रियो ओलंपिक में रूसी एथलीटों की भागीदारी पर खतरा, रूसी सुरक्षाबलों ने दी थी डोप अधिकारियों को धमकी - Jansatta
ताज़ा खबर
 

रियो ओलंपिक में रूसी एथलीटों की भागीदारी पर खतरा, रूसी सुरक्षाबलों ने दी थी डोप अधिकारियों को धमकी

अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ दो दिन बाद वियना में होने वाली बैठक में फैसला लेगा कि रूसी एथलीटों को रियो दि जिनेरियो ओलंपिक में भाग लेने की अनुमति देनी है या नहीं।

Author लॉस एंजीलिस | June 16, 2016 2:33 PM
रियो ओलंपिक का आयोजन ब्राजील के रियो दि जिनेरियो में किया गया।

विश्व डोपिंग निरोधक एजेंसी (वाडा) ने खुलासा किया है कि इस साल रूसी खिलाड़ियों के डोप टेस्ट करने के सैकड़ों प्रयास नाकाम रहे। वाडा ने यह सनसनीखेज रिपोर्ट रूस की ओलंपिक में भागीदारी पर अहम फैसला आने से कुछ दिन पहले ही जारी की है। डोप टेस्ट करने वाले अधिकारियों को रूसी सुरक्षाबलों से धमकियां मिली जबकि खिलाड़ी विभिन्न तकनीकों के सहारे डोपिंग टेस्ट से बचते रहे।

अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ दो दिन बाद वियना में होने वाली बैठक में फैसला लेगा कि रूसी एथलीटों को रियो दि जिनेरियो ओलंपिक में भाग लेने की अनुमति देनी है या नहीं। वाडा की इस ताजा रिपोर्ट से हालांकि देश में खेलों में पैठ बना चुके डोपिंग के चलन को खत्म करने के प्रयास करने के रूस के दावों पर फिर सवाल उठने लगे हैं।

वाडा की रिपोर्ट में कहा गया है कि 15 फरवरी से 29 मई तक 736 से अधिक टेस्ट विभिन्न कारणों से रद्द करने पड़े। अधिकारियों ने कहा कि सैन्य शहरों में डोप टेस्ट करने के उनके प्रयास नाकाम रहे क्योंकि उन्हें देश से बाहर निकालने की धमकियां भी दी गई। इसमें यह भी बताया कि किस तरह खिलाड़ियों ने अलग अलग तरीकों से डोप टेस्ट से बचने के प्रयास किए। एक बार एक महिला खिलाड़ी ने मूत्र के नमूने से भरा कंटेनर जमीन पर फेंक दिया और अधिकारी को रिश्वत देने की कोशिश भी की। वहीं एक खिलाड़ी तो अधिकारी से बचने के लिए मिक्स जोन में दौड़ गया।

एक अन्य खिलाड़ी रेस के दौरान स्टेडियम से रफूचक्कर हो गया और फिर नहीं मिला। रिपोर्ट में कहा गया कि 27 फरवरी को राष्ट्रीय पैदलचाल चैम्पियनशिप के दौरान 15 खिलाड़ियों ने या तो भाग नहीं लिया, या नाम वापिस ले लिया या अयोग्य करार दिये गए। एक अन्य घटना में आइस हाकी विश्व चैम्पियनशिप के दौरान रूस की पूरी अंडर 18 टीम को अंडर 17 टीम से बदल दिया गया जिसकी वजह प्रतिबंधित दवा मेल्डोनियम का इस्तेमाल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App