ताज़ा खबर
 

‘सब्जी की गाड़ी पर बैठकर जाता था कॉलेज, क्रिकेट खेलने पर लैब से कर दिया गया था बाहर’, अश्विन ने किया खुलासा

अश्विन ने 111 वनडे में 150 विकेट लिए हैं। वहीं, 46 टी20 मैचों में उनके नाम 52 विकेट हैं। इसके अलावा 154 आईपीएल मैचों में उन्होंने 138 विकेट झटके हैं। अश्विन ने टीम इंडिया के लिए 71 टेस्ट में 365 विकेट लिए हैं।

Ravichandran Ashwin, interview, Aakash Chopra, video watchअश्विन टीम इंडिया के अलावा आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स, किंग्स इलेवन पंजाब और दिल्ली कैपिटल्स की ओर खेल चुके हैं। (सोर्स – सोशल मीडिया)

ऑफ स्पिनर रविंचंद्रन अश्विन को टेस्ट क्रिकेट में भारत के सबसे बेहतरीन मैच विनर्स में से एक माना जाता है। अश्विन ने टीम इंडिया के लिए 71 टेस्ट में 365 विकेट लिए हैं। उन्होंने 17 बार पारी में 4 और 27 बार पारी में 5 विकेट लिए हैं। मैच में कुल 10 विकेट उनके खाते में 7 बार जुड़े हैं। अश्विन ने 2011 में दिल्ली में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। टीम इंडिया में जगह पाने तक का उनका सफर आसान नहीं था। अश्विन एक इंटरव्यू में बताया है कि वे सब्जी की गाड़ी में बैठकर कॉलेज जाते थे। वे पहले ओपनर बल्लेबाज बनना चाहते थे, लेकिन स्पिनर बन गए।

अश्विन ने भारत के पूर्व ओपनर और मशहूर कमेंटेटर आकाश चोपड़ा को दिए इंटरव्यू में कई खुलासे किए। अश्विन ने कॉलेज के दिनों को याद करते हुए कहा, ‘‘मैं इंजीनियरिंग कर रहा था। मेरा कॉलेज घर से 40 किलोमीटर दूर था। मुझे प्रैक्टिस के लिए कॉलेज से 40 किलोमीटर आगे जाना होता था। घर से रोज सब्जी की गाड़ी पर शहर जाता था। उसके बाद प्रैक्टिस के लिए जाना जाता था। उस दौरान मैंने तीन दिन का एक क्लब मैच खेला था। वह मेरे मैकेनिकल इंजीनियरिंग का पहला साल था। शनिवार, रविवार और सोमवार को मैच खेलने के बाद मैं मंगलवार को कॉलेज गया। मैंने अपने रिकॉर्ड प्रोफेसर को दिखाए तो उसने मेरे मुंह पर फेंक दिया।’’

अश्विन ने आगे कहा, ‘‘प्रोफेसर ने मुझे कहा कि तुम लैब में नहीं आए थे। अब मैं तुम्हारे रिकॉर्ड पर साइन नहीं करूंगा। अगर खेलना है तो मैदान में रहो। मुझे दो घंटे तक क्लास से बाहर रखा। उन्होंने मुझे एक बार भी बुलाया नहीं। तभी वहां डिपार्टमेंट के हेड पहुंचे। उन्होंने मुझसे कहा कि यह बहुत मुश्किल है, इसलिए हम क्रिकेटर्स को इंजीनियरिंग करने के लिए नहीं कहते हैं। अगर तुम्हें इंजीनियरिंग करना है तो पूरा प्रोफेशनल करियर बनाना होगा। तुम्हारे पास या तो ये कर सकते हो या क्रिकेट खेल सकते हो।’’

अश्विन ने कहा, ‘‘मेरे लिए यह बड़ी बात थी। मैं लंबी दूरी से आता था। इंजीनियरिंग के इंट्रेस को पास करना मुश्किल था। दक्षिण भारतीय परिवार का होने के कारण पढ़ाई बहुत महत्वपूर्ण था। मैं घर वापस नहीं जा सकता था और यह नहीं कह सकता था कि मैं इसे (इंजीनियरिंग) को छोड़ रहा हूं। ऐसा अगले चार सालों तक अलग-अलग तरीकों से मेरे साथ होते रहा। यह मुझे मैदान पर हर मिनट फोकस रहने के लिए प्रेरित करता था।’’ अश्विन ने 111 वनडे में 150 विकेट लिए हैं। वहीं, 46 टी20 मैचों में उनके नाम 52 विकेट हैं। इसके अलावा 154 आईपीएल मैचों में उन्होंने 138 विकेट झटके हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पाकिस्तान से मैच में राहुल द्रविड़ की बैटिंग पर कमेंटेटर ने मारा था ताना, ‘द वाल’ ने दोनों पारियों में ठोक दिए थे शतक
2 IND vs AUS T20: भारत के बाद ऑस्ट्रेलिया को भी लगा बड़ा झटका, यह ऑलराउंडर हुआ बाहर; एरॉन फिंच के खेलने पर भी संशय
3 NZ vs WI: टिम साउदी की घातक गेंदबाजी से वेस्टइंडीज को खेलना पड़ा फॉलोऑन, न्यूजीलैंड लगातार चौथी जीत के करीब
ये पढ़ा क्या?
X