कभी प्रैक्टिस पर जाने के लिए बस में खाने पड़ते थे धक्के, अब करोड़ों का घर खरीदने की तैयारी में हैं पंजाब किंग्स के अर्शदीप सिंह

अर्शदीप सिंह के पिता दर्शन सिंह ने बताया, ‘जब से उसने खेलना शुरू किया है, तब से ही क्रिकेट खेलना अर्शदीप का जुनून रहा है। हमने हमेशा उसका समर्थन किया।’

Arshdeep with father Darshan Singh IPL Salary Punjab Kings
पिता दर्शन सिंह के साथ पंजाब किंग्स के युवा गेंदबाज अर्शदीप सिंह। (एक्सप्रेस फोटो)

बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रीति जिंटा के सह मालिकाना हक वाली पंजाब किंग्स ने सिर्फ 2 खिलाड़ियों मयंक अग्रवाल और अर्शदीप सिंह को रिटेन किया है। फ्रैंचाइजी ने अर्शदीप को साल 2019 के लिए हुई नीलामी में सिर्फ 20 लाख रुपए में बतौर गेंदबाज खरीदा था। अब फ्रैंचाइजी ने उन्हें 4 करोड़ रुपए में रिटेन किया है। अर्शदीप किसी भी आईपीएल फ्रैंचाइजी द्वारा रिटेन किए जाने वाले चौथे अनकैप्ड भारतीय खिलाड़ी हैं।

तीन सीजन में ही वह टीम के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ियों में से एक बन गए हैं। वह पिछले सीजन पंजाब किंग्स के दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। उन्होंने आईपीएल में अब तक 23 मैच खेले हैं। इसमें उन्होंने 8.78 के इकॉनमी से 30 विकेट हासिल किए हैं। उनसे कम मैच खेलकर क्रिस वोक्स ने ही 30 विकेट हासिल किए हैं।

महज 3 साल में ही 20 लाख से 4 करोड़ रुपए तक की सैलरी का सफर सुनने में बहुत अच्छा लगता है, लेकिन यह उनकी वर्षों की मेहनत का नतीजा है। अर्शदीप ने वह समय भी देखा जब उन्हें 15 किलोमीटर दूर प्रैक्टिस करने के लिए अपनी अकादमी जाने में बस में धक्के खाने पड़ते थे। उनका किट बैग बड़ा होने के कारण उन्हें बस में सीट नहीं मिलती थी। इसी वजह से वह कभी-कभी 15 साइकिल चलाकर प्रैक्टिस करने जाते थे। साइकिल पर उनका भारी-भरकम किटबैग भी लदा रहता था।

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में अर्शदीप के पिता दर्शन सिंह ने अपने होनहार बेटे के संघर्ष के दिनों को याद किया। दर्शन सिंह सीआईएसएफ से इंस्पेक्टर के रूप में सेवानिवृत्त हुए हैं। अब वह चंडीगढ़ के इंडस्ट्रियल एरिया में स्थित ग्रोज बेकर्ट एशिया के सुरक्षा प्रमुख के रूप में काम करते हैं। उन्होंने कहा, ‘जब से उसने खेलना शुरू किया है, तब से ही क्रिकेट खेलना अर्शदीप का जुनून रहा है। हमने हमेशा उसका समर्थन किया।’

दर्शन सिंह ने बताया, ‘जब मैं पहले सीआईएसएफ में तैनात था, तब मेरी पत्नी बलजीत कौर उसका हौसला बढ़ाती थी। अर्शदीप कभी-कभी खरड़ से चंडीगढ़ तक बस या साइकिल में जाता था। वहां वह जसवंत राय सर से प्रशिक्षण लेता था।’

दर्शन सिंह ने कहा, ‘इतनी बड़ी राशि में रिटेन किए जाना उसकी मेहनत का इनाम है। उसने यह खबर अपनी मां के साथ साझा की। उसकी मां अपने बड़े भाई आकाशदीप सिंह से मिलने कनाडा गई हैं। रिटेन किए जाने की सूचना मिलना उन दोनों के लिए एक भावुक क्षण था। वह इस पैसे से परिवार के लिए एक नया घर बनाने की योजना बना रहा है।’

अर्शदीप सिंह ने 2019 में द इंडियन एक्सप्रेस को बताया था, ‘मैंने टेनिस बॉल क्रिकेट से शुरुआत की थी। टेनिस बॉल क्रिकेट में कोई भी स्पिन गेंदबाजी नहीं करता, इसलिए मैंने मध्यम तेज गेंदबाजी को चुना। अकादमी में शुरुआती दिनों में मुझे अपनी किट के साथ सीटीयू बस में सीट नहीं मिलती थी। मुझे अपने घर से अकादमी तक 15 किलोमीटर से ज्यादा साइकिल चलानी पड़ती थी।’

उन्होंने बताया था, ‘मुझे याद है कि मैंने टीवी पर इरफान पठान को पाकिस्तान के खिलाफ हैट्रिक लेते देखा था। मैं वसीम अकरम सर के अलावा उन्हें (इरफान पठान) अपना आदर्श मानने लगा था। वे दोनों ही बाएं हाथ के खिलाड़ी हैं। जिस तरह से दोनों ने गेंद को स्विंग कराते थे और यॉर्कर फेंकते थे, बस वही मेरे दिमाग में चलता रहता है।’

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट