ताज़ा खबर
 

रणजी ट्रॉफी: सांगवान के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से दिल्ली को मिले तीन अंक

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज प्रदीप सांगवान ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सोमवार को यहां 38 रन देकर सात विकेट लिए जिससे दिल्ली ने ओड़ीशा के खिलाफ ड्रा छूटे रणजी ट्रॉफी

Author नई दिल्ली | November 3, 2015 1:30 AM

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज प्रदीप सांगवान ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सोमवार को यहां 38 रन देकर सात विकेट लिए जिससे दिल्ली ने ओड़ीशा के खिलाफ ड्रा छूटे रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए क्रिकेट मैच के घटनाप्रधान आखिरी दिन पहली पारी की बढ़त के आधार पर तीन अंक हासिल किए। पहले तीन दिन जहां खराब मौसम और धीमी बल्लेबाजी के कारण मैच नीरस ड्रा की तरफ बढ़ रहा था लेकिन चौथा और आखिरी दिन रोमांचक खेल से भरा रहा। ओड़ीशा ने सुबह अपनी पहली पारी चार विकेट पर 195 रन से आगे बढ़ाई लेकिन सांगवान ने पहले ओवर में ही अनुराग सारंगी (76) को आउट कर दिया। इसके बाद उन्होंने धड़ाधड़ विकेट लेकर ओड़ीशा की टीम 217 रन पर ढेर कर दी। इस तरह से ओड़ीशा ने आखिरी छह विकेट 22 रन के अंदर गंवाए।

पहली पारी में 94 रन की बढ़त हासिल करने वाले दिल्ली ने दूसरी पारी में तूफानी अंदाज में बल्लेबाजी की। धु्रव शोरे (66 गेंद पर 62), कप्तान गौतम गंभीर (41 गेंद पर 54) और नितीश राणा (46 गेंद पर 52 रन) ने अर्धशतक जमाए लेकिन तेजी से रन बनाने के प्रयास में बाकी बल्लेबाजों ने अपने विकेट गंवाए। बसंत मोहंती (39 रन पर छह विकेट) ने पुनीत बिष्ट, सुबोध भट्टी और पुलकीत नारंग को लगातार गेंदों पर आउट करके हैट्रिक भी बनाई। दिल्ली ने आखिर में नौ विकेट पर 193 रन बनाकर पारी समाप्त घोषित की।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6500 Cashback
  • Vivo V7+ 64 GB (Gold)
    ₹ 16990 MRP ₹ 22990 -26%
    ₹850 Cashback

ओड़ीशा के सामने जीत के लिए 288 रन का लक्ष्य था लेकिन जब मैच ड्रा कराने का फैसला किया गया तब उसने तीन विकेट पर 88 रन बनाए थे। नटराज बेहड़ा ने 35 और राजेश धूपर ने 26 रन बनाए। नारंग ने दो और भट्टी ने एक विकेट लिया।

तमिलनाडु ने रेलवे को हराया

नई दिल्ली। बाएं हाथ के स्पिनर रानिल शाह की घातक गेंदबाजी से तमिलनाडु ने रेलवे के आखिर छह विकेट 33 रन के अंदर निकालकर रणजी ट्राफी ग्रुप बी क्रिकेट मैच में सोमवार को यहां आठ विकेट से बड़ी जीत दर्ज की। रेलवे की टीम ने सोमवार को सुबह अपनी दूसरी पारी चार विकेट पर 200 रन से आगे बढ़ाई लेकिन उसकी टीम केवल 240 रन पर आउट हो गई। तमिलनाडु को इस तरह से जीत के लिए 77 रन का लक्ष्य मिला जो उसने दो विकेट खोकर हासिल कर लिया।

रेलवे का भरोसा रविवार के अविजित बल्लेबाज कप्तान महेश रावत (78) और वी चेल्वराज (88) पर टिका था लेकिन सोमवार को ये दोनों क्रम से एक और आठ रन जोड़कर जल्द ही पवेलियन लौट गए। शाह ने चेल्वराज के रूप में अपना पहला विकेट लिया और रेलवे के पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट करने में देर नहीं लगाई। उन्होंने 38 रन देकर चार विकेट लिए। जे कौशिक और एम रंगराजन ने दो-दो विकेट हासिल किए।

तमिलनाडु के पास बोनस अंक हासिल करने का मौका था लेकिन उसने शुरू में ही कप्तान अभिनव मुकुंद (आठ) का विकेट गंवा दिया। इसके बाद दिनेश कार्तिक ने 40 गेंदों पर सात चौकों और एक छक्के की मदद से 43 रन की तूफानी पारी खेली। इस बीच दूसरे छोर पर खड़े सलामी बल्लेबाज बाबा अपराजित ने विकेट बचाए रखने को तरजीह दी। उन्होंने 74 गेंदों का सामना करके दस रन बनाए। विजयशंकर तीन रन बनाकर नाबाद रहे। रेलवे के अनुरीत सिंह ने 43 रन देकर दो विकेट लिए। तमिलनाडु की यह दूसरी जीत है और उसके अब चार मैचों में 15 अंक हो गए हैं। रेलवे के पांच मैचों में केवल छह अंक हैं।

हैदराबाद ने हार टाली, जम्मू कश्मीर को मिले तीन अंक

हैदराबाद। चोटी के चार बल्लेबाजों की अर्धशतकीय पारियों से हैदराबाद रणजी ट्राफी ग्रुप सी क्रिकेट मैच में सोमवार को यहां जम्मू-कश्मीर के खिलाफ फालोआन के बावजूद हार टालने में सफल रहा। जम्मू कश्मीर को ड्रा छूटे इस मैच में इस तरह से तीन अंक से संतोष करना पड़ा। पहली पारी में 180 रन की बढ़त हासिल करने वाले जम्मू कश्मीर ने हैदराबाद को रविवार को फालोआन करने के लिए कहा था जिसने सोमवार को अपनी दूसरी पारी दो विकेट पर 122 रन से आगे बढ़ाई। हैदराबाद की टीम आखिर में 329 रन बनाने में सफल रही। हैदराबाद की तरफ से के सुमनाथ (78), हनुमा विहारी (65), डेरेक प्रिंस (62) और बी अनिरूद्ध (57) ने अर्धशतक जमाए।

जम्मू कश्मीर की तरफ से रामदयाल ने 55 रन देकर पांच और उमर नजीर ने 63 रन देकर तीन विकेट लिए। जम्मू कश्मीर के सामने आखिरी सत्र में जीत के लिए 150 रन का लक्ष्य था लेकिन उसने आखिर के 17 ओवर में दो विकेट पर 56 रन बनाए। मैच ड्रा खत्म होने के समय इयानदेव सिंह 26 और परवेज रसूल 25 रन पर खेल रहे थे।

वखारे के छह विकेट से विदर्भ ने महाराष्ट्र को हराया

नागपुर। अक्षय वखारे के छह और आदित्य सरवटे के चार विकेट की मदद से विदर्भ ने रणजी ट्राफी ग्रुप ए लीग मैच के चौथे और आखिरी दिन सोमवार को महाराष्ट्र को 82 रन से हरा दिया। अपने रविवार के स्कोर एक विकेट पर तीन रन से आगे खेलते हुए महाराष्ट्र की टीम 245 रन के लक्ष्य के जवाब में 162 रन पर आउट हो गई। वखारे ने 22 ओवर में 58 रन देकर छह विकेट लिए जबकि सरवटे ने 18.3 ओवर में 74 रन देकर चार विकेट लिए।

महाराष्ट्र के लिए हर्षद खादीवाले (55), कप्तान रोहित मोटवानी (28), केदार जाधव (28) के अलावा कोई बल्लेबाज टिककर नहीं खेल पाया। इससे पहले विदर्भ के पहली पारी के 332 रन के जवाब में महाराष्ट्र ने 237 रन बनाए थे जबकि विदर्भ की टीम दूसरी पारी में 149 रन पर आउट हो गई थी।

प्रणय के शतक के बावजूद हारा राजस्थान

जयपुर। सलामी बल्लेबाज प्रणय शर्मा के शतक के बावजूद राजस्थान को रणजी ट्राफी क्रिकेट गु्रप ए मैच में सोमवार को यहां कर्नाटक के खिलाफ 92 रन से शिकस्त का सामना करना पड़ा। यह मौजूदा सत्र में कर्नाटक की पहली जीत है।

कर्नाटक के 358 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए राजस्थान की टीम सोमवार को तीन विकेट पर 42 रन से आगे खेलने उतरी लेकिन प्रणय (114) और दिशांत याग्निक (नाबाद 71) की उम्दा पारियों के बावजूद टीम 265 रन पर ढेर हो गई और मैच हार गई। प्रणय और याग्निक ने उस समय सातवें विकेट के लिए 98 रन की साझेदारी की जब टीम 116 रन पर छह विकेट गंवाने के बाद संकट में थी।

प्रणय ने अपने तीसरे प्रथम श्रेणी शतक के दौरान 190 गेंद का सामना करते हुए 17 चौके और एक छक्का मारा। कर्नाटक की ओर से डेविड मथियास ने 53 रन देकर तीन विकेट चटकाए जबकि श्रीनाथ अरविंद, स्टुअर्ट बिन्नी और श्रेयष गोपाल ने दो-दो विकेट हासिल किए। कर्नाटक को इस जीत से छह अंक मिले।

जडेजा और वासवडा ने सौराष्ट्र को सेना पर जीत दिलाई

नई दिल्ली। भारतीय टीम में वापसी करने वाले हरफनमौला रविंद्र जडेजा और अर्पित वासवडा की अर्धशतकीय पारियों के दम पर सौराष्ट्र ने रणजी ट्राफी ग्रुप सी लीग मैच में सोमवार को सेना को चार विकेट से हरा दिया।

जीत के लिए 302 रन का लक्ष्य सौराष्ट्र ने 80.3 ओवर में छह विकेट खोकर हासिल कर लिया। इससे पहले सेना के कप्तान सौमिक चटर्जी ने दूसरी पारी छह विकेट पर 311 के स्कोर पर घोषित करने का साहसिक फैसला लिया था जिससे सौराष्ट्र को 302 रन का लक्ष्य मिला। सौराष्ट्र के लिए सलामी बल्लेबाज अहमद भाई डोडिया ने 103 गेंद में 10 चौकों की मदद से 65 रन बनाए। वहीं जडेजा ने 92 गेंद में 55 रन की पारी खेली जिसमें पांच चौके शामिल थे। वासवडा ने 102 गेंद में पांच चौकों की मदद से 57 रन बनाए। चिराग जानी 36 और कमलेश मकवाना 20 रन बनाकर नाबाद रहे।

हिमाचल ने त्रिपुरा को पारी से हराया

धर्मशाला। हिमाचल प्रदेश ने रणजी ट्राफी ग्रुप सी लीग मैच में सोमवार को त्रिपुरा को एक पारी और छह रन से हराकर बोनस अंक भी हासिल कर लिया। अपने रविवार के स्कोर तीन विकेट पर 88 रन से आगे खेलते हुए त्रिपुरा की टीम दूसरी पारी में 270 रन पर आउट हो गई। निरूपम सेन चौधरी (66), उदियन बोस (60) ने त्रिपुरा के लिए उपयोगी पारियां खेली जबकि 11वें नंबर के बल्लेबाज अभिजीत सरकार ने 57 गेंद में 48 रन बनाए।

लेकिन इसके बावजूद हार को टालना नामुमकिन था। हिमाचल प्रदेश के लिए अंकुश बेदी और आकाश वशिष्ठ ने तीन-तीन विकेट लिए जबकि ऋषि धवन को दो विकेट मिले। इससे पहले त्रिपुरा के पहली पारी के 285 रन के जवाब में हिमाचल ने पहली पारी पांच विकेट पर 561 रन पर घोषित की थी।

हिरवानी ने दिलाई मध्य प्रदेश को बड़ौदा पर जीत

वड़ोदरा। अपना तीसरा प्रथम श्रेणी मैच खेल रहे युवा लेग स्पिनर मिहिर हिरवानी ने सात गेंद के अंदर चार विकेट लेकर मध्य प्रदेश को रणजी ट्राफी ग्रुप बी क्रिकेट मैच में सोमवार को यहां बड़ौदा पर 87 रन की रोमांचक जीत दिलाई। पहली पारी में 19 रन से पिछड़ने वाले मध्य प्रदेश ने अपनी दूसरी पारी छह विकेट पर 288 रन बनाकर समाप्त घोषित करके बड़ौदा के सामने जीत के लिए 262 रन का लक्ष्य रखा लेकिन उसकी टीम 174 रन पर सिमट गई। पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले मिहिर हिरवानी ने आखिरी क्षणों में अपनी फिरकी का जादू बिखेरा जिससे बड़ौदा ने अपने आखिरी पांच विकेट 11 रन के अंदर गंवा दिए।

पूर्व लेग स्पिनर नरेंद्र हिरवानी के पुत्र मिहिर ने 41 रन देकर चार विकेट लिए। उन्हें मैन आफ द मैच चुना गया। पुनीत दाते (20 रन देकर चार विकेट) ने शीर्ष क्रम झकझोर कर बड़ौदा का स्कोर पांच विकेट पर 31 रन कर दिया था। इसके बाद यूसुफ पठान (93 गेंदों पर 86 रन) और स्वप्निल सिंह (47) ने छठे विकेट के लिए 132 रन जोड़े लेकिन यह साझेदारी टूटने के बाद बड़ौदा की पारी को सिमटने में समय नहीं लगा।

इससे पहले सुबह मध्य प्रदेश ने अपनी दूसरी पारी दो विकेट पर 113 रन से आगे बढ़ाई। उसकी तरफ से रजत पाटीदार (101) ने शतक जबकि हरप्रीत सिंह (53) और रमीज खान (नाबाद 50) ने अर्धशतक जमाए। बड़ौदा के लिए स्वप्निल सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 94 रन देकर चार विकेट लिए। मध्य प्रदेश की यह इस सत्र में पहली जीत है जिससे उसे छह अंक मिले। उसके अब चार मैचों में 11 अंक हैं।

हरियाणा के खिलाफ ड्रा मैच में बंगाल को तीन अंक

लाहली। रोहित शर्मा और सचिन राणा के अर्धशतकों की मदद से हरियाणा सोमवार को यहां बंगाल के खिलाफ रणजी ट्राफी ग्रुप ए मैच ड्रा कराने में सफल रहा लेकिन मेहमान टीम को पहली पारी में बढ़त के आधार पर तीन अंक हासिल करने से नहीं रोक पाया। बंगाल के 316 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए हरियाणा ने जब छह विकेट पर 195 रन बनाए थे तब अंपायरों ने मैच को ड्रा घोषित करने का फैसला किया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे हरियाणा की शुरुआत खराब रही और उसने 14 रन तक दोनों सलामी बल्लेबाजों राहुल दीवान (07) और नितिन सैनी (06) के विकेट गंवा दिए थे लेकिन इसके बाद कप्तान वीरेंद्र सहवाग (46), रोहित (50) और राणा (50) ने मध्यक्रम में उपयोगी पारियां खेलकर हरियाणा के लिए एक अंक सुनिश्चित किया। रोहित का मैच का यह दूसरा अर्धशतक है। जब मैच ड्रा घोषित किया गया उस समय प्रियांक तेहलान 23 और युजवेंद्र चाहल तीन रन बनाकर खेल रहे थे।

बंगाल की ओर से अशोक डिंडा ने 52 रन देकर तीन विकेट चटकाए। इससे पूर्व पहली पारी में 104 रन की बढ़त हासिल करने वाली बंगाल की टीम सोमवार को सात विकेट पर 147 रन से आगे खेलने उतरी और उसने पंकज शॉ (61) के मैच के दूसरे अर्धशतक की बदौलत आठ विकेट पर 211 रन बनाने के बाद अपनी दूसरी पारी घोषित किया। हरियाणा की ओर से आशीष हुड्डा ने 65 रन देकर चार विकेट चटकाए।

गोवा-झारखंड मैच रोमांचक ड्रा पर छूटा

जमशेदपुर। पहले दिन बारिश और अगले दो दिन पहली पारियां भी समाप्त नहीं होने के कारण नीरस दिख रहे गोवा और झारखंड के बीच खेला गया रणजी ट्राफी ग्रुप सी क्रिकेट मैच सोमवार को यहां आखिर में रोमांचक ड्रा के रूप में समाप्त हुआ। आलम यह था कि एक समय गोवा की जीत की उम्मीद बढ़ गई थी लेकिन आखिर में उसे पहली पारी की बढ़त के आधार पर तीन अंक से संतोष करना पड़ा। पहली पारी में 302 रन बनाने वाले गोवा ने झारखंड को सोमवार को उसकी पहली पारी में 209 रन पर आउट कर दिया था।

झारखंड ने सोमवार को चार विकेट पर 159 रन से पारी आगे बढ़ाई लेकिन आखिरी चार विकेट 41 रन के अंदर गंवा दिए। शादाब जकाती ने 72 रन देकर पांच विकेट लेकर झारखंड को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया। उनके अलावा अमित यादव ने तीन और पी परमेश्वरन ने दो विकेट लिए। गोवा ने अपनी दूसरी पारी पांच विकेट पर 102 रन पर समाप्त घोषित करके झारखंड के सामने जीत के लिए 34 ओवरों में 196 रन का लक्ष्य रखा। झारखंड हालांकि शुरू में लड़खड़ा गया और उसकी आधी टीम 62 रन पर पवेलियन लौट गई। तब 14 से ज्यादा ओवर बचे हुए थे। संकट की इस स्थिति में शिव गौतम (41) और के देवव्रत (नाबाद 25) ने 12 ओवर तक कोई विकेट नहीं गिरने दिया और हार टाली। झारखंड ने आखिर में छह विकेट पर 105 रन बनाए।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App