ताज़ा खबर
 

डीडीसीए से इलाज के पैसे वसूलने में मुंबई इंडियंस के इस गेंदबाज के छूट रहे पसीने

दिल्ली के तेज गेंदबाज प्रदीप सांगवान ने पिछले साल जून में लंदन में अपनी रीढ़ की हड्डी की सर्जरी कराई थी, लेकिन अब उन्हें दिल्ली और जिला क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) से इलाज कै पैसे निकालने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

प्रदीप सांगवान। (फाइल फोटो – फेसबुक)

दिल्ली के तेज गेंदबाज प्रदीप सांगवान ने पिछले साल जून में लंदन में अपनी रीढ़ की हड्डी की सर्जरी कराई थी, लेकिन अब उन्हें दिल्ली और जिला क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) से इलाज कै पैसे निकालने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। प्रदीप सांगवान डीडीसीए से इलाज की पूरी रकम चाहते हैं, लेकिन डीडीसीए आधी देने के लिए मान गई है। डीडीसीए ने कहा है कि वह सांगवान की सर्जरी का आधा खर्च दे सकती है। डीडीसीए प्रशासन वर्तमान में हाईकोर्ट के द्वारा नियुक्त जस्टिस विक्रमजीत सेन की देखरेख में काम करता है। 27 वर्षीय गेंदबाज ने बताया कि उनकी सर्जरी में 22 लाख रुपये खर्च हुए, लेकिन डीडीसीए इसकी भरपाई करने की इच्छा नहीं जता रहा है, जबकि उसके खिलाड़ी की देखभाल की जिम्मेदारी उसी की है। सांगवान ने गुरुवार को टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा- ”वे एक पाई भी नहीं चुकाना चाहते हैं। लेकिन जब बीसीसीआई के जीएम (गेम डिवेलपमेंट) रत्नाकर शेट्टी ने उन्हें लिखा, वे मुझे आधी रकम देने के लिए तैयार हो गए। मुझे कहा गया है कि मैं बाकी रकम के लिए हकदार नहीं हूं।”

प्रदीप सांगवान ने आगे कहा- ”वरिष्ठ खिलाड़ियों ईशांत शर्मा और गौतम गंभीर ने भी उनके लिए बात की थी, लेकिन सरकारी संस्था ने इसे नजर अंदाज कर दिया और वर्तमान में मिस्टर सेन उपलब्ध नहीं है, जिससे वह बेचैन हो गए हैं।” वहीं जस्टिस सेन ने कहा- ”अगर उन्हें (प्रदीप सांगवान को) लगता है कि वह हकदार हैं तो उन्हें अच्छे प्रतिनिधित्व के साथ हमारे पास आने दो। हम उनके लिए नियम नहीं तोड़ सकते हैं। अगर हमें महसूस होगा कि वह पूरी रकम के हकदार हैं तो उन्हें वह मिलेगी।”

वहीं बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि इस मामले के बारे में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने नियम नहीं लिखे हैं, लेकिन बोर्ड डीडीसीए को स्थिति समझाने की कोशिश कर रहा है। प्रदीप सांगवान फिलहाल मुंबई इंडियंस टीम का हिस्सा हैं और आईपीएल में खेलने की तैयारी कर रहे हैं। मुंबई इंडियंस ने उन्हें डेढ़ करोड़ में खरीदा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App