ताज़ा खबर
 

आज से भारत में काम नहीं करेगा PUBG मोबाइल, जानिए कैसे होगी इस गेम की वापसी

पबजी मोबाइल ने यह भी रेखांकित किया है कि उसने यूजर प्राइवेसी और डेटा को प्रोटेक्ट किया है। भारत सरकार ने पबजी मोबाइल और अन्य चीनी ऐप्स को प्राइवेसी और सिक्योरिटी संबंधी खतरों के चलते ही प्रतिबंधित किया था।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: October 30, 2020 12:21 PM
PUBG MOBILE BANNED CLOSEDपबजी मोबाइल ने घोषणा की है कि उसका यह ऐप भारत में 30 अक्टूबर 2020 से पूरी तरह काम करना बंद कर देगा।

भारत सरकार ने सितंबर 2020 में 118 चीनी ऐप को प्रतिबंधित कर दिया था। प्रतिबंधित ऐप्स की सूची में PUBG का भी नाम था। इसमें पबजी मोबाइल (PUBG Mobile) और इसका लाइट वर्जन यानी पबजी मोबाइल लाइट (PUBG Mobile Lite) दोनों शामिल थे। इसके बाद पबजी मोबाइल को गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर से हटा दिया गया था।

हालांकि, इस गेम को वे लोग खेल सकते थे, जिन्होंने पहले से ही इसे अपने फोन में इंस्टॉल कर रखा था। अब पबजी मोबाइल ने ऐलान किया है कि यह ऐप आज यानी 30 अक्टूबर से भारत में पूरी तरह काम करना बंद कर देगा। पबजी मोबाइल ने अपने फेसबुक अकाउंट पर लिखा कि 30 अक्टूबर, 2020 से Tencent गेम्स द्वारा भारत में सभी यूजर्स के लिए पबजी मोबाइल नॉर्डिक मैप: लिविक (PUBG MOBILE Nordic Map: Livik) और पबजी मोबाइल लाइट (PUBG MOBILE Lite) के लिए सभी सेवाएं और एक्सेस बंद कर दी जाएंगी।

बता दें कि पबजी मोबाइल के पब्लिशिंग राइट्स पहले टेनसेंट गेम्स के पास थे। टेनसेंट चीनी कंपनी थी। भारत सरकार के आदेश के बाद ब्लूहोल स्टूडियो ने इस कंपनी के साथ भारत में काम करने से इंकार कर दिया। अब पबजी मोबाइल के पब्लिशिंग राइट्स फिर से पबजी कॉरपोरेशन को मिल जाएंगे। पबजी कॉरपोरेशन (PUBG Corporation) ने कहा है कि 2 दिसंबर तक यह गेम क्रॉफ्टन इंक (Krafton Inc.) के साथ जोड़ दिया जाएगा।

यह दी जानकारी: पबजी कॉरपोरेशन जो PUBG गेम उपलब्ध कराती है, वह बताएगी कि मर्जर के साथ यूजर्स की निजी जानकारी किस तरह भेजी जाएगी। पबजी कॉरपोरेशन को 2 दिसंबर 2020 तक क्रॉफ्टन इंक में जोड़ दिया जाएगा। पबजी यूजर्स की निजी जानकारी क्रॉफ्टन इंक में भेज दी जाएगी, जिससे सेवाएं लगातार जारी रहें। क्रॉफ्टन इंक पहले की तरह ही निजी जानकारी का इस्तेमाल करेगा और उसे अपने पास रखेगा। उन्हें इससे जुड़े कानून के अंदर रखेगा।

बता दें कि पबजी मोबाइल ने यह भी रेखांकित किया है कि उसने यूजर प्राइवेसी और डेटा को प्रोटेक्ट किया है। भारत सरकार ने पबजी मोबाइल और अन्य चीनी ऐप्स को प्राइवेसी और सिक्योरिटी संबंधी खतरों के चलते ही प्रतिबंधित किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 IPL 2020: यशस्वी जायसवाल के बाद नीतीश राणा ने MS Dhoni के सामने जोड़े हाथ, ‘थाला’ से वरुण चक्रवर्ती को मिला ज्ञान
2 एक बदलाव के साथ उतरा राजस्थान, ये है दोनों की प्लेइंग इलेवन
3 चेन्नई सुपरकिंग्स की जीत से प्लेऑफ की दौड़ में बढ़ा रोमांच, बाहर हो सकती है कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम
ये पढ़ा क्या?
X