ताज़ा खबर
 

गुरू ने अंतिम सेकेंड में दिखाया दम और शिष्य को हराया

गुरु और शिष्य की बहुप्रतिक्षित कुश्ती में बाजी आखिरकार गुरु ने मारी। पेशेवेर कुश्ती लीग के हरियाणा चरण में ओलंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त ने अपने अनुभव का पूरा फायदा उठाया ...

गुरु और शिष्य की बहुप्रतिक्षित कुश्ती में बाजी आखिरकार गुरु ने मारी। पेशेवेर कुश्ती लीग के हरियाणा चरण में ओलंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त ने अपने अनुभव का पूरा फायदा उठाया और बजरंग पूनिया को नजदीकी मुकाबले में 3-2 अंकों से हरा कर हरियाणा हैमर्स की लीग में दूसरी जीत दिला दी। इस जीत से हरियाणा की टीम मुंबई के साथ टाप पर आ गई है। मुंबई और हरियाणा के चार अंक हैं। दोनों ने दो-दो मुकाबले खेले हैं और दोनों ही जीते हैं। बंगलुरु की लीग में यह दूसरी हार है। उसने अब तक तीन मुकाबले लड़े हैं। अंकतालिका में उसके दो अंक हैं। पंजाप और दिल्ली के भी दो-दो अंक हैं, जबकि उत्तर प्रदेश को अभी अंकों का खाता खोलना है।

पेशेवर कुश्ती लीग में गुरु और चेले की यह कुश्ती बुधवार का सबसे बड़ा आकर्षण भी रही। बंगलुरु योद्धा के बजरंग योगेश्वर को अपना गुरु मानते हैं और उनकी गैर मौजूदगी में भारतीय टीम में चुने जाने के बाद विश्व चैंपियनशिप में उन्होंने पदक जीतने का वह कमाल कर दिखाया था। यह कमाल योगेश्वर आज तक नहीं कर पाए हैं। पुरुषों के 65 किलो वर्ग में हयात होटल के अखाड़े में दोनों पहलवान उतरे तो निगाहें योगेश्वर पर थीं। योगेश्वर घुटने के चोट से उबर रहे हैं और अगर इस भार वर्ग में भारत ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करता है तो इन दोनों के बीच ही ट्रायल होगा और जो जीतेगा वह ओलंपिक में भारत की नुमाइंदगी करेगा। इस नजरिए से भी यह कुश्ती दोनों ही पहलवानों के लिए महत्त्वपूर्ण थी। योगेश्वर जीते जरूर लेकिन बजरंग ने उन्हें जोरदार टक्कर दी। योगेश्वर ने हालांकि अंतिम क्षणों में खुद को संयमित रखा और बजरंग को अंक बनाने से दूर रखा। एक समय बजरंग 2-1 से बढ़त बना चुके थे। दोनों ही पहलवान एक-दूसरे के दांव-पेंच को अच्छी तरह समझते हैं इसलिए दोनों पहलवान पहले दौर में एक-दूसरे को परखते ही रहे।

गेश्वर ने हालांकि दूसरे मिनट पर दांव लगाया जरूर पर बजरंग ने उन्हों कोई मौका नहीं दिया। नतीजे में योगेश्वर ने एक अंक तो बनाया लेकिन बजरंग ने उन्हें और ज्यादा अंक बनाने से दूर रखा। दूसरे दौर में योगेश्वर ने अपना सबसे आजमाए हुए दांव लगाया लेकिन बजरंग ने उसकी काट कर उन्हें अपने दांव में उलझा कर दो अंक बटोर लिए। बजरंग उलटफेर के नजदीक थे लेकिन तभी योगेश्वर ने 38 सेकंड बाकी रहते अपने अनुभव का फायदा उठाया और बेहतरीन तरीके से दांव लगा कर दो अंक बना कर कुश्ती जीत ली। अंतिम कुछ सेकंड में बजरंग ने बराबरी की कोशिश जरूर की लेकिन योगेश्वर ने उन्हें अपने पास नहीं आने दिया। इस जीत से हरियाणा की जीत भी पक्की हो गई। सात मुकाबले में हरियाणा ने 4-1 की अजेय बढ़त ले ली थी। जीत के बाद योगेश्वर ने माना कि मुकाबला काफी मुश्किल रहा। बजरंग ने भी काफी अच्छी कुश्ती लड़ी। हम दोनों ने अपना सौ फीसद अखाड़े में दिया।

दिन की दूसरी बड़ी कुश्ती 74 किलो वर्ग में विश्व चैंपियनशिप में भारत के लिए ओलंपिक का टिकट दिलाने वाले बंगलुरु योद्धा के नरसिंह यादव और हरियाणा हैमर्स के क्यूबाई पहलवान लीवान लोपेज के बीच रही। नरसिंह ने लीवान को विश्व चैंपियनशिप में धूल चटाई थी। नरसिंह ने अब तक दो कुश्तियां लड़ी हैं और दोनों ही जीता है। लीवान ने भी अपना पहला मुकाबला दिल्ली में जीता था। नरसिंह ने मुकाबला 8-5 से जीत कर हैट्रिक पूरी की। पहले दौर से ही नरसिंह ने अपना दबदबा बनाया और बढ़त बनाई। दूसरे दौर में लीवान ने शानदार वापसी करते हुए चार अंक जुटा कर 5-4 की बढ़त बना ली थी। तब समय करीब एक मिनट का बाकी था। नरसिंह ने अंतिम बीस सेकंड में अपनी कलाकारी दिखाई और चार अंक बना कर मुकाबला जीत कर टीम के हार के अंतर को कम किया। हरियाणा ने मुकाबला 4-3 से जीता। नरसिंह ने कहा कि लीग में अब तक अपने सभी मुकाबले जीतने पर कहा कि इससे उन्हें उनकी अपनी ओलिंपिक तैयारियों को बल मिलेगा।

पेश्वर कुश्ती लीग में बुधवार को हरियाणा हैमर्स को नितिन राठी ने बेहतरीन शुरुआत दिलाई। दोनों के बीच मुकाबला काफी रोमांच रहा। जूनियर विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक विजेता नितिन राठी की शुरुआत हालांकि धीमी रही। राष्ट्रमंटल खेलों में 57 किलोग्राम वर्ग के स्वर्ण पदक विजेता संदीप तोमर ने जोरदार शुरुआत की लेकिन नितिन ने बहुत ज्यादा मौके नहीं दिए। पहले दौर में नितिन 0-1 से पिछड़ रहे थे लेकिन नितिन ने दूसरे दौर में आक्रामक शुरुआत की। पहले उन्होंने दो अंक लिए और फिर चांर अंक लेकर बढ़त 7-1 कर दी। हालांकि इसे लेकर बंगलुरु ने चुनौती दी लेकिन चुनौती को मैच के अधिकारियों ने गलत पाया और नितिन को पांच अंक दे दिया।

ब लगा था कि नितनि इस मुकाबले को एकतरफा बना डालेंगे। लेकिन संदीप ने शानदार वापसी की। एक समय उन्होंने नितिन की धड़कनें बढ़ा दी होंगी। संदीप ने कुछ बेहतरीन दांव लगा कर सात अंक बटोरे। इस बीच नितिन ने भी दो अंक बना कर अपनी बढ़त बनाए रखी। अंतिम कुछ सेकंड में संदीप ने जोरदार कोशिश की लेकिन नितिन ने कोई मौका नहीं दिया और मुकाबला 9-8 से जीत कर टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई। विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता तात्याना किट को ललिता सहरावत को हराने में किसी तरह की दिक्कत नहीं हुई। पहले दौर में 4-0 की बढ़त लेने के बाद दूसरे दौर में उन्होंने ललिता को चित कर मुकाबला अपने नाम किया और टीम को 2-0 से आगे कर दिया। लेकिन बंगलुरु के पावलो ओलिमनिक ने शानदार कुश्ती लड़ी और अर्जेंटीना के यूरी मेयर को पहले दौर में ही पछाड़ कर टीम की उम्मीदों को बनाए रखा।

महिलाओं के सुपर हैवीवेट (69 किलोग्राम) वर्ग में गीतिका जाखड़ ने नवजौत कौर को नजदीकी मुकाबले में फतह किया। पहले दौर में गीतिका 1-0 से आगे थीं। लेकिन दूसरे दौर में नवजोत ने वापसी की और बेहतरीन दांव के साथ तीन अंक बटोरे। अनुभवी गीतिका ने अंतिम दस सेकंड में जोर लगाया और दो अंक लेकर कुश्ती क बराबरी पर ला दिया। लेकिन अंतिम अंक लेने की वजह से उन्हें विजेता घोषित किया गया। महिलाओं के वर्ग में बंगलुरु की यूलिया रातकेविच ने हरियाणा की स्टार पहलवान विश्व चैंपियन ओक्साना हरहेल के खिलाफ एकतरफा जीत दर्ज की। पहले दौर में 5-0 से आगे यूलिया ने मुकाबला 11-0 से जीता। इस साल विश्व चैंपियनशिप लास वेगास में पांच सितारा होटल में आयोजित की गई थी। भारत में यह पहला मौका है जब कुश्ती के मुकाबले पांच सितारा होटल हयात में हो रहे हैं। इस मौके पर फिल्म अभिनेत्री मल्लिका सेहरावत भी मौजूद थीं और हरियाणी टीम का हौसला बढ़ा रहीं थीं।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories