ताज़ा खबर
 

अगर बायोपिक बनी तो इस अभिनेता को चाहते हैं राहुल द्रविड़, दिए कई रोचक सवालों के जवाब

द्रविड़ से पूछा गया कि अगर उनके पास कोई सुपरपावर आती है तो वह क्या चाहते हैं कि कैसी पावर उन्हें मिले? इसके जवाब में राहुल ने कहा, 'मैं थोड़ा ओल्ड फैशन को पसंद करने वाला व्यक्ति हूं, तो मैं चाहूंगा कि मैं सुपरमेन की तरह उड़कर एक जगह से दूसरी जगह जा सकूं।'

पूर्व क्रिकेटर राहुल द्रविड़ (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान में अंडर-19 क्रिकेट टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने अपनी बायोपिक को लेकर बहुत ही खास इच्छा जाहिर की है। राहुल द्रविड़ से जब एक बातचीत के दौरान सवाल किया गया कि अगर उनकी जिंदगी पर फिल्म बनेगी तो वह किस अभिनेता को अपने रोल में देखना चाहेंगे। इस सवाल के जवाब में टीम इंडिया की दीवार द्रविड़ ने एक्टर आमिर खान का नाम लिया। जी हां, द्रविड़ चाहते हैं कि अगर उनकी जिंदगी पर कभी फिल्म बनती है तो आमिर खान उनका रोल निभाएं।

ईएसपीएन क्रिकइन्फो में द्रविड़ से 25 सवाल पूछे गए, जिनमें एक सवाल बायोपिक वाला भी था। द्रविड़ ने इन सभी सवालों के बहुत ही दिलचस्प जवाब दिए। पूर्व क्रिकेटर से जब सवाल किया गया कि उन्हें अपनी जिंदगी के लिए बल्लेबाजी करने के लिए एक क्रिकेटर को चुनना है। इस पर द्रविड़ ने मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का नाम लिया। उन्होंने कहा, ‘जिस सबसे अच्छे व्यक्ति के साथ मैंने खेला है वह सचिन तेंदुलकर हैं। गुणवत्ता और क्लास के नजरिए से वह सबसे अच्छे हैं, इसलिए मैं सचिन तेंदुलकर को चुनता हूं।’

द्रविड़ से पूछा गया कि अगर उनके पास कोई सुपरपावर आती है तो वह क्या चाहते हैं कि कैसी पावर उन्हें मिले? इसके जवाब में राहुल ने कहा, ‘मैं थोड़ा ओल्ड फैशन को पसंद करने वाला व्यक्ति हूं, तो मैं चाहूंगा कि मैं सुपरमेन की तरह उड़कर एक जगह से दूसरी जगह जा सकूं।’ जब द्रविड़ से पूछा गया कि वर्तमान के गेंदबाजों में से कौन उन्हें परेशान कर सकता था, तब उन्होंने भुवनेश्वर कुमार का नाम लिया। उन्होंने कहा, ‘मैं इतनी पुराना भी नहीं हूं। मैंने बहुत से वर्तमान गेंदबाजों के साथ खेला है और मुझे उन्होंने परेशानी भी दी। मिशेल स्टार्क जैसा कोई, लेकिन मैं उनके साथ खेल चुका हूं। कगिसो रबाडा शायद परेशान कर सकते हैं। अगर आप भारतीय गेंदबाजों की बात करेंगे तो मुझे लगता है कि भुवनेश्वर कुमार चुनौती होंगे।’

अंडर-19 क्रिकेट टीम के कोच से जब पूछा गया कि संन्यास लेने की कौन सी बात उन्हें सबसे ज्यादा अच्छी लगती है, इस पर द्रविड़ ने कहा, ‘तेज गेंदबाजों और बाउंसर्स का सामना नहीं करना पड़ता। मुझे यह बहुत अच्छा लगता है। मुझे अब सुबह उठने के बाद यह नहीं सोचना पड़ता कि मैं 145 किमी की रफ्तार वाली गेंद का सामना कैसे करूंगा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App