ताज़ा खबर
 

‘उल्लू के पट्ठे होते हैं जो इस किस्म की बात करते हैं,’ मोहम्मद सिराज पर नस्ली टिप्पणी मामले में भड़के शोएब अख्तर

शोएब अख्तर ने कहा कि 2001 में 9/11 की घटना के बाद से जो इस्लामिक फोबिया था, उसकी वजह से और इंटरनेशनल मीडिया ने इतना बढ़ा चढ़ाकर पेश किया कि 60 लोगों के कारण 1.6 बिलियन मुसलमान... को टेररिस्ट बना दिया।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: January 11, 2021 11:15 AM
Shoaib Akhtar Youtube Racism India vs Australiaशोएब अख्तर ने अपने यूट्यूब चैनल पर नस्लवाद के खिलाफ जमकर गुस्सा निकाला। (सोर्स- स्क्रीनशॉट शोएब अख्तर/यूट्यूटब चैनल)

भारतीय खिलाड़ियों के साथ ऑस्ट्रेलिया के सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में नस्ली टिप्पणी की सारी दुनिया में आलोचना हो रही है। इस मामले को लेक पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर भी भड़के हुए हैं। उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘नस्लवाद होता रहा है, होता रहेगा, लोग समझेंगे नहीं। बहुत ही उल्लू के पट्ठे लोग होते हैं तो जो इस किस्म की बात करते हैं। लेकिन नस्लवाद किसी भी सूरत में स्वीकार्य नहीं है।’

अख्तर ने कहा, ‘मैं बात कर रहा हूं मोहम्मद सिराज के ऊपर। उन पर आवाजें कसी गईं। उनको अलग-अलग तरह के नाम दिए गए। उनको गंदी जुबान से पुकारा गया। मैं आपको ईमानदारी से बताता हूं कि जब 2001 की घटना हुई (9/11), उसके बाद जितना नस्लवाद मुसलमानों ने सहा। साठ बंदों ने अगर आतंकवाद में हिस्सा लिया तो 1.6 बिलियन लोगों को, इस्लामिक फोबिया जो था, उसकी वजह से और इंटरनेशनल मीडिया ने इतना बढ़ा चढ़ाकर पेश किया कि 1.6 बिलियन मुसलमान… को टेररिस्ट बना दिया। मैं कारण बता रहा हूं कि क्यों यह सिराज के साथ हुआ।’

अख्तर ने कहा, ‘मुसलमानों के खिलाफ इतनी बात की, इतनी बात की, इतनी रिपोर्टिंग की, कि पूरी दुनिया में मुसलमानों को ऐसा बनाकर पेश किया गया कि इनसे बड़ा कोई आतंकी दुनिया में है ही नहीं। मैंने फुटबॉल में देखा, ब्लैक कम्युनिटी के साथ देखा। फुटबॉल ग्राउंड पर। कोई उन पर केला फेंक रहा है। कोई उनको जाानवरों के नाम से पुकार रहा है। कोई उनकी शक्लें बनाकर, होंठ बड़े करके…..।’

अख्तर ने कहा, ‘मैं ऐसे लफ्जों का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहता, क्योंकि मैं इस चीज से सख्त खिलाफ हूं। क्योंकि हर चीज अल्लाह की बनाई हुई है। हर इंसान अल्लाह का बनाया हुआ है। वह हिंदू है, मुसलमान है, सिक्ख है। वह ब्लैक है, व्हाइट है, वह ब्राउन है। वह चाइनीज है, वह जैपनीज है, कोई भी है, वह अल्लाह का बनाया हुआ है। उसको आप बेइज्जती नहीं कर सकते।’

अख्तर ने कहा, ‘मेरे साथ हुआ। जैसे हम कई देशों में गए। पूछा गया कि आप कहां से आए हैं? बताया कि हम जी पाकिस्तान से हैं। तो बोला गया ओह ओह ओसामा बिन लादेन के देश से। बात यहां से शुरू हुई। क्रिकेट फील्ड में गए। टेररिस्ट के नाम से बुलाया गया। साल 2002 में मुझे घटना याद है। मैं मुल्क का नाम नहीं लूंगा, बुरी बात होगी, स्टेडयम में आवाजें कसी गईं।’

शोएब अख्तर ने कहा, ‘हमारे दोस्तों को कहा गया। जबकि हम वहां पर जाकर यतीम बच्चों के लिए खाना प्रोवाइड कर रहे थे। हम अपने जेबखर्च को उस कम्युनिटी को दे रहे थे। यह नहीं देखा कि वे किसी धर्म या मजहब के हैं। हमें कोई लालच नहीं था। हमें अल्लाह से रिवार्ड चाहिए होता है लोगों से नहीं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 टिम पेन ने टपकाए ऋषभ पंत के कैच, भारतीय विकेटकीपर ने रचा इतिहास; चेतेश्वर पुजारा ने भी छुआ कीर्तिमान
2 Ind vs Aus: टीम इंडिया ब्रिस्बेन की यात्रा करने के लिए तैयार, गाबा में ही होगा चौथा टेस्ट
3 Syed Mushtaq Ali Trophy: IPL में बिहु डांस करने वाले ने जड़ा पचासा, रोमांचक मैच में 2 रन से जीता असम
ये पढ़ा क्या?
X