ताज़ा खबर
 

अश्विन पर मुरलीधरन ने दिया एेसा बयान, जिसके बारे में उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा होगा

अश्विन ने श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में दूसरे टेस्ट के दौरान अॉस्ट्रेलिया के डेनिस लिली का रिकॉर्ड तोड़कर 54 टेस्ट में 300 विकेट पूरे किए।

Author नई दिल्ली | November 28, 2017 12:11 PM
महान स्पिनर मुथैया मुरलीधरन और भारतीय स्पिनर आर अश्विन।

टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट सबसे तेजी से पूरा करने वाले गेंदबाज बने आर अश्विन को बधाई देते हुए महान स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने कहा कि इस समय वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्पिन गेंदबाज है। अश्विन ने श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में दूसरे टेस्ट के दौरान अॉस्ट्रेलिया के डेनिस लिली का रिकॉर्ड तोड़कर 54 टेस्ट में 300 विकेट पूरे किए। लिली ने 1981 में 56 टेस्ट में यह आंकड़ा छुआ था। श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन ने 58 टेस्ट में 300 विकेट पूरे किए थे, लेकिन वह सबसे तेजी से 400, 500, 600 और 700 टेस्ट विकेट तक पहुंचे और 800 टेस्ट विकेट लेने वाले दुनिया के इकलौते गेंदबाज हैं ।

मुरलीधरन ने एक इंटरव्यू में कहा,‘‘ मैं अश्विन को बधाई देना चाहता हूं । टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट लेना बड़ी उपलब्धि है। वह वनडे टीम में नहीं हैं, लेकिन उम्मीद है कि भारत के लिए वनडे क्रिकेट भी लगातार खेलकर उसमें भी इस प्रदर्शन को दोहरायेगा।’’ अश्विन ने 54 टेस्ट में 300 और 111 वनडे में 150 विकेट लिए हैं। मुरलीधरन ने कहा,‘‘निश्चित तौर पर इस समय वह दुनिया का सर्वश्रेष्ठ स्पिनर है ।’’ यह पूछने पर कि क्या उन्हें लगता है कि वह उनका रिकॉर्ड तोड़ सकेगा, मुरलीधरन ने कहा कि अभी उसके सामने लंबा करियर है और वह कई रिकॉर्ड बनाएगा । उन्होंने कहा,‘‘ वह अभी 31-32 साल का ही है और कम से कम चार पांच साल और खेलेगा। वैसे यह इस पर भी निर्भर होगा कि वह कैसा प्रदर्शन करता है और फिटनेस का स्तर क्या रहता है। यह समय ही बतायेगा क्योंकि 35 साल के बाद बहुत आसान नहीं होता।’’

भारत और श्रीलंका के बीच अत्यधिक क्रिकेट के बारे में पूछने पर मुरलीधरन ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि दोनों एशियाई प्रतिद्वंद्वियों में अधिक द्विपक्षीय श्रृंखलाएं हो रही हैं। कुछ समय पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि इस बारे में तय करने का फैसला दर्शकों पर छोड़ देना चाहिए क्योंकि खेल से दर्शकों को भागने से बचाना होगा। मुरलीधरन ने मजाकिया लहजे में कहा,‘‘ हमने लंबे समय से एक दूसरे के खिलाफ खेला नहीं था। विराट हर मैच जीतकर शायद बोर हो गया है, इसलिए उसने ऐसा कहा।’’ उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि भारतीय टीम एक जमाने में अपराजेय हुई अॉस्ट्रेलियाई टीम की तरह होती जा रही है।

मुरलीधरन ने कहा कि श्रीलंकाई क्रिकेट के मौजूदा स्तर को देखकर वह काफी परेशान हैं। उन्होंने कहा,‘‘ 2-3 साल पहले ही खतरे की घंटी बज गई थी। आप कुछ मैच हारते हैं, लेकिन यह टीम लगातार हार ही रही है जो चिंता का सबब है। इसके अलावा युवा खिलाड़ी नहीं मिल रहे और उनमें देश के लिए उस तरह खेलने का जज्बा नहीं है, जो पिछले दौर के खिलाड़ियों में हुआ करता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App