ताज़ा खबर
 

सानिया-हिंगिस की जोड़ी को इतालवी ओपन का खिताब

सानिया और हिंगिस की शीर्ष वरीयता प्राप्त जोड़ी ने मकारोवा और वेसनीना की सातवीं वरीय रूसी जोड़ी को डेढ़ घंटे तक चले मैच में 6-1, 6-7, 10-3 से हराया

Author रोम | May 15, 2016 11:41 PM
भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और उनकी स्विस जोड़ीदार मार्तिना हिंगिस (फाइल फोटो पीटीआई)

भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और स्विट्जरलैंड की उनकी जोड़ीदार मार्टिना हिंगिस ने रविवार (15 मई) को यहां एक संघर्षपूर्ण मैच में एकातेरिना मकरोवा और इलेना वेसनीना की जोड़ी को हराकर डब्लूटीए इतालवी ओपन में महिला युगल का खिताब जीता जो क्लेकोर्ट पर उनकी पहली खिताबी जीत भी है। सानिया और हिंगिस की शीर्ष वरीयता प्राप्त जोड़ी ने मकारोवा और वेसनीना की सातवीं वरीय रूसी जोड़ी को डेढ़ घंटे तक चले मैच में 6-1, 6-7, 10-3 से हराया और इस तरह से फरवरी के बाद अपना पहला खिताब जीता। विंबलडन, यूएस ओपन और ऑस्ट्रेलियाई ओपन जीतने वाली सानिया और हिंगिस की निगाह अब फ्रेंच ओपन जीतकर लगातार चारों ग्रैंडस्लैम जीतने का रेकॉर्ड अपने नाम करने पर लगी है।

सानिया का यह 37वां युगल खिताब है जबकि हिंगिस ने अपना 55वां खिताब हासिल किया। टीम के रूप में इन दोनों का यह इस सत्र में पांचवां खिताब है। क्ले कोर्ट सत्र शुरू होने के बाद सानिया और हिंगिस लगातार तीसरी बार फाइनल में पहुंची थी लेकिन पोर्श टेनिस ग्रां प्री और मैड्रिड ओपन दोनों के फाइनल में कैरोलिन गार्सिया और क्रिस्टीना म्लादेनोविच से हार झेलनी पड़ी थी। फ्रेंच ओपन से पहले हालांकि इस जीत से उनका रोलां गैरां के लिए मनोबल बढ़ेगा।

सानिया और हिंगिस ने पहले सेट में पूरा दबदबा बनाए रखा। उन्होंने 2013 की फ्रेंच ओपन चैंपियन टीम की दो बार सर्विस तोड़ी। इस बीच रूसी जोड़ी एक बार भी ब्रेक प्वाइंट लेने की स्थिति में नहीं पहुंची। दूसरा सेट हालांकि काफी कड़ा रहा। सानिया और हिंगिस ने हालांकि तीसरे गेम में ब्रेक प्वाइंट लेकर 2-1 से बढ़त बना ली लेकिन अगले गेम में वे अपनी सर्विस नहीं बचा पाईं।

वेसनीना ने इस बीच कुछ अच्छे रिटर्न किए जिससे स्कोर 5-5 से बराबरी पर पहुंच गया। टाईब्रेक में रूसी जोड़ी ने शुरू में ही 4-0 की बढ़त बना दी। सानिया और हिंगिस ने स्कोर 4-5 करके वापसी की। लेकिन आखिर में वेसनिना की वाली से रूसी जोड़ी ने टाईब्रेकर 7-5 से जीतकर यह सेट अपने नाम किया। सानिया और हिंगिस ने सुपर टाईबे्रक में अपने अनुभव का अच्छा इस्तेमाल किया। उन्होंने 8-3 से बढ़त बनाकर रूसी टीम पर दबाव बना दिया था। मकारोवा ने वाली नेट पर मार दी जिससे भारतीय-स्विस जोड़ी ने खिताब जीत लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X