऊपर चढ़ सकता है भारत
ये पढ़ा क्या?
X