ताज़ा खबर
 

Asian Games 2018: डिसक्‍वॉलिफाई होने वाले एथलीट को भी सरकार ने दिया इनाम, सहवाग ने खूब सराहा

Asian Games 2018 Medal Tally, Medal Table: भारतीय एथलीट गोविंदन लक्ष्मणन 18वें एशियाई खेलों के 12वें दिन गुरुवार को पुरुषों की 5000 मीटर स्पर्धा में निराशाजनक प्रदर्शन कर छठे स्थान पर रहे। 28 साल के गोविंदन ने 14 मिनट 17.09 सेकेंड का समय लेकर छठा स्थान हासिल किया। गोविंदन ने इससे पहले 10,000 मीटर स्पर्धा में कांस्य पदक जीता था।

खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ , एथलीट गोविंदन लक्ष्मणन और वीरेंद्र सहवाग।

Asian Games 2018: खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने भारतीय एथलीट गोविंदन लक्ष्मणन को गुरुवार को 10 लाख रुपये की इनामी राशि दी। राठौड़ ने इसके साथ ही लक्ष्मणन के प्रदर्शन को मान्यता दी जो एशियाई खेलों की 10 हजार मीटर दौड़ में तीसरे स्थान पर रहे थे लेकिन बाद में उन्हें डिस्क्वॉलिफाइ कर दिया गया। एक अन्य खिलाड़ी के जूते की स्पाइक लगने के कारण लक्ष्मणन कुछ क्षण के लिए ट्रैक से बाहर चले गए थे। भारत ने दो स्तर पर डिक्वॉलीफिकेशन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया लेकिन उसकी अपील को ठुकरा दिया गया। खेल मंत्रालय ने बयान में कहा कि इस खिलाड़ी को पदक हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत जारी रखने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से युवा मामलों और खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने उसे 10 लाख रुपये की पुरस्कार राशि दी। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के इस फैसले की सराहना करते हुए तारीफ की है।

सहवाग ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ”एशियाई खेलों में भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल पाने वाले गोविंदन लक्ष्मणन के लिए मैं बेहद खुश हूं। लक्ष्मणन का पैर कुछ क्षण के लिए ट्रैक से बाहर चला गया था इस वजह से वह डिस्क्वॉलिफाइ करार दे दिए गए थे। इसके बावजूद खेल मंत्री ने लक्ष्मणन को 10 लाख रुपये का चेक दिया, खेल मंत्री का यह फैसला दूसरे खिलाड़ियों के एक सुनहरे कल की ओर ईशारा कर रहा है। ”

बता दें कि भारतीय एथलीट गोविंदन लक्ष्मणन 18वें एशियाई खेलों के 12वें दिन गुरुवार को पुरुषों की 5000 मीटर स्पर्धा में निराशाजनक प्रदर्शन कर छठे स्थान पर रहे। 28 साल के गोविंदन ने 14 मिनट 17.09 सेकेंड का समय लेकर छठा स्थान हासिल किया। गोविंदन ने इससे पहले 10,000 मीटर स्पर्धा में कांस्य पदक जीता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App