पाक पीएम, पीसीबी अध्यक्ष के बाद अब पूर्व स्पिनर ने भी रोया पैसों का रोना, कहा- BCCI के दबाव में ICC ने रविचंद्रन अश्विन को छोड़ा, मुझे बैन किया

उन्होंने पीसीबी को वित्तीय रूप से मजबूत बनाने पर जोर देते हुए कहा था, ‘आईसीसी को अधिकांश राजस्व बीसीसीआई से मिलता है। मुझे डर है कि अगर भारत फंडिंग रोक देता है, तो पीसीबी ध्वस्त हो सकता है. क्योंकि आईसीसी को पाकिस्तान से कुछ भी फंडिंग नहीं होती है।’

rameez raja Saeed Ajmal imran khan ICC BCCI PCB
कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में रमीज राजा पीसीबी को वित्तीय रूप से मजबूत बनाने पर जोर दे रहे थे। (सोर्स- ट्विटर)

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष रमीज राजा के बाद अब उनकी ही टीम के पूर्व स्पिनर सईद अजमल ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के धनी होने को लेकर रोना रोया है। सईद अजमल ने कहा, बीसीसीआई के पास बहुत पैसा है। पैसा ही सबकुछ है। इससे स्पॉन्सर भी मिलते हैं। यही वजह है कि बीसीसीआई आर्थिक रूप से टिका हुआ है।

अजमल ने निजी टीवी चैनल के साथ बातचीत में फेमस स्पिन तकनीक दूसरा पर भी बात की। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने अजमल के दूसरा पर प्रतिबंध लगा दिया था। अजमल ने कहा कि आईसीसी ने भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को मुझ पर चार्ज लगाने से पहले छह महीने के लिए गेंदबाजी करने से रोक दिया था। अश्विन को छह माह का रेस्ट करने के लिए कहा गया, जबकि मुझे और मोहम्मद हफीज को किनारे लगा दिया गया।

पूर्व क्रिकेटर ने दावा किया कि भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और गेंदबाज हरभजन सिंह की गेंदबाजी में भी समस्या थी। वे भारत से आते हैं और उनके बोर्ड के पास पैसा है, स्पॉन्सर हैं। पैसा ही सबसे ऊपर होता है। यह वजह है कि उनके खिलाड़ियों को किसी तरह के विवाद का सामना नहीं करना पड़ा।

बता दें कि बीसीसीआई को लेकर पाकिस्तान क्रिकेट में कई तरह की बातें होती रहती हैं। आईसीसी के ऊपर भी आरोप लगते रहे हैं। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और टीम के पूर्व कप्तान इमरान खान भी कह चुके हैं कि भारत दुनिया में क्रिकेट को नियंत्रित करता है। इसके पीछे वजह सिर्फ पैसा है। वे जो भी चाहते हैं वही होता है। न्यूजीलैंड और इंग्लैंड ने पाकिस्तान के साथ जो किया है, भारत के साथ कोई भी देश ऐसा करने की हिम्मत नहीं जुटा सकता।

इससे पहले पीसीबी अध्यक्ष रमीज राजा ने भी कहा था कि भारत के पास पैसा है और आईसीसी को सबसे ज्यादा राशि वहीं से मिलती है। राजा ने कहा था कि पीसीबी के बजट का 50 फीसदी हिस्सा आईसीसी से मिलने वाले अनुदान से आता है।

उन्होंने पीसीबी को वित्तीय रूप से मजबूत बनाने पर जोर देते हुए कहा था, ‘आईसीसी को अधिकांश राजस्व बीसीसीआई से मिलता है। मुझे डर है कि अगर भारत फंडिंग रोक देता है, तो पीसीबी ध्वस्त हो सकता है. क्योंकि आईसीसी को पाकिस्तान से कुछ भी फंडिंग नहीं होती है।’

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट