ताज़ा खबर
 

फुर्ती से हमले की कला ने बनाया महान

छह साल की उम्र में ही लियोनल मेस्सी के भीतर फुटबॉल का जुनून दिखने लगा था। वह सड़कों पर 15-20 मिनट तक बिना रुके दोनों पैरों से जगलिंग करते देखे जाते थे। उनके इस हुनर की पहचान स्थानीय क्लब स्तर पर होने लगी थी।

छह साल की उम्र में ही लियोनल मेस्सी के भीतर फुटबॉल का जुनून दिखने लगा था।

चैंपियंस लीग के क्वार्टर फाइनल मुकाबले में जर्मन क्लब बायर्न म्यूनिख से मिली करारी हार ने बार्सीलोना के भीतर तूफान ला दिया। उसके स्टार स्ट्राइकर लियोनल मेस्सी ने इस पराजय के बाद स्पेनिश फुटबॉल क्लब बार्सीलोना को छोड़ने का मन बना लिया है। खबरों के मुताबिक क्लब ने यह पुष्टि कर दी है कि उन्होंने इस कार्रवाई को आगे बढ़ाने के लिए मैनेजमेंंट को दस्तावेज भी भेज दिए हैं। मेस्सी के इस कदम से बार्सीलोना को बड़ा नुकसान होना तय है। लेकिन यह घटना इतनी खास क्यों है। सवाल है कि इससे पहले भी कई दिग्गज एक क्लब से दूसरे क्लब का सफर कर चुके हैं। बार्सीलोना के ही कई खिलाड़ी बड़े आर्थिक फायदे की शर्त पर दूसरे क्लब से जुड़ चुके हैं। मेस्सी में ऐसा क्या है जो बार्सीलोना को उन्हें रोके रहने के लिए हर कदम उठाने पर मजबूर कर रहा है। प्रशंसक क्लब न छोड़ने की गुहार करते हुए बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे हैं।

दरअसल, बार्सीलोना की स्थापना 1899 में ही हो गई थी। लेकिन वर्तमान समय में उसे शीर्ष क्लब बनाने में लियोनल मेस्सी का सबसे ज्यादा योगदान रहा है। उनकी उपलब्धियों पर नजर डाले तो यह कहा जा सकता है कि वह अकेले किसी पूरी टीम के बराबर हैं। उनकी प्रतिभा के सहारे बार्सीलोना ने कई बड़ी ट्रॉफियां जीती हैं। उनके सफर की बात करें तो 16 अक्तूबर 2004 को मेस्सी ने बार्सीलोना के लिए 18 साल की उम्र में पदार्पण किया था। तब से अब तक टीम के लिए 731 मैच खेलते हुए उन्होंने 634 गोल दागे हैं। साथ ही 276 गोल में मदद की है। स्पेनिश क्लब को उन्होंने 10 ला-लीगा और चार यूएफा चैंपियंस लीग समेत 34 खिताब जिताए हैं। इस आंकड़े से पता चलता है कि वह बार्सीलोना के लिए क्या महत्व रखते हैं।

कैसे शुरू हुआ था सफर
छह साल की उम्र में ही लियोनल मेस्सी के भीतर फुटबॉल का जुनून दिखने लगा था। वह सड़कों पर 15-20 मिनट तक बिना रुके दोनों पैरों से जगलिंग करते देखे जाते थे। उनके इस हुनर की पहचान स्थानीय क्लब स्तर पर होने लगी थी। जब वे 10 साल के हुए तो उनके ‘ग्रोथ हार्मोन डेफिशिएंसी’ बीमारी का पता चला। इस बीमारी में शरीर का विकास रुक जाता है। इसके इलाज में हर महीने बड़ी रकम खर्च होती थी जिसे उठा पाने में उनका परिवार सक्षम नहीं था। तब नेवल्स ओल्ड ब्वाय कल्ब ने बार्सीलोना को मेस्सी के हुनर और बीमारी के बारे में जानकारी दी। कहा जाता है कि वे 13 साल की उम्र में जब बार्सीलोना से जुड़े थे तब समझौता पत्र न होने पर उन्होंने एक नेपकिन पर कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। तब से आज तक वे इस क्लब के साथ जुड़े रहे। उन्होंने कई मौके पर कहा है कि बार्सीलोना उनके लिए अपना घर है।

क्या खासियत है मेस्सी की
मेस्सी ने अपने करिअर के दौरान कई उतार-चढ़ाव का सामना किया। कई बार उनकी टीम को हार का सामना करना पड़ा और इसकी पूरी जिम्मेदारी मेस्सी के कंधे पर थोपी गई। आलोचकों ने उन्हें धीमा खिलाड़ी तक कह दिया। लेकिन मेस्सी अपने आक्रमण के लिए हमेशा से मशहूर रहे। फुटबॉल पंडितों की माने तो वो शेर की तरह घात लगाकर शिकार करने में विश्वास रखते हैं। मसलन, 23 दिसंबर 2017 को रियाल मैड्रिड और बार्सीलोना के बीच हुए मैच में मेस्सी मैदान पर आठ किलोमीटर दौड़े, लेकिन इसमें वे 83 फीसद समय तेज चलने में गुजारे। मैच में उनके एक गोल से बार्सीलोना ने जीत हासिल की। यानी, वे अपनी ऊर्जा को बचाकर रखने और अचानक हमला करने में माहिर हैं। ये कला उन्हें दुनिया के महान खिलाड़ियों की सूची में शामिल करता है। 2014 विश्व कप के दौरान कई अखबारों ने लिखा था कि सिर्फ मेस्सी ही हैं जो मैदान पर कम दौड़ कर भी टीम को मैच जीता सकते हैं।

10 नंबर की जर्सी को बनाया खास
मेस्सी की जर्सी का नंबर 10 है। इस नंबर की जर्सी फुटबॉल के अलावा क्रिकेट में भी प्रसिद्ध है। कहा जाता है कि किसी भी खेल में 10 नंबर की जर्सी महान खिलाड़ी को ही मिला है। खैर, मेस्सी को 10 नंबर की जर्सी पहनने में करिअर के 11 साल खर्च करने पड़े। बार्सीलोना से जुड़ने के बाद मेस्सी 30 नंबर की जर्सी पहनते थे। सीनियर खिलाड़ी के तौर पर करिअर का पहला गोल उन्होंने इसी जर्सी के साथ दागा। बाद में टीम में जगह पक्की हो जाने के बाद वे 19 नंबर की जर्सी पहनने लगे। 24 जुलाई 2008 को स्कॉटलैंड के क्लब हिबरनियन के खिलाफ मैच में पहली बार मेस्सी 10 नंबर की जर्सी पहन कर मैदान में उतरे। इससे पहले बार्सीलोना के महान खिलाड़ी रोनाल्डिन्हो 10 नंबर की जर्सी पहनते थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी में बैडमिंटन खिलाड़ी से छेड़छाड़, आरोपियों ने थाने में दी जिंदगी बर्बाद करने की धमकी; दरोगा पर डराकर राजीनामा कराने का आरोप
2 बुरी खबर: ट्रेकिंग पर गया यह पूर्व क्रिकेटर 250 फीट गहरी खाई में गिरा, मौत
3 बाबा रामदेव लगाते हैं 500 डिप्‍स, अरनब के स्‍टूडियो में ही देने लगे थे डेमो, पंजा लड़ा कर कहा- आपमें ताकत तो है
यह पढ़ा क्या?
X